Wednesday, Jan 26, 2022
-->
worship-of-navami-durga-siddhidatri-comes-from-these-benefits

नवमी के दिन मां दुर्गा सिद्धिदात्री की पूजा करने से मिलता है ये खास लाभ, ऐसे करें पूजा

  • Updated on 10/18/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पूरे देश में नवरात्रि का त्यौहार बड़े ही धूमधाम और भक्ति के उल्लास के साथ मनाया गया है आज यानि गुरुवार को नवरात्रि का नवां और आखिरी दिन है। आज भक्त मां की पूजा के साथ अपने उपवास को भी खोलेंगे।नवरात्रि के नौवें दिन मां दुर्गा के सिद्धिदात्री स्वरूप की पूजा होती है। इनकी पूजा और उपासना करने से समस्त मनोकामनाएं पूरी होती हैं और व्यक्ति को हर क्षेत्र में सफलता मिलती है। 

नवरात्रि विशेष: अष्टमी और नवमी के दिन इस खास विधि से करें कन्या पूजन, जानें शुभ मुहूर्त

हिंदू धर्म के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि मां दुर्गा के सिद्धिदात्री की पूजा अर्चना करने से सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। इसके अलावा व्यकित के लिए हर क्षेत्र में सफलता के द्वार खुलते हुए जाते हैं। नवमी के दिन अगर इन्हीं देवी की पूजा कर ली जाए तो व्यक्ति को सभी देवियों की पूजा का फल मिल सकता है। 
  
नवमी के दिन कमल के पुष्प पर बैठी हुई देवी सिद्दिदात्री का ध्यान करना चाहिए और विभिन्न प्रकार के सुगंधित पुष्प उनको अर्पित करने चाहिए।  साथ ही इस दिन देवी को शहद अर्पित करना चाहिए और "ॐ सिद्धिदात्री देव्यै नमः" का जाप करना चाहिए। 

यूं करें अष्टमी पर महागौरी का पूजन, जानिए क्या है कथा?

नवमी के दि 2 साल से लेकर 10 साल की उम्र तक की बच्चियों की पूजा को महत्व दिया जाता है। कहा गया है कि अलग-अलग उम्र की कन्याएं देवी के अलग-अलग रूप को दर्शाती हैं। इसके अलावा माना जाता है कि आप जब तक नौ कन्याओं को नौ देवियों के प्रतिबिंब के रूप में नहीं हैं तो आपके नवरात्रि में व्रत रखने की पूजा का फल नहीं मिलता है।

 मां दुर्गा के सिद्धिदात्री की पूजा अर्चना करने के लिए आपको मां के समक्ष देशी घी का दीपक जलाना चाहिए। इसके बाद मां को नौ कमल के या लाल गुलाब के फूल अर्पित करें। इसके बाद मां को नौ तरह के खाद्य पदार्थ भी अर्पित करें। अब इन अर्पित हुए फूल और फल को य़ा मिठाई को लाल कपड़े में बांधकर रख दें। इसके बाद कन्याओं औऱ निर्धनों को खाना खिलाकर खुद भी भोजन कर लें।  

नवरात्रि के सातवें दिन मां दुर्गा के इस रूप की होती है पूजा, जानें विधि

मां सिद्धिदात्री के अंदर सभी देवियां समाहित हैं। अगर नवरात्रि में केवल इन्हीं की पूजा कर ली जाए तो सम्पूर्ण नवरात्रि का फल मिल जाता है। इन देवियों की पूजा करने से आपको अपार यश और वैभव की प्राप्ति होगी। इसके अलावा देवी की उपासना से व्यक्ति को समस्त सिद्धियां भी मिल जाती हैं। साथ ही व्यक्ति ग्रहों के दुष्प्रभाव से भी बच जाता है।  
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.