Tuesday, Jan 25, 2022
-->
permission sought to start work on projects of 26 hospitals

ओमिक्रोन का खतरा, 26 अस्पतालों की परियोजनाओं पर काम शुरू करने की मांगी अनुमति

  • Updated on 12/3/2021

नई दिल्ली/ताहिर सिद्दीकी  निर्माण गतिविधियों पर रोक लगने के चलते कोरोना की संभावित तीसरी लहर को लेकर की जा रही तैयारियों को झटका लगा है। इससे कोरोना मरीजों के लिए बनाए जा रहे 6834 आईसीयू बेड और  19 अस्पतालों की क्षमता बढ़ाने का काम भी वायु प्रदूषण के चलते बंद हो गया है। आईसीयू बेड फरवरी तक तैयार किए जाने थे।

परियोजना पर काम कर रहे लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) ने पर्यावरण विभाग को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि सुप्रीम कोर्ट में संभावित तीसरी लहर और इसकी तैयारियों की बात रखकर काम की अनुमति दिलवाई जाए। लोक निर्माण विभाग की सचिव दिलराज कौर ने कहा कि परियोजना पर काम बंद होने से सभी मजदूर निर्माण स्थल छोड़ देते हैं और इसके चलते दोबारा काम शुरू करने में 2 से 3 महीने लग जाते हैं।

इसलिए पीडब्ल्यूडी ने पत्र में अस्पतालों से जुड़ी परियोजनाओं पर निर्माण कार्य शुरू करने की छूट देने की अपील की है। बता दें कि प्रदूषण को देखते हुए दिए गए सुप्रीम कोर्ट के आदेश के चलते दिल्ली सरकार के तहत लोक निर्माण विभाग की ढांचागत विकास की 133 परियोजनाओं पर इस समय काम बंद है।

सात अस्पतालों के 6834 ICU बेड तैयार करने का काम बंद
दिल्ली सरकार कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए 6834 आईसीयू बेड तैयार कर रही है। इस कार्य के लिए 1078 करोड़ 41 लाख 20 हजार 643 रुपए अनुमानित लागत रखी गई है। ये आईसीयू बेड तीन पैकेज में तैयार किए जाएंगे। ये सेमी परमानेेंट टेंपरेरी (अस्थाई) योजना के तहत तैयार किए जाएंगे। लोक निर्माण विभाग फरवरी तक इन्हें पूरा करने का लक्ष्य रखा है। ये निर्माण कंक्रीट की जगह स्टील के फ्रेम में तैयार किए जाएंगे।

अस्पतालों के मामले में यह पहला प्रयोग है। कोरोना के बाद सामान्य दिनों में भी इसका इस्तेमाल हो सकेगा। इससे आने वाले समय में दिल्लीवालों को बड़ी राहत मिलने वाली है। इसके तहत शालीमार बाग में 7.95 एकड़ जमीन पर अस्पताल बनेेगा। यहां 1430 आईसीयू बेड बनेंगे। किराड़ी में 2.71 एकड़ में बनने वाले अस्पताल में 458 आईसीयू बेड लगेंगे।

जीटीबी अस्पताल परिसर में बनने वाले 6.02 एकड़ के अस्पताल में 1912 आईसीयू बेड लगेंगे। रघुवीर नगर की नौ एकड़ जमीन  में बनने वाले अस्पताल में 1565 आइसीयू बेड़ तैयार किए जाएंगे। चाचा नेहरू अस्पताल में 2.32 एकड़ जमीन पर बनने वाले अस्पताल में 610 आईंसीयू बेड बनेंगे। सुल्तानपुरी में 10 हजार वर्ग मीटर में बनने वाले अस्पताल में 525 आइसीयू बेड बनेंगे। इन अस्पतालों में इमरजेंसी,ओपीडी वार्ड समेत सभी सुविधाएं होंगी। इसके अलावा ऑक्सीजन टैंक का भी इंतजाम किया जाएगा।
इन 19 अस्पतालों की क्षमता बढ़ाने का काम भी ठप्प
- इंदिरा गांधी अस्पताल सेक्टर-9 द्वारका
- ज्वालापुरी अस्पताल
- मादीपुर अस्पताल
- हस्तसाल अस्पताल
- सिरसपुर अस्पताल
- अरूणा आसफ अली अस्पताल
- राव तुलाराम अस्पताल
- आचार्य श्री भिक्षु अस्पताल
- गुरू गोविंद सिंह अस्पताल
- दादा देव अस्पताल
- लोक नायक अस्पताल
- एलएन अस्पताल
- संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल
- डॉ.बाबा साहिब अम्बेडकर अस्पताल
- लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल
- जग प्रवेश चंद्र अस्पताल
- भगवान महावीर अस्पताल
- दीपचंद बंधु अस्पताल
- सत्यवादी राजा हरिशचंद्र अस्पताल

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.