Friday, Jan 28, 2022
-->
will get rid of waterlogging in bridge prahladpur underpass

पुल प्रहलादपुर अंडरपास में जलभराव से मिलेगा छुटकारा

  • Updated on 9/20/2021

--2.67 करोड़ रुपए खर्च होंगे, नया संप बनाकर 800 एचपी का मोटर लगाया जाएगा
--अंडरपास के नीचे से गुजर रही सीवरलाइन के दाेनों मैनहोल भी शिफ्ट किए जाएंगे
नई दिल्ली। हल्की बारिश में भी साउथ दिल्ली के एमबी रोड के पुल प्रहलादपुर अंडरपास में पानी भरने की समस्या अगले 4 महीने में दूर हो जाएगी। इसके लिए लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) ने टेंडर आवंटित कर दिया है। यहां पर एक नया संप बनाया जाएगा। इस नए संप में 800 एचपी की मोटर लगाई जाएगी जो बारिश के दौरान अंडरपास में आने वाले पानी को बाहर निकालती रहेगी।वहीं, अंडरपास के पास में ही बने सीवर के दो मैनहोल यहां से शिफ्ट किए जाएंगे। इस पूरे काम पर करीब 2.67 करोड़ रुपए खर्च होंगे।
अगले महीने अक्टूबर से इस पर काम शुरू होगा और चार माह में काम पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। बता दें कि महरौली-बदरपुर रोड का यह अंडरपास फरीदाबाद, बदरपुर, सरिता विहार, साकेत, देवली और आसपास के स्थानों से आने- जाने वाले लोगों के लिए मुख्य मार्ग है। अभी अंडरपास पर 400 एचपी और 200 एचपी के दो मोटर लगे हैं। लेकिन बारिश के दौरान भारी मात्रा में पानी आ जाने के कारण  नाकाफी साबित हो रहे हैं। साकेत से बदरपुर सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट तक जाने वाली सीवर लाइन इस अंडरपास के नीचे से गुजरती है। अंडरपास के दोनों ओर सीवर लाइन के दो मैनहाेल हैं। बारिश के दौरान और बारिश बंद हो जाने के बाद भी दो-तीन दिनों तक ये मैनहोल ओवरफ्लो होते रहते हैं। जिससे अंडरपास में लगातार पानी आता रहता है। लोक निर्माण विभाग के एक अधिकारी  ने बताया कि ऐसे में इन मैनहोल को आगे शिफ्ट करने के लिए दिल्ली जल बोर्ड को राजी किया गया है। वहीं, अंडरपास के एक ओर सोनिया गांधी कैंप व दूसरी ओर आरजेडए कॉलोनी है। ये दोनों काफी उंचाई पर हैं। बारिश के दौरान इनके नाले-नालियों का पानी भी ओवरफ्लो होकर अंडरपास में गिरता है। बदरपुर फ्लाइओवर के कैरिजवे का पानी भी इसमें ही आता है।
बता दें कि कुछ दिन पहले ही भाजपा  विधायक और नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने पानी में डूबे पुल प्रहलादपुर अंडरपास पर नाव पर सवार होते हुए एक वीडियो जारी करते हुए कहा था कि उन्हें भी अपने विधानसभा क्षेत्र बदरपुर में जाने के लिए इन दिनों नाव का सहारा लेना पड़ रहा है, क्योंकि इसके अलावा कोई अन्य रास्ता नहीं है। उन्होंने कहा था कि यह रास्ता बदरपुर को महरौली और गुरुग्राम से जोड़ता है। उन्होंने कहा था कि हर बारिश के बाद कई दिन तक अंडरपास में पानी भरा रहता है और कई दिन तक लोगों को इंतजार करना पड़ता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.