Tuesday, Oct 04, 2022
-->
three-categories-for-the-construction-of-lutyian-zone-building

लुटियन जोन में निर्माण के लिए तीन कैटेगरी

  • Updated on 5/9/2016

नई दिल्ली (निशांत राघव)। लुटियन जोन में जल्द ही तीन अलग-अलग नियमों के आधार पर निर्माण की इजाजत होगी। इसके अनुसार रिहायशी बंगले में बेसमेंट पार्किंग बनाई जा सकेगी।

राज्य भवनों व गेस्ट हाऊसों को पंद्रह मीटर तक की ऊंचाई और 150 एफएआर निर्माण के लिए मिलेगा जबकि इस जोन से बाहर के इलाकों में 200 एफएआर तथा साढ़े सत्रह मीटर तक निर्माण किया जा सकता है।

हालांकि इसके लिए भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण व दमकल विभाग की मंजूरी अनिवार्य होगी। डीयूएसी की ओर से रिहायशी व गैर रिहायशी परिसर अथवा राज्य भवन व गेस्ट हाऊसों के निर्माण के नए नियम पर मुहर लगा दी गई है।

मास्टर प्लान 2021 में किए जा रहे संशोधन पर स्वीकृति के लिए शहरी विकास मंत्रालय से नोटिफिकेशन की औपचारिकता शेष है। 

भरोसेमंद सूत्रों के अनुसार, चाणक्यपुरी जैसे इलाके में दूतावास के लिए स्थान की कमी और एलबीजेड (लुटियन बंगलो जोन)के अलावा अन्य स्थान पर विभिन्न देशों तथा राज्यों को जमीन देने के लिए मंत्रालय के निर्देश पर योजना बनाई गई।

लगभग 70 से अधिक देशों के दूतावास के लिए द्वारका-2 में जगह चिन्हित की गई है। वहीं एलबीजेड से बाहर आस-पास के कई अन्य इलाकों में राज्य भवन अथवा राज्य गेस्ट हाऊसों के लिए जगह निर्धारित की है।

दिल्ली: 4 अज्ञात लोगों ने किया AAP विधायक पर हमला, MLA सुरक्षित

लेकिन कई राज्य एलबीजेड से अलग अन्य स्थान पर गेस्ट हाऊस के निर्माण से नाखुश हैं। ऐसे में इन राज्यों की संतुष्टि और सुरक्षा उपायों को देखते हुए एलबीजेड में निर्माण के लिए कम स्थान देने की योजना पर अंतिम मुहर लगाई गई है।

एलबीजेड में नए निर्माण नियम के संदर्भ में डीडीए ने प्रस्ताव पास करके मंत्रालय को पहले ही भेज दिया है। जबकि डीयूएसी ने इस पर मिली आपत्तियों की समीक्षा के बाद राज्य भवन अथवा गेस्ट हाऊस के लिए निर्धारित की गई अलग श्रेणी को मंजूरी दे दी है।

साथ ही रिहायशी व कामर्शियल परिसर में निर्माण के लिए भी नए नियम तय हो रहे हैं। इसके अनुसार एलबीजेड में बंगले के लिए बारह मीटर तक की ऊंचाई बाध्यता रहेगी।

राज्य भवन अथवा गेस्ट हाऊसों को पंद्रह मीटर ऊंचाई तक निर्माण की इजाजत होगी। ग्राउंड कवरेज 50 होगी और 150 एफएआर मिलेगा।

केंद्र और दिल्ली सरकार ने यमुना साफ के लिए मिलकर उठाया बीड़ा

लेकिन अन्य इलाके में निर्माण पंद्रह मीटर ऊंचाई तक के निर्माण की बाध्यता से मुक्त रहेगा। साथ ही 200 एफएआर तक निर्माण की छूट भी होगी।

इससे अन्य इलाके में बनने वाले राज्य गेस्ट हाऊसों में बाहर से आकर रहने वालों को अधिक स्थान दिया जा सकेगा। लेकिन पार्किंग के लिए निर्धारित नियम का पालन करने में कोई रियायत नहीं दी जाएगी।

करीब 100 मीटर के भूखंड पर कम से कम दो कार खड़ी करने के लिए स्थान बनाना आवश्यक रखा है। डीडीए के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक डीयूएसी से मिली मंजूरी के बाद अब इस पर मंत्रालय की ओर से नोटिफिकेशन होना बाकी है। ग्रीन बिल्डिंग नियम के आधार पर निर्माण करने में पांच प्रतिशत अधिक कवरेज की छूट भी मिलेगी।

 एलबीजेड में निर्माण के लिए नए प्रस्ताव

 

  • एलबीजेड में इलाका-28.73 वर्ग किलोमीटर से घटाकर 23.60 वर्ग किलोमीटर होगा
  • रिहायशी बंगले के लिए- 12मीटर ऊंचाई और 20 एफएआर अथवा पार्किंग समेत तीन मंजिला तक
  • गैर रिहायशी अथवा कामॢशयल इमारत के लिए-32 मीटर ऊंचाई और तीन मंजिला बेसमेंट पार्किंग
  • लुटियन जोन को तीन हिस्सों में बांटने की योजना है-एलबीजेड, रिज तथा हेरीटेज इलाका
  • दायरा कम करके कुछ इलाकों में बनी कॉलोनियां भी एलबीजेड से बाहर होंगी
  • पुरानी रिहायशी बंगलो को ग्रीन बिल्डिंग नियम के तहत बनाने पर पांच प्रतिशत अधिक हो सकेगा निर्माण
Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें…एंड्रॉएड ऐप के लिए यहांक्लिक करें.
comments

.
.
.
.
.