Friday, Aug 19, 2022
-->
ndtf-crowned-as-duta-president-after-24-years

24 साल बाद डूटा अध्यक्ष पद पर एनडीटीएफ की ताजपोशी

  • Updated on 11/27/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (डूटा) चुनाव में  नेशनल डेमोक्रेटिक टीचर्स फ्रंट (एनडीटीएफ) के डॉ.ए. के.भागी ने वामपंथी संगठन डेमोक्रेटिक टीचर्स फ्रंट की डॉ.आभा देव हबीब को 1382 मतों से करारी शिकस्त दी। डॉ. ए.के.भागी को रिकॉर्ड 3584 मत मिले। जबकि आभा देव हबीब को 2202 मत ही मिले। कांग्रेस समर्थित  शिक्षक संगठन एएडी के उम्मीदवार डॉ. प्रेमचंद को 832 मत प्राप्त हुए। वहीं एडहॉक पैनल से निर्दलीय शबाना आजमी को 263 मत ही प्राप्त हुए। डॉ. ए.के.भागी की इस जीत के बाद 24 साल के बाद एक बार फिर से भाजपा समर्थित शिक्षक संगठन एनडीटीएफ ने डूटा अध्यक्ष पद पर ताजपोशी हुई है।

जामिया मिल्लिया इस्लामिया ने मनाया 72वां संविधान दिवस

शिक्षक समुदाय का जताया आभार
डूटा पद पर नवनिर्वाचित एनडीटीएफ के  डॉ. ए.के.भागी ने विश्वविद्यालय शिक्षक समुदाय का आभार व्यक्त करते हुए कहा है कि डूटा में अध्यक्ष पद की ऐतिहासिक जीत के लिए एनडीटीएफ अत्यंत आभारी है । डॉ. भागी ने कहा कि इस जीत ने एनडीटीएफ को एक बड़ी जिम्मेदारी दी है जिसे उनका संगठन पूरी निष्ठा और संकल्प बद्ध  होकर पूरा करेगा। एनडीटीएफ का प्रयास होगा कि दिल्ली विश्वविद्यालय  में वर्षों से लंबित पड़ी शिक्षकों की समस्याओं को हल करने का  माध्यम डूटा बने । एनडीटीएफ का आइडिया ऑफ डूटा का तात्पर्य यही है कि संगठित होकर समस्याओं का समाधान करने वाले संगठन के रूप में डूटा की पहचान बने।  इसके लिए सभी शिक्षकों को डूटा के बैनर के अंतर्गत संगठित करना होगा। अलग-अलग विचारधाराओं के शिक्षक होते हुए भी डूटा सभी को साथ लेकर लड़ाई लड़ती रही है । डूटा को केंद्र सरकार, दिल्ली सरकार ,दिल्ली विश्वविद्यालय, यूजीसी और कॉलेज प्रशासन सभी स्तर पर लड़ाई लडऩी होती है । संवाद के साथ संघर्ष का रास्ता डूटा अपनाती  है । जहां भी संवाद की आवश्यकता होगी वहां संवाद किया जाएगा, जहां संघर्ष की आवश्यकता होगी ,वहां संघर्ष किया जाएगा।   

एनडीटीएफ प्रतिनिधि मंडल ने शिक्षा मंत्री से मुलाकात की

1997 के बाद मिली एनडीटीएफ को जीत     
यहां बता दे कि डूटा चुनाव में वर्ष 1997 में श्रीराम ओबराय के बाद 2021 में 24 साल बाद डॉ.ए.के.भागी ने अध्यक्ष पद पर जीत की है। इसके साथ साथ इस चुनाव में डूटा कार्यकारिणी के लिए भी एनडीटीएफ के सभी पांचों उम्मीदवार डॉ.महेंद्र मीणा, डॉ.लुके कुमारी खन्ना, डॉ. हरेंद्र कुमार सिंह, डॉ.कमलेश रघुवंशी और डॉ. चमन सिंह ने भी भारी मतों से जीत दर्ज की है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.