Wednesday, Oct 16, 2019
dussehra shubh muhurat and know why celebrate dussehra

Dussehra 2019: दशहरे के दिन इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा, मिलेंगे यह फल

  • Updated on 10/8/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देशभर में आज विजयादशमी (VijayaDashmi) यानि की दशहरा (Dussehra 2019) का त्यौहार मनाया जा रहा है। यह त्यौहार हर साल बुराई पर अच्छाई के रूप में मनाया जाता है। इस दिन को हिंदुओं में काफी धुमधाम से मनाया जाता है। हिंदू मान्यता (Hindu Mythology) के अनुसार आज दशहरे के दिन भगवान श्री राम (Lord Ram) ने लंकापती रावण (Ravan) का वध किया था। जिसके बाद इस त्यौहार को हर साल मनाया जाने लगा। कहते हैं कि, आज ही के दिन मां दुर्गा ने महिषासुर नामक राक्षस का भी वध किया था। बता दें कि, हर साल दशहरे के दिन रावण दहन किया जाता है और इस दिन के बाद से दिवाली का आगाज हो जाता है।

दशहरा से जुड़ीं अनसुनी बातें, इस पर्व पर करें खुद के अंदर छिपी बुराई का भी अंत

ravan dussehra

Maha Navami 2019: आखिरी दिन होती है मां सिद्धिदात्री की पूजा, ये है कन्या पूजन का समय

क्या है शुभ मुहूर्त

आज दशहरा पूजन के लिए सबसे अच्छा मुहूर्त सुबह 11 बजकर 36 से शुरू होकर 12 बजकर 24 मिनट तक रहेगा। हिंदू धर्म के अनुसार यह बहुत अच्छा मुहूर्त है इसमें लोगों के रूके हुए कोई भी काम बन सकते हैं। इसके अलावा जो दूसरा शुभ मुहूर्त है वो दोपहर 1 बजकर 24 मिनट से शुरू होकर 02 बजकर 12 मिनट तक रहेगा। ज्योतिष्यों के मुताबिक आज के दिन इस शुभ मुहूर्त में पूजा करने से मनचाहा फल प्राप्त होगा।

क्यों मनाया जाता है दशहरा

इस दिन दशहरा मनाने का रिवाज इसलिए है क्योंकि पौराणिक कथाओं के मुताबिक जब भगवान राम और माता सीता 14 वर्षों के लिए वनवास पर गए थे तो रावण ने माता सीता का हरण कर लिया था। उसके बाद भगवान ने वन-वन जाकर भाई लक्ष्मण के साथ माता की खोज शुरू कर दी। रावण को सीता हरण करता देख पक्षी सुग्रीव ने रोकने की कोशिश की लेकिन रावण ने उनका पंख काट दिया जिसके बाद जब भगवान राम वहां पहुंचे तो उन्होंने माता के सीता हरण की बात बताई।

ravan dahen

Navratri 2019 : महाअष्टमी के दिन इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा, जानें कन्या पूजन का समय

जब राम ने किया रावण का वध

भगवान राम ने माता सीता का खोज शुरू कर दी इस बीच हनुमान और उनकी वानर सेना ने भी उनका साथ दिया। जिसके बाद जब वह लंका पहुंचे तो रावण और भगवान राम के बीच युद्ध हुआ जिसके बाद भगवान राम ने उनका वध किया और इसी के बाद से बुराई पर अच्छाई की जीत होने लगी। माना जाता है कि युद्ध पर जाने से पहले भगवान राम ने मां दुर्गा की अराधना की थी जिसके बाद आश्विन मास की दशमी में उन्होंने रावण का वध कर विजय प्राप्त की।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.