parsva ekadashi importance vaman ekadashi parivartini ekadashi 2019  pooja shubh muhurt

Parsva Ekadashi 2019 : बड़ी फलदायी है परिवर्तिनी एकादशी, जानें- शुभ मुहूर्त के साथ पूजा विधि

  • Updated on 9/6/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। परिवर्तिनी एकादशी आगामी 9 सितंबर को है और इसका हिंदू धर्म में खास महत्व है। परिवर्तिनी एकादशी में विष्णु भगवान के वामन अवतार को पूजा जाता है। ऐसी मान्याता है कि देवशयनी एकादशी पर योगनिद्रा में गए भगवान विष्णु इस दिन निद्रा में करवट लेते हैं।

परिवर्तिनी एकादशी का महत्व
भगवान विष्णु के करवट लेने का समय भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को आता है, इस कारण एकादशी को परिवर्तिनी एकादशी के रूप में भी जाना जाता है। इस दिन लक्ष्मी पूजन का भी प्रवधान है। इसे अलग-अलग नामों से भी जाना जाता है। जैसे वामन एकादशी, जयझुलनी, डोल ग्यारह, पार्श्व एकादशी और जयंती एकादशी।

Aja Ekadashi 2019: अजा एकादशी पर जानिए कैसे करें पूजा और क्या है व्रत विधि

मिलते हैं बड़े-बड़े फल
यह एकादशी समस्त पापों का नाश करने वाली मानी जाती है। शास्त्रों के अनुसार इस एकादशी के व्रत से वाजपेय यज्ञ के बराबर पुण्य फल की प्रप्ति होती है। माना जाता है कि इस व्रत के करने से पूर्वजन्म और इस जन्म में किए जाने वाले समस्त पापों से मुक्ति मिलती है।

Devshayani Ekadashi 2019: आने वाले 4 महीनों तक रूक जाएंगे सभी धार्मिक काम, जानें क्यों?

इस तरह से करें पूजा
एकादशी वाले दिन जल्दी उठकर स्नान कर एकादशी का व्रत करना चाहिए। इसके बाद भगवान विष्णु की आराधना करें और उनकी मूर्ति के पास घी का दिया जलाएं। इस एकादशी से एक दिन पहले सूर्यास्त के समय भोजन नही करना चाहिए। रात में सोते वक्त भगवान विष्णु का ध्यान जरुर करें।

पूजा में तुलसी और ऋतु फलों का इस्तेमाल करें। व्रत वाले दिन मन में अच्छे विचार रखें और दान जरूर करें। इस दिन दान करने का बड़ा महत्व होता है। शास्त्रों के अनुसार इस दिन अन्न का दान अवश्य करें। अगले दिन द्वादशी तिथि को सूर्योदय के बाद व्रत खोल लें। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.