haryali-teej-vrat-vidhi-and-pujan-tithi

हरियाली तीज पर इस विधि से करें पूजा, ये है शुभ मुहूर्त

  • Updated on 8/3/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सावन (Sawan) के महीनें में हरियाली तीज को लेकर काफी मान्यताएं जुड़ी हुई हैं। ये महीना सुहागन महिलाओं (Married Womens) और कुंवारी लड़कियों (Single Girls) के लिए बेहद खास माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इस दिन भगवान शिव (Lord Shiva) और माता पार्वती (Goddess Parvati) की पूजा से सारे संकटों के बादल छट जाते हैं और सुहागन महिलाओं को पति की लंबी आयु का आर्शिवाद प्राप्त होता है।

आखिर गुरुवार के दिन क्यों किया जाता है पीले वस्त्रों को धारण, वजह जानें

हरियाली तीज (Hariyali teej) एक ऐसा पर्व है जिसमें सभी सुहागन महिलाएं और कुंवारी लड़कियां महंदी लगाती है, हरे रंग (Green Color) के वस्त्रों को धारण करती हैं, हरे रंग की चुड़ियां पहनती हैं और साज-श्रृंगार करती हैं। इस पर्व में सभी महिलाएं अपने पति के लिए लंबे उम्र की कामना करती हैं और कुंवारी लड़कियां अच्छे पति के लिए इस व्रत (Fast) को रखती हैं।

क्या है इसको लेकर धार्मिक मान्यता

धार्मिक मान्यता (Mythology Importance) के मुताबिक हरियाली तीज (Hariyali Teej) को श्रावण महीने में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को यह त्योहार मनाया जाता है। यह पर्व हरितालिका तीज और बड़ी तीज व्रत के नाम से भी जाना जाता है। कहा जाता है कि इसी दिन 108वां जन्म लेकर माता पार्वती ने कठोर तपस्या कर भगवान शिव को अपने पति के रूप में प्राप्त किया था।

भगवान शिव का बाघ की खाल को धारण करने के पीछे ये है रहस्य

और हिंदू धर्म (Hindu Religion) के अनुसार यह दिन माता पार्वती को समर्पित है। इस पर्व (Festival) के दिन हरे रंग को बेहद शुभ माना गया है। इसके साथ ही इस दिन झूला झुलने का भी रिवाज है, कहा जाता है कि इस दिन महिलाएं झूला-झूलकर सावन (Sawan) का स्वागत करती है। आइए जानते हैं की कैसे करें इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा।

कैसे करें पूजा

ये दिन हर सुहागन महिलाओं (Married Women) के लिए बेहद शुभ माना गया है। इस दिन की कई पूजा से भगवान शिव (Lord Shiva) और मां पार्वती (Goddess Parvati) अपने भक्तों को मनचाहा वरदान देती है। इस दिन पूजा करने के लिए सुर्योदय से पहले उठकर सारे कार्यों से निवत्तृ हो जाएं। इसके बाद नाह-धोकर महिलाएं  हरे रंग के वस्त्रों को धारण करें, हरी चुड़िया पहने और साज-श्रृंगार करें। अब मिट्टी से भगवान शिव और माता पार्वती की मूर्तियों को बनाएं और उनकी पूजा करें। पूजा करने से पूर्व शिवलिंग पर जल चढ़ाना ना भूलें और माता पार्वती को श्रृंगार का सामान चढ़ाए और फूल, अगरबत्ती या धुपबत्ती के साथ भगवान की पूजा करें।

भगवान शिव का एक ऐसा रहस्यमयी मंदिर जहां 24 घंटे शिव लिंग पर चढ़ता है जल

ये है पूजा का शुभ मुहूर्त 

इस दिन है हरियाली तीज - 3 अगस्त 2019

तृतीया तिथि का शुभ मुहूर्त - 01 बजकर 36 मिनट से शुरु होकर 10 बजकर 05 मिनट तक रहेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.