Tuesday, Jun 28, 2022
-->
delhi-collected-the-highest-ever-revenue-from-ticket-checking-8-crores-389-employees-honored

दिल्ली ने टिकट चेकिंग से जुटाया अब तक का सबसे ज्यादा राजस्व, आठ करोड़, 389 कर्मचारी किए सम्मानित 

  • Updated on 6/22/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश में बोरी बंदर और ठाणे के बीच पहली ट्रेन के चलने के उपलक्ष्य में भारतीय रेलवे हर साल रेलवे सप्ताह मनाता है और इस वर्ष उत्तर रेलवे के दिल्ली मंडल ने रेलवे सप्ताह समारोह मनाया व मंडल पुरस्कार वितरित किए। समारोह की अध्यक्षता मंडल रेल प्रबंधक डिम्पी गर्ग ने की। 
        महाप्रबंधक स्तर पर रेलवे सप्ताह पुरस्कारों के दौरान, दिल्ली मंडल को सभी क्षेत्रों में महाप्रबंधक द्वारा सर्वश्रेष्ठ कार्य निष्पादन से सम्मानित किया गया, तथा 12 अन्य शील्ड अवार्ड प्राप्त किए गए। समारेाह में एडीआरएम अनिरुद्ध कुमार, हमेंद्र कुमार, वीके सिंह, अनुपम सिंह सहित अन्य वरिष्ठ रेलवे अधिकारी, कर्मचारी, मान्यताप्राप्त यूनियन के सदस्य कार्यक्रम मौजूद रहे। 
      मंडल रेल प्रबंधक डिम्पी गर्ग ने उपलब्धियों के लिए अधिकारियों और कर्मचारियों की सराहना की और कहा कि हरित ऊर्जा की दिशा में दिल्ली मंडल ने 1.293 मेगावॉट रूफटॉप सोलर प्लांट सिस्टम शुरू किया जिससे 14.15 लाख किलोवाट प्रति वर्ष की बचत हुई है, जो कि 77.87 लाख रूपए बचाएगा। सौ फीसदी रेल विद्युतीकरण हासिल करने वाला उत्तर रेलवे का पहला मंडल है। इस अवसर पर उल्लेखनीय कार्य करने वाले 389 कर्मचारियों को सम्मानित किया गया।  
        दिल्ली मंडल के उल्लखनीय कार्य पिछले वित्तीय वर्ष के दौरान 13 फाटक समाप्त किए, 23 सड़क के नीचे के पुलों, सीमित ऊंचाई के सबवे, सड़क के ऊपर पुलों का निर्माण किया। कुल 534 किलोमीटर पर अनुभागीय गति बढ़ाई गई। नई दिल्ली-अंबाला सेक्शन पर 110 किमी प्रति घंटे से 130 किमी प्रति घंटे और पलवल-हजरत निजामुद्दीन, गाजियाबाद, अम्बाला, पानीपत, पलवल सेक्शन पर मालगाडिय़ो की आवाजाही 75 किमी प्रति घंटे तक बढ़ाई गई। कुल 2.4 लाख पेड़ लगाए गए हैं। डिम्पी गर्ग ने बताया कि नवंबर 2021 के दौरान टिकट चेकिंग से 8.01 करोड़ रुपए राजस्व जुटाए, मालभाडा से 3104.40 करोड़ जुटाए। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.