Wednesday, Oct 23, 2019
puja-vidhi-of-yogni-ekadashi-fast

योगिनी एकादशी व्रत पर करें ये काम, सारे कष्ट, पाप और दुखों से हो जाएंगे मुक्त

  • Updated on 6/27/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हिंदू धर्म में एकादशी (Ekadashi) को लेकर कई तरह की मान्यताएं जुड़ी हैं बाकि दिनों में से सबसे ज्यादा लोग इस दिन को मानते हैं। वो इसलिए क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत भगवान विष्णु (Lord Vishnu) का होता है और जो भी इस दिन व्रत रखता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है।

कितनी होती हैं एकादशी

एकादशी को लेकर बहुत सारी मान्यता जुड़ी होती है लेकिन इसमें कई और एकादशी (Ekadashi) भी आती हैं जैसे मोहिनी एकादशी (Mohini Ekadashi), अपरा एकादशी (Apara Ekadashi), निर्जाला एकादशी (Nirjala Ekadashi) आदि। लेकिन इन सब में से जिस एकादशी का महत्व सबसे ज्यादा है वो है योगिनी एकादशी। हिंदू धर्म में योगिनी एकादशी का काफी महत्व माना जाता है।

बुधवार के दिन करें भगवान गणेश की पूजा, होगी सभी मनोकामनाएं पूर्ण

क्या है एकादशी व्रत का महत्व

अषाढ़ माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को योगिनी एकादशी (Yogni Ekadashi) कहते हैं। और इस बार योगिनी एकादशी 28 जून 2019 यानी की कल मनाई जाएगी। योगिनी एकादशी (Yogni Ekadashi) का महत्व बहुत ज्यादा है और जो भी इस दिन सच्चे मन और पवित्र मन से व्रत रखता है वो सारे पाप से मुक्त हो जाता है साथ ही सांसारिक मोह-माया और बंधनों से ऊपर उठ जाता है और मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति भी होती है।

प्रयागराज में स्थित हनुमान जी के इस मंदिर से जुड़ा है एक ऐसा रहस्य जिससे आप भी हैं अनभिज्ञ

योगिनी एकादशी व्रत की विधि

1) योगिनी एकादशी व्रत रखने के लिए सबसे पहले सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठे।
2) अपने सारे कामों से निर्व्त हो जाएं और स्नान करें।
3) पवित्र मन से मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु की मूर्ती या फिर तस्वीर पर रोली लगाएं

सोमवार के दिन शिव की भक्ति में लीन होकर करें ये पांच काम, मिलेंगे ये लाभ

4) उसके बाद पुष्प चढ़ाएं और धुप या फिर अगरबत्ती से पूजा करें।
5) इसके बाद नारायण (भगवान विष्णु) की पूजा करें और साथ ही नारायण के मंत्रो "ॐ नमो भगवते वासुदेवाय महामंत्र" का जप करें
6) लेकिन एक बात का विशेष ध्यान दें कि इस दिन चावल का सेवन बिल्कुल ना करें।

comments

.
.
.
.
.