Tuesday, Jun 28, 2022
-->
voters did not show enthusiasm, polling remained weak

मतदाताओं में नहीं दिखा उत्साह, फीका रहा मतदान

  • Updated on 6/23/2022

-43.75 प्रतिशत हुआ मतदान, रविवार को होगी मतगणना 
नई दिल्ली/अनिल सागर। दिल्ली की राजेंद्र नगर विधानसभा सीट पर वीरवार को उपचुनाव में मात्र 43.75 प्रतिशत लोगों ने ही मतदान किया। जबकि वर्ष 2020 में राजेंद्र नगर सीट पर 58.27 प्रतिशत मतदान दर्ज हुआ था। शुरूआती आठ घंटों में 33 फीसदी से ज्यादा लोगों ने वोट डाले वहीं आखिरी एक घंटे में करीबन चार प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। पहली बार, आखिरी एक घंटे में 24 कोरोना संक्रमित लोगों ने भी वोट दिया। इसके साथ ही चुनावी मैदान में उतरे 14 उम्मीवारों के भाग्य ईवीएम में कैद हैं और 26 जून को मतगणना के बाद विजेता सामने आएगा। 
          उपचुनाव के लिए 21 स्थानों पर 190 मतदान केंद्र बनाए गए थे जिसमें विक्लांगों, महिलाओं के लिए विशेष बूथ व सेल्फी प्वाइंट, बुजुर्गों (80 साल से अधिक वालों) को मतदान केंद्र तक लाने-छोडऩे की व्यवस्था की गई थी। राजेंद्र नगर उपचुनाव में कुल 1,64,698 मतदाता हैं और 14 उम्मीदवार मैदान में हैं इसमें आप, भाजपा और कांग्रेस के अलावा गैरपंजीकृत पाॢटयों के तीन तथा आठ निर्दलीय हैं। आम आदमी पार्टी ने दुर्गेश पाठक और भारतीय जनता पार्टी ने यहां राजेश भाटिया को अपना उम्मीदवार बनाया है। जबकि कांग्रेस ने यहां से पार्षद रहीं प्रेमलता को टिकट दिया है। यह सीट आप नेता राघव चड्ढा के राज्यसभा में चुने जाने पर इस्तीफे के बाद खाली हुई है। आप, भाजपा और कांग्रेस ने अपने-अपने प्रत्याशी के भारी मतों से जीत दर्ज करने की उम्मीद जताई है। 
     मतदान कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सुबह सात बजे शुरू हुआ और शाम छह बजे तक चला। शुरूआत में यहां जेजे कालेानी, गांव वाले इलाकों में कई मतदान केंद्र पर जहां भीड़ नजर आई तो वहीं दोपहर होते-होते अधिकांश इलाकों के मतदान केंद्र खाली दिखे। मुख्य निर्वाचन अधिकारी रणबीर सिंह ने दौरे के बाद बताया कि दोपहर तीन बजे तक 33.40 प्रतिशत मतदान हुआ है। जबकि दोपहर एक बजे तक यह 26.24 प्रतिशत था वहीं 11 बजे तक 14.85 प्रतिशत रिकार्ड किया गया। मुख्य निर्वाचन अधिकारी रणबीर सिंह ने उम्मीद जताई थी कि इस बार उपचुनाव में 2020 के चुनाव में दर्ज 58.27 प्रतिशत से ज्यादा मतदान होगा लेकिन मतदान प्रतिशत 43.75 से ऊपर नहीं जा सका। हालंाकि नारायणा गांव, राजेंद्र नगर के कई ब्लॉक में लोगों ने यह शिकायत की कि दिव्यांगों को लाने वालों ने व्हील चेयर को छोड़ दिया तो वहीं कुछ ने कहा कि जो ई-रिक्शा बुजुर्गों को लाए थे उन्होने दूर उतारा जिससे परेशानी का सामना करना पड़ा। जबकि महिलाओं को पिंक बूथ, दिव्यांगों व आदर्श बूथ पर कई सुविधाओं को लोगों ने सराहा। 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.