Friday, Jul 01, 2022
-->
ndmc-school-for-adult-women-to-be-upgraded-up-to-class-12th

वयस्क महिलाओं के लिए एनडीएमसी स्कूल किया जाएगा 12वीं कक्षा तक अपग्रेड

  • Updated on 5/4/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  दिल्ली के ईस्ट किदवई नगर में दिन में संचालित होने वाले महिलाओं के माध्यमिक स्कूल का जल्द ही 12वीं कक्षा तक उन्नयन किया जाएगा। नयी दिल्ली नगर परिषद (एनडीएमसी) के उपाध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने बुधवार को यह जानकारी दी। स्कूल की शुरुआत 1990-91 में किसी भी कक्षा में स्कूल छोडऩे वाली छात्राओं की शिक्षा को फिर से शुरू करने की सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से की गई थी। वर्तमान में स्कूल कक्षा 10 तक की शिक्षा प्रदान करता है। इसे जल्द ही कक्षा 12 तक अपग्रेड किया जाएगा।
सतीश उपाध्याय ने बुधवार को स्कूल का दौरा करने के बाद कहा, स्कूल का उद्देश्य समाज के कमजोर वर्गों से संबंधित ड्रॉप-आउट लड़कियों को शैक्षिक सुविधाएं प्रदान करना है, खासकर उन लोगों के लिए जो पारिवारिक परिस्थितियों के कारण अपनी पढ़ाई छोड़ देते हैं। एनडीएमसी उपाध्यक्ष ने कहा कि  यह स्कूल ऐसी महिलाओं को शिक्षा प्रदान करने के लिए शुरू किया गया था ताकि वे अपनी शिक्षा जारी रख सकें। स्कूल को सत्र 1994-95 से कक्षा 10 के स्तर पर अपग्रेड किया गया था। इसे जल्द ही कक्षा 12 तक अपग्रेड किया जाएगा। स्कूल उन लोगों को शैक्षिक सुविधाएं प्रदान करता है जो पहले ही रोजगार शुरू कर चुके हैं लेकिन अपनी शैक्षणिक योग्यता में सुधार करना चाहते हैं। वर्ष 2022 में स्कूल में नामांकित विद्यार्थियों की कुल संख्या 242 है और इस वर्ष 2021 में कक्षा 10 का परिणाम शत-प्रतिशत रहा है। 30 अप्रैल 2022 तक कक्षावार नामांकन के अनुसार, 66 छात्र 15 से 20 वर्ष आयु वर्ग में पढ़ रह है,जबकि 3 छात्र 20 से अधिक आयु वर्ग में पढ़ रहे हैं।

रामानुजन कॉलेज को नैक द्वारा ए++ ग्रेड

धार्मिक किताब पढऩे के लिए दूसरी कक्षा में लिया दाखिला
सतीश उपाध्याय ने बताया कि एनडीएमसी की स्कूल में एक महिला ने सिर्फ इसलिए दाखिला लिया कि वह धार्मिक किताब पढ़ सके। कहा कि महिला के बच्चे कॉलेज में पढ़ाई कर रहे हैं और उसने दूसरी कक्षा में दाखिला लिया है। सतीश उपाध्याय का कहना है कि महिला के बच्चे जब स्कूल में थे तो वह उन्हीं से धार्मिक किताब पढ़वाती थी।  मगर कॉलेज में जाने के बाद से बच्चों को समय कम मिलने लगा। जिसकी वजह से महिला धार्मिक किताब नहीं पढ़ पा रही थी। खुद से पढऩे की इच्छा की वजह से उसने एनडीएमसी के स्कूल में दाखिला लिया है। खासबात यह है कि वह अब बच्चों की मदद के बगैर ही किताब पढऩा सीख गई है। महिला आगे की भी पढ़ाई करना चाहती है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.