Tuesday, Jun 02, 2020

Live Updates: Unlock- Day 2

Last Updated: Tue Jun 02 2020 03:57 PM

corona virus

Total Cases

199,757

Recovered

95,875

Deaths

5,612

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA70,013
  • TAMIL NADU23,495
  • NEW DELHI20,834
  • GUJARAT17,217
  • RAJASTHAN9,100
  • UTTAR PRADESH8,361
  • MADHYA PRADESH8,283
  • WEST BENGAL5,772
  • BIHAR3,945
  • ANDHRA PRADESH3,676
  • KARNATAKA3,221
  • TELANGANA2,792
  • JAMMU & KASHMIR2,601
  • HARYANA2,356
  • PUNJAB2,301
  • ODISHA2,104
  • ASSAM1,486
  • KERALA1,327
  • UTTARAKHAND959
  • JHARKHAND661
  • CHHATTISGARH548
  • TRIPURA423
  • HIMACHAL PRADESH340
  • CHANDIGARH297
  • MANIPUR83
  • PUDUCHERRY79
  • GOA73
  • NAGALAND43
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA28
  • ARUNACHAL PRADESH20
  • MIZORAM13
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3
  • DAMAN AND DIU2
  • SIKKIM1
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
do-not-do-these-things-on-shivratri-for-good-luck

जिंदगी भर चाहिए है शिव की कृपा तो शिवरात्रि पर न करें ये पाप

  • Updated on 2/6/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हिंदूओं के कई देवी-देवता हैं। उनमें अत्यंत लोकप्रीय हैं भगवान शिव शंकर। उन्हें देवों के देव महादेव कहा जाता है। वो असुरों के भी ईष्ट हैं। भगवान शिव को दुनिया भर में हिंदू धर्म के अनुयायी पूज्य मानते हैं। इनकी पूजा आराधना की विधि बहुत सरल है। शास्त्रों के अनुसार भोलनाथ को यदि सच्चे मन से याद कर लिया जाए तो वो प्रसन्न हो जाते हैं और अपने भक्तों पर कृपा करते हैं। 

जानें Valentine’s Day का दिन क्या है खास इन राशि वालो के लिए

हर महीने में मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है लेकिन साल में शिवरात्रि का मुख्य पर्व जिसे व्यापक रुप से देश भर में मनाया जाता है एक ही बार फाल्गुन के महीने में आता है। फाल्गुन के महीने की शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहा जाता है। इसे फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाता है। इस दिन एकाग्रचित्त और पवित्र विचारों के साथ महादेव की पूजा करने से इंसान को समस्त परेशानियों से मुक्ति मिल सकती है। 

कम करना है व्यापार का नुकसान तो अपनाएं ये Tips

हालांकि शिवजी के भक्तों के लिए शास्त्रों में कुछ एेसे पापों का वर्णन किया गया है, जिनसे करने से उन्हें बचना चाहिए, वर्ना लाख पूजा-पाठ करने से बाद भी शिव जी क्षमा नहीं करते। जानिए उन महापापों के बारे में जिसे करने से उस व्यक्ति को किसी भी देवी-देवता की कृपा नहीं मिल पाती है और आजीवन उसे दुखी रहना पड़ता है।

महाभारत, शिवपुराण और गरुड़ पुराण में है इन महापाप का वर्णन-

  • किसी भी स्त्री का अपमान करना पाप है लेकिन किसी गर्भवती या मासिक धर्म से पीड़ित महिला को बुरा बोलना या फिर उनका अपमान करना महापाप है। ऐसा करने वालों को शिवजी या कोई भी देवी-देवता कभी क्षमा नहीं करते। 
  • दूसरों के धन के ऊपर लोभ दृष्टि देना या फिर उसे पाने की इच्छा मन में दबाएं रखना महापाप है। 
  • किसी भी निष्पाप इंसान या फिर किसी भी जीव को बेवजह कष्ट पहुचांना या फिर उसके किसी कार्य में बाधा उत्पन्न करना भी महापाप की श्रेणी में आता है। 
  • किसी चीज के बारे में सही-गलत का ज्ञान होने के बावजूद भी उस कार्य को करने से उसकी क्षमा भगवान की आराधना करने पर भी नहीं मिलती।
  • पराई स्त्री या पुरुष पर बुरी नजर डालना या फिर उनके बारे में गलत सोचना या फिर उन्हें पाने की कोशिश करना भी महापाप कहलाता है। 
  • दूसरों के मान-सम्मान को नुकसान पहुंचने की नीयत से झूठ बोलना या छल-कपट करना, षडयंत्र रचना महापाप है। 
  • बच्चों, महिलाओं या अपने से कमजोर व्यक्ति या जीव के खिलाफ हिंसा महापाप है। 
  • मंदिरों के सामानों की चोरी भी महापाप कहलाती है। 
  • गुरूजनों या पूर्वजों का अपमान करने वालों को भी ईश्वर की क्षमा प्राप्ति नहीं हो पाती है।
  • दान दी हुई किसी चीज़ को वापस मांगना भी महापाप के अन्र्तगत आता है।
Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.