Thursday, Sep 23, 2021
-->

सार्वजनिक परिवहन सेवा में महिला सुरक्षा को और बेहतर करने पर जोर

  • Updated on 3/29/2017

Navodayatimesनई दिल्ली/ब्यूरो। दिल्ली में सार्वजनिक वाहनों और टैक्सी में सफर करने वालों को सुरक्षित, आरामदायक और सस्ती सेवा उपलब्ध हो इसे लेकर परिवहन व्यवस्था में सुधार और नए नियम लागू किए जाने की जरूरत है। यह कहना था इंडिया हैबिटेट सेंटर में आयोजित नेशनल कॉन्फ्रेंस में शामिल हुए वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और विशेषज्ञों का।

क्राइम ब्रांच ने जब्त किए 8 करोड़ के पुराने नोट, व्यापारी गिरफ्तार

27 व 28 मार्च को आयोजित इस नेशनल कॉन्फ्रेंस का आयोजन सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के सहयोग से सड़क यातायात शिक्षा संस्थान ने किया था। इसमें वक्ता के रूप में विशेष पुलिस आयुक्त संजय बेनीवाल, संयुक्त पुलिस आयुक्त गरिमा भटनागार, अंतर्राष्ट्रीय सड़क फेडरेशन के चेयरमैन केके कपिला और सड़क यातायात शिक्षा संस्थान के निदेशक डॉ रोहित बलूजा ने उपस्थित लोगों को संबोधित किया। कार्यक्रम  में विशेष रूप से महिला सुरक्षा व्यवस्था में और सुधार के लिए और नियम और सुविधा बढ़ाने पर जोड़ दिया गया। 

कार्यक्रम के संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि जरूरी है कि सार्वजनिक परिवहन सेवा में केंद्र सरकार की ओर ले लागू सभी प्रकार से तकनीकि सुरक्षा उपायों की सिफारिशों को सख्ती से लागू किया जाय। 

इसके साथ ही परिवहन सेवा देने वाले ऑपरेटर्स और चालकों को विशेष प्रशिक्षण दिए जाने पर भी जोड़ दिया। वक्ताओं ने कहा कि चालकों को शहर के सभी प्रमुख मार्ग और पर्यटन स्थलों के बारे में जानकारी होनी चाहिए। ताकि सफर करने वाले आम लोग और पर्यटकों को बेहतर सेवा प्राप्त हो सके। 

इसके अलावा सभी वाहनों में वाहन के डैश बोर्ड पर कैमरा इंस्टौल होना, पीछे की सीट के गेट में चाइल्ड लॉक, पैनिक बटन जैसी सुविधा अनिवार्य किए जाने पर बल दिया गया। मंगलवार को कार्यक्रम में यातायात सुरक्षा पर बोलते हुए ट्रैफिक की संयुक्त पुलिस आयुक्त गरिमा भटनागर ने कहा कि सबसे ज्यादा जरूरी है, चालकों का ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरूक होना।

वाहन चलाते हुए लेन का ध्यान रखना, सही स्थान पर पार्किंग, सही स्थान पर सवारी को उतारने और बिठाने की जाकारी होने के साथ ही उन्हें ट्रैफिक नियमों की भी सामान्य जानकारी होनी चाहिए। इसके साथ ही सवारियों के साथ किए जाने वाले व्यवहार पर ध्यान देना चाहिए। क्योंकि आए दिन पुलिस को इसकी शिकायतें मिलती रहती है।

खुद की जमीन के बावजूद किराए पर चल रहा है अस्पताल

कार्यक्रम के दौरान शामिल हुए टैक्सी चालकों, ऑपरेटरों को परिवहन मंत्रालय की ओर से पुस्तिकाएं उपलब्ध कराई गई जिसमें, सार्वजनिक परिवहन से संबंधित नियम और कोड ऑफ कंडक्ट के बारे मे जानकारी दी गई है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.