Tuesday, Jun 28, 2022
-->
UGC and AICTE told educational institutions not franchise agreement with ed-tech companies

यूजीसी और एआईसीटीई ने शिक्षण संस्थानों से कहा एड-टेक कंपनियों के साथ नहीं करे फ्रेंचाइजी करार

  • Updated on 1/17/2022

-यूजीसी और एआईसीटीई ने मान्यताप्राप्त विश्वविद्यालयों और संस्थानों को किया आगाह
नई दिल्ली/टीम डिजिटल।
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने अपने मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों और संस्थानों को आगाह किया है। यूजीसी और एआईसीटीई ने शिक्षण संस्थानों से कहा है एड-टेक कंपनियों के साथ साझेदारी में दूरस्थ शिक्षा और ऑनलाइन मोड में कोर्स नहीं चलाए। नियमों के अनुसार कोई फ्रेंचाइजी करार की अनुमति नहीं है। इसके साथ ही छात्रों व अभिभावकों को भी हिदायत दी है कि किसी भी कोर्स में दाखिला लेने से पहले वेबसाइटों पर उस कोर्स की मान्यता की स्थिति पता लगा लें।

जामिया में टीचर एजुकेशन पर दो साप्ताहिक रिफ्रेशर कोर्स सम्पन्न

हाल ही में आया है यूजीसी के संज्ञान में अखबारों में दे रही कंपनियां विज्ञापन
यूजीसी सचिव रजनीश जैन ने एक आधिकारिक आदेश में कहा है कि नियमों के अनुसार, उ‘च शिक्षा संस्थान किसी फ्रेंचाइजी समझौते के तहत मुक्त एवं दूरस्थ शिक्षा (ओडीएल) या ऑनलाइन कार्यक्रम नहीं चला सकेंगे। साथ ही संस्थान खुद कार्यक्रमों के लिए पूरी तरह जिम्मेदार होंगे। यूजीसी के संज्ञान में हाल में आया है कि कुछ एड-टेक कंपनियां अखबारों, सोशल मीडिया और टेलीविजन पर विज्ञापन दे रही हैं कि वह यूजीसी द्वारा मान्यताप्राप्त कुछ विश्वविद्यालयों और संस्थानों के साथ मिलकर ओडीएल और ऑनलाइन मोड में डिग्री व डिप्लोमा कार्यक्रम चला रही हैं। उन्होंने कहा कि ऐसी एड-टेक कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। एड-टेक कंपनियां प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करते हुए ऑनलाइन मंचों से शिक्षा प्रदान करती हैं। इसी तरह के एक नोटिस में एआईसीटीई ने भी शैक्षिक संस्थानों और एड-टेक कंपनियों के बीच किसी भी तरह के फ्रेंचाइजी करार को लेकर आगाह किया है।  इस माह के शुरू में शिक्षा मंत्रालय ने अभिभावकों और छात्रों को एक परामर्श जारी कर एड-टेक पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने और इसके लिए भुगतान करने से पहले, पूरी सावधानी बरतते हुए गहन पड़ताल करने को कहा था।

 

comments

.
.
.
.
.