Friday, Jan 28, 2022
-->
Election Commission is reducing the period of objection for a political party: Raghav Chadha

एक राजनीतिक पार्टी के लिए चुनाव आयोग घटा रहा है ऑबजेक्शन की अवधि: राघव चड्ढा

  • Updated on 1/13/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता, पंजाब के सहप्रभारी राघव चड्ढा ने आरोप लगाया है कि पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने से रोकने के लिए भाजपा के दवाब में चुनाव आयोग राजनीतिक पार्टी के पंजीकरण की प्रक्रिया में बड़े बदलाव कर रहा है। आजाद भारत के इतिहास में पहली बार चुनाव आयोग एक राजनीतिक पार्टी के पंजीकरण के लिए विशेष बदलाव करते हुए ऑब्जेक्शन की 30 दिन की अवधि को घटाकर 7 दिन कर रहा है। 
       आचार संहिता लगने के बाद चुनाव से महज 25 दिन पहले राजनीतिक पार्टी का पंजीकरण करने जा रहा है। उन्होंने कहा कि सबसे बड़ा सवाल है कि ऐसी क्या जरूरत पड़ गई कि कानूनों को बदलकर रातों रात विशेष राजनीतिक पार्टी को पंजीकृत कराने के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं। राजनीतिक पार्टी जो पंजीकृत होगी वह देश की जनता के सामने भारतीय जनता पार्टी और अमित शाह से रिश्ते सार्वजनिक करे। भारतीय जनता पार्टी ने पहले सोचा कि शिरोमणि अकाली दल, कांग्रेस और अमरिंदर सिंह को आगे करके आम आदमी पार्टी को रोक सकते हैं, लेकिन आम आदमी पार्टी नहीं रुकी तो नई पार्टी का पंजीकरण करवा रहे हैं।
         आम आदमी पार्टी के पंजाब सह प्रभारी और विधायक राघव चड्ढा ने राजनीतिक पार्टी के पंजीकरण करने से पहले 30 दिन की एक समय सीमा होती है, जिसे ऑब्जेक्शन अवधि कहा जाता है। यानी कि 30 दिन तक लोग उस राजनीतिक पार्टी के पंजीकरण पर अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं। भारत का चुनाव आयोग एक विशेष ट्रीटमेंट करते हुए इसे घटाकर सात दिन कर रहा है। यानी कि एक तिहाई से कम कर रहा है। एक विशेष राजनीतिक पार्टी के पंजीकरण को लेकर ऐसा किया जा रहा है। दूसरा बड़ा बदलाव आचार संहिता लगने के बाद, चुनाव से महज 25 से 27 दिन पहले राजनीतिक पार्टी का पंजीकरण करने जा रहा है।

आप के सवाल...
-भाजपा किस पार्टी को पंजीकृत कराकर फरवरी में होने वाले चुनावों में उताराना चाहती है। वह कौन सी पार्टी जिसके लिए हो रहे हैं ये प्रावधान। 
-ऐसी क्या जरूरत पड़ गई कि कानूनों को बदलकर रातों रात विशेष राजनीतिक पार्टी को पंजीकृत करवा रहे हैं। 
-पार्टी पंजीकृत होने के बाद किसे होगा फायदा, किसे होगा नुकसान। 
-जनता के सामने भाजपा, अमित शाह से अपने रिश्ते सार्वजनिक करें। 
 

comments

.
.
.
.
.