Wednesday, Sep 18, 2019
iskcon temple to be decorated today with flowers of thailand on janmashtami festival

जन्माष्टमी के पर्व पर थाईलैंड के फूलों से आज सजाया जाएगा iskcon मंदिर

  • Updated on 8/23/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ईस्ट ऑफ कैलाश स्थित इस्कॉन मंदिर (East Of Kailash Iskcon Temple) में जन्माष्टमी के पावन पर्व पर शनिवार को थाईलैंड के फूलों से सजावट की जाएगी। इसके साथ महाराष्ट्र और बैंगलोर से मंगाए गए फूल भी इस्तेमाल किए जाएंगे। रोशनी की आकर्षक सजावट के लिए एलईडी लाइट का प्रयोग किया जाएगा।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी: भादो के महीने में अगर बचना चाहते हैं बुरे अंजाम से तो भूलकर भी ना करें ये काम

श्रीकृष्ण भगवान के लिए वृंदावन के कलाकारों ने विशेष पोशाक बनाया

इस्कॉन के राष्ट्रीय संपर्क निदेशक बृजेन्द्र नंदन ने बताया कि जन्माष्टमी का पर्व (Janamashtami Festival) देश और विदेश में स्थित सभी इस्कॉन मंदिरों में मनाया जाएगा। ईस्ट ऑफ कैलाश स्थित मंदिर श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव को बड़े स्तर पर मनाया जाएगा। श्रीकृष्ण भगवान (Lord Krishna) के लिए वृंदावन (Vrindavan) के कलाकारों ने विशेष पोशाक तैयार की है। यह पोशाक भगवान को पहनाई जाएगी साथ ही आकर्षक शृंगार किया जाएगा।

#HappyJanmashtami: जानें इस बार कब होगा कृष्ण जन्मोत्सव, इस विधि से करें पूजा

अनुष्ठान के तहत सुबह 4 बजे होगी आरती

अनुष्ठान के तहत भोर में साढ़े चार बजे आरती की जाएगी। इसके बाद से दर्शन प्रारंभ हो जाएंगे और रात एक बजे तक दर्शन का क्रम चलता रहेगा। रात दस बजे महाभिषेक होगा और रात 12 बजे जन्म होगा और कान्हा को 1008 तरह के व्यंजनों का भोग लगाया जाएगा।

#krishnajanmashtami2019: ये है जन्माष्टमी की सही तारीख, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

रूसी भक्तों द्वारा कृष्ण पर केक भी भोग भी चढ़ेगा 

इस अवसर पर रूसी भक्तों द्वारा तैयार किया गया केक भी भोग में चढ़ाया जाएगा। 25 अगस्त को मंदिर में इस्कॉन के संस्थापकाचार्य प्रभुपाद का जन्मदिन भी धूमधाम से मनाया जाएगा। इस बार मंदिर में विश्व की सबसे बड़ी गीता भी आकर्षण का केन्द्र होगी। इस गीता का अनावरण पीएम नरेन्द्र मोदी ने इसी साल फरवरी माह में किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.