Wednesday, Oct 27, 2021
-->
hindi-language-science-needs-to-be-known-dr-rajni

हिंदी भाषा की वैज्ञानिकता जानना जरूरी: डाॅ रजनी

  • Updated on 9/17/2021

नई दिल्ली। टीम डिजिटल। दिल्ली विश्वविद्यालय के दीनदयाल उपाध्याय महाविद्यालय एनसीवेब केंद्र द्वारा आयोजित हिंदी पखवाडा कार्यक्रम का समापन किया गया। इस दौरान महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. हेमचंद जैन तथा केंद्र के शिक्षक प्रभारी डाॅ. सुनील कुमार मौजूद रहे। कार्यक्रम का संयोजन डाॅ. प्रीति सिंह व डाॅ. अर्चिता सिंह ने किया। इस दौरान बतौर मुख्य वक्ता के रूप में पंजाबी विश्वविद्यालय में हिंदी की सहायक आचार्य डाॅ. रजनी रहीं। उन्होंने कहा कि हिंदी भाषा की वैज्ञानिकता जानना बेहद जरूरी है खासकर हिंदी की छात्राओं के लिए। इस दौरान उन्होंने हिंदी भाषा की वैज्ञानिकता से छात्राओं को परिचित करवाया।
हवेली जो कभी थी दिल्ली की पहली कचहरी

हिंदी के बढते महत्व को छात्राओं को समझाया
वहीं पंजाबी विश्वविद्यालय की हिंदी की सहायक आचार्य डाॅ. नीतू ने आधुनिक समय में हिंदी के बढते महत्व को छात्राओं को बताया। बाबा साहब भीमराव अंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय लखनऊ के सहायक आचार्य डाॅ. बलजीत कुमार श्रीवास्तव ने हिंदी में रोजगार के अनेक संभावनाओं के बारे में छात्राओं को अवगत कराया। कार्यक्रम में शिक्षक-शिक्षार्थी की साझा वैचारिकी में डाॅ. सुनील कुमार, कीर्ति व पंडित प्रकाश ने अपने-अपने विचार रखे। इस दौरान छात्राओं के लिए स्वरचित काव्य पाठ प्रतियोगिता भी रखी गयी जिसमें छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। छात्राओं ने हिंदी पखवाड़े के माध्यम से यह समझा कि आज के वैश्विक परिदृश्य में हिंदी आपने शिखर पर पहुँचती हुई दृष्टिगत हो रही है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.