Tuesday, Dec 07, 2021
-->
gurdwara-committee-paramjit-sarna-won-the-election-got-the-most-votes

गुरुद्वारा कमेटी : कोआप्शन चुनाव में परमजीत सरना जीते, मिले सबसे ज्यादा वोट

  • Updated on 9/9/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल : दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के दो सीटों पर हुए कोआप्शन चुनाव में सत्ताधारी पार्टी शिरोमणि अकाली दल (बादल) एवं शिरोमणि अकाली दल (दिल्ली) को एक-एक सीट मिली है। अकाली दल दिल्ली के अध्यक्ष परमजीत सिंह सरना को सबसे ज्यादा 18 वोट मिले हैं। जबकि अकाली दल बादल के दोनों उम्मीदवारों केा क्रमश : विक्रम सिंह को 15 और जसविंदर सिंह जौली को 12 वोट मिले हैं। दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश पर बादल दल के सदस्य भूपिंदर सिंह भुल्लर का वोट अलग लिफाफे में सील हो गया है। इसपर दिल्ली हाईकोर्ट शुक्रवार को फैसला करेगी। एक-एक सीट के लिए हो रहे सह और मात के खेल में विपक्ष बादल दल से एक सीट छीनने में कामयाब रहा है। सरना को संयुक्त विपक्ष का समर्थन था। इसमें जागो पार्टी ने भी खुला समर्थन दिया है। हालांकि दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश की वजह से दोनों को-आप्सन सीटों के विजेताओं के नामों की दिल्ली गुरुद्वारा चुनाव निदेशालय ने आधिकारिक घोषणा नहीं की है। लेकिन वोटों की गिनती की वजह से सरना व अकाली उम्मीदवार विक्रम सिंह रोहिणी की जीत तय मानी जा रही हैै।
  इसके अलावा दिल्ली की सिंह सभाओं के अध्यक्षों के दो सीट का चुनाव तकनीकी गड़बड़ी के चलते कैंसिल कर दिया गया। बता दें कि बुधवार की देर रात को निदेशालय ने दिल्ली के पंजीकृत 282 सिंह सभा गुरुद्वारों की सूची जारी की थी। लेकिन उस सूची में कई खामियां थीं। विरोधी दल ने सूची को लेकर विरोध दर्ज करवाया। इसके बाद चुनाव निदेशालय ने लॉटरी से होने वाले चुनाव को रद्द कर दिया। 4 तख्तों के जत्थेदारों का नाम भी सदस्य के तौर पर घोषित होगा इसके अलावा 4 तख्तों के जत्थेदारों का नाम आधिकारिक तौर पर कमेटी सदस्य के रूप में गुरुद्वारा चुनाव निदेशालय की तरफ से घोषित नहीं किया गया। उसे भी रोक दिया गया। चारों जत्थेदार तख्त श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर, तख्त श्री हरमंदिर साहिब पटना साहिब, तख्त श्री हजूर साहिब, तख्त श्री केशगढ़ साहिब (आनंदपुर साहिब), दिल्ली कमेटी के पदेन सदस्य होते हैं, लेकिन इन्हें वोटिंग का अधिकार नहीं होता है। जबकि तख्त श्री दमदमा साहिब साबो की तलवंडी के जत्थेदार का नाम पांचवे तख्त के रूप में अभी तक दिल्ली सरकार के कानूनी विभाग द्वारा अभी नहीं जोड़ा गया है। हालांकि दिल्ली विधानसभा एवं केंद्रीय गृहमंत्रालय ने श्री दमदमा साहिब को पांचवे तख्त के रूप में शामिल करने की मंजूरी दे दी है।


सरना की जीत विपक्षी एकता का प्रतीक : मंजीत सिंह  

जागो पार्टी के अध्यक्ष मनजीत सिंह जीके ने संयुक्त विपक्ष के उम्मीदवार परमजीत सिंह सरना को सभी उम्मीदवारों में से सबसे अधिक वोट डलने को विपक्षी एकता का प्रतीक बताया है। साथ ही आरोप लगाया कि बादल दल ने अपने लोगों को जबरदस्ती सिंह सभा अध्यक्षों की सूची में डलवाया था, ताकि वो अवैध तरीके से 2 सीटें जीत सकें। जीके ने कहा कि दिल्ली कमेटी के प्रबंध अधीन आते गुरुद्वारा भाई लालो जी, रानी बाग की सब-कमेटी के अध्यक्ष तथा शकूर बस्ती वार्ड से चुनाव हारे बादल दल के प्रत्याशी स्मार्टी चड्ढा को गुरुद्वारा भाई लालो जी का अध्यक्ष, सिंह सभाओं की सूची में बताया जा रहा है। जीके ने सरना की जीत में सहयोग देने के लिए पंथक अकाली लहर के अध्यक्ष भाई रणजीत सिंह तथा निर्दलीय सदस्य तरविंदर सिंह मारवाह का भी धन्यवाद किया।

संगत के फतवे के मुताबिक प्रबंध सुचारू ढंग से चलाएंगे :सिरसा

गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा व महासचिव हरमीत सिंह कालका ने को-ऑपशन के चुनाव में अकाली दल के नेता विक्रम सिंह के चुने जाने पर समूची संगत को शुक्रिया अदा किया है। साथ ही कहा है कि संगत के फतवे के मुताबिक कमेटी का प्रबंध सुचारू ढंग से चलाया जाएगा। सिरसा व कालका ने कहा कि विक्रम सिंह के चुने जाने से संगत द्वारा अकाली दल के लिए दिए फतवे को और अधिक मजबूती मिली है। उन्होंने कहा कि संगत ने एक बार फिर से अकाली दल पर विश्वास कर पार्टी को बहुमत दिया है और अब को ऑपशन में विक्रम सिंह के चुने जाने से पार्टी और अधिक मजबूत हुई है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.