Monday, Dec 16, 2019
rakshabandhan mythological reason and shubh muhurat

रक्षाबंधन 2019: जानें क्या होगा रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त और इससे जुड़ी खास बातें

  • Updated on 8/9/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भाई-बहन के इस पावन त्यौहार (Festival) में बस अब कुछ ही दिन शेष रह गए हैं। बता दें कि, इस बार रक्षाबंधन 15 अगस्त यानी की स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) के दिन मनाया जा रहा है। ये त्यौहार उन सभी भाई-बहनों के लिए खास है जो इस बंधन में बंधे हैं। वैसे तो रक्षाबंधन (RakshaBandhan) का त्यौहार सदियों से मनाया जाता रहा है लेकिन इसके पीछे जुड़ी पौराणिक कथाओं (Mythological History) के बारे में बहुत कम ही लोग जानते हैं।

बकरा ईद से लेकर कृष्ण जन्माष्टमी तक पड़ेंगे ये सभी त्यौहार, यहां देंखे List

क्यों मनाया जाता है रक्षाबंधन

दरअसल, राखी और वचनों का बहुत पूराना संबंध है। ये बात है उस समय की जब राखी के इस त्यौहार के बारे में कोई भी नहीं जानता है। लेकिन जब दैत्यों (Devil) और देवताओं के बीच युद्ध शुरु हुआ तो देवराज इंद्र (Devraj Indra) काफी घबरा गए जिसे उन्हें ये लगा की विजय अब राक्षसों की होगी। यह सोचकर इंद्र घबरा गए जिसके बाद वह तेजी से बृहस्पति गुरुदेव (Bharaspati Dev) के पास पहुंच गए।

सावन में देखना है शिव भक्तों की धूम तो इन जगहों का करें रुख, दूर-दूर से आते हैं श्रद्धालु

Navodayatimes

देवी सचि ने अपने पति इंद्र को बांधी थी राखी

यहां बृहस्पति और इंद्र की बातों को सुनते देख इंद्र की पत्नी सचि चिंतित हो गई जिसके बाद उन्होंने बृहस्पति से मदद मांगी यहां बृहस्पति ने इंद्र की पत्नी सचि को एक रक्षा सुत्र (कवच या धागा) दिया जिसको उन्होंने इंद्र की कलाई पर बांधने को कहा। सचि ने इंद्र की कलाई पर धागे को बांध दिया इसके बाद इंद्र की दैत्यों पर विजय हुई और तभी से ही पर्व को रक्षाबंधन के रुप में मनाया जाने लगा।

#FriendshipDay2019: इतिहास के पन्नों में दर्ज है इनकी दोस्ती के किस्से

Navodayatimes

भगवान श्रीकृष्ण के उंगली में चोट लगने पर द्रौपदी ने बांधा था कपड़े का टुकड़ा

इसके अलावा जब युद्ध के दौरान श्रीकृष्ण (Lord Krishna) के उंगली में चोट लगी थी तब द्रौपदी (Draupadi) ने अपने कपड़ें का टुकड़ा लेकर श्रीकृष्ण के उंगली पर बांधा था, जिसके बाद श्रीकृष्ण ने उन्हें सभी संकट और सदैव सहायता का वरदान दिया था। तभी ही से ही रक्षाबंधन नेतृत्व में आया।

हरियाली तीज पर इस विधि से करें पूजा, ये है शुभ मुहूर्त

जानिए क्या है शुभ मुहूर्त

बता दें कि, इस बार भाई-बहन का ये पवित्र त्यौहार काफी लंबे समय तक रहेगा जिसके चलते सभी बहनें सुबह के बजाय अब शाम में भी राखी बांध सकती है यानी की इस बार इस पर्व में कोई समय सीमा नहीं है। इस बार रक्षाबंधन 14 अगस्त 2019 से शाम 15:45 (3:45) बजे से शुरु होकर 15 अगस्त 2019 शाम 17:58 (5:58) बजे तक रहेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.