Wednesday, Oct 16, 2019
in-the-name-of-providing-jobs-fraud-with-people

नौकरी दिलाने के नाम पर लोगों से धोखाधड़ी

  • Updated on 11/7/2016

नई दिल्ली, (ब्यूरो): साइबर सिटी में नौकरी लगाने के नाम पर ठगी करने वालों का गिरोह सक्रिय हो गया है। गिरोह के सदस्य फर्जी ज्वाइंनिग लेटर बनाकर बेरोजगारों को देकर मोटी रकम कमा रहे हैं। वहीं पीड़ित को ठगे जाने का अहसास तब होता है जब संबंधित कंपनी उन्हें हकीकत बताती है।

ये भी पढ़ें-अब 2 मिनट में बुक करें तत्काल टिकट

कुछ ऐसा ही मामला सिटी के सुशांतलोक थाना एरिया में सामने आया है। एक कंपनी के चीफ सिक्योरिटी ऑफिसर की शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार सुशांतलोक थाना एरिया के सेक्टर-44 में बेस्टैक कंपनी का ऑफिस है। पिछले 4 नवम्बर को कुछ युवक कंपनी  के लेटरपैड पर ज्वाइंनिग लेटर लेकर पहुंच गए। कंपनी के अधिकारियों ने जब कंपनी का लेटरपैड देखा तो उन्हें कुछ शक हुआ।

अधिकारियों ने युवकों को बताया कि यहां कोई जॉब ऑफर नहीं है और उन्हें धोखा दिया गया है। जब युवकों को ठगी का अहसास हुआ तो वे बैरंग लौट आए। वहीं कंपनी के अधिकारियों ने इसे गंभीरता से लेते हुए सुशांतलोक थाना में शिकायत दी।कंपनी के चीफ सिक्योरिटी ऑफिसर चंद्रपाल यादव ने शिकायत में बताया है कि उनकी कंपनी का फर्जी लेटर हेड तैयार कर जॉब ऑफर किया जा रहा है।

सूत्रों की मानें तो दिल्ली से सटे साइबर सिटी के इलाकों में कुछ ऐसे गिरोह सक्रिय हैं जो ऑफिस खोलकर बेरोजगार युवकों को अपना शिकार बना रहे हैं। यही नहीं वे कई मल्टीनेशनल कंपनियों के लेटरपैड भी रखे हैं। इस लेटरपैड पर वे फर्जी नियुक्ति पत्र देते हैं और इसके एवज में रजिस्ट्रेशन और कई औपचारिकताओं के नाम पर मोटी रकम ऐंठते हैं।

ये भी पढ़ें-9वीं व 11वीं कक्षा में परीक्षा के लिए देनी होगी 50 रुपए फीस

फिलहाल पुलिस ऐसे गिरोह के सदस्यों की तलाश में जुट गई है। आपको बता दें कि पिछले ही दिन नौकरी दिलाने के नाम पर एक युवक से 2.28 लाख रुपए की ठगी का मामला सामने आया था। साइबर सैल की जांच में सामने आया कि जिन खातों में पैसे ट्रांसफर किए गए वह चेन्नई, झारखंड व छत्तीसगढ़ के हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.