Friday, Jan 28, 2022
-->
indian-culture-jain-lifestyle-have-been-effective-in-preventing-corona-mansukh-mandaviya

भारतीय संस्कृति, जैन जीवन शैली कोरोना से बचाव में रही कारगर: मनसुख मांडविया 

  • Updated on 10/12/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय संस्कृति, रीति-रिवाज, खानपान, हमारी प्राचीन परम्पराएं, जैन जीवन शैली आदि कोरोना जैसी महामारी से बचाव कर स्वस्थ रखने में बहुत मददगार साबित हुई हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडविया ने अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य लोकेश से भेंट में यह विचार व्यक्त करते हुए कहा कि इस समय भारत का टिकाकरण अभियान विश्व का सबसे बड़ा एवं तेज अभियान है जिसमें सौ करोड़ लोगों को एक डोज लग चुकी है। 
      उन्होने बताया कि लगभग 100 करोड़ लोगों को टीका लगने से पूरी दुनिया में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व एवं कुशल मार्गदर्शन को सराहना मिली है। उन्होने समाज व राष्ट्र उत्थान में जैन समुदाय के योगदान की चर्चा करते हुए कहा कि जैन समाज अहिंसक एवं शांतिप्रिय है तथा समाज कल्याण कार्यों में सदैव आगे रहता है। उन्होने आचार्य लोकेशजी के मार्गदर्शन में अहिंसा विश्व भारती संस्था द्वारा संचालित मानवतवादी कार्यों की तथा कोरोना काल में गरीबों के लिए की गई सेवा की भी सराहना की। 
      मनसुख मांडविया ने कोरोना के बाद उभरती मानसिक एवं शारीरिक समस्याओं पर गहन चर्चा की और आचार्य लोकेशजी को यशस्वी जीवन के 60 वर्ष की पूर्णता पर बधाई देते हुए स्वस्थ जीवन की कामना की। आचार्य डॉ लोकेशजी ने कहा कि मौजूदा समय में शारीरिक बीमारियों से अधिक मानसिक एवं भावात्मक बीमारियां लोगों को परेशान कर रही हैं। ध्यान, योग, स्वस्थ एवं संयम आधारित जैन जीवन शैली के द्वारा इन बीमारियों पर विजय पा सकते हैँ। इस शिष्टमंडल में अमेरिका से समागत स्वामी परम आनंदजी, राजकोट लाइफ संस्था के ऋषिकेश भाई पाण्ड्या, कनकशी भाई झाला,  राजीव मिश्रा सम्मिलित थे। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.