Sunday, Oct 17, 2021
-->
corona-s-delta-version-and-the-increasing-threat-of-third-wave-musrnt

कोरोना का ‘डेल्टा वर्जन’ और तीसरी लहर का बढ़ता खतरा

  • Updated on 8/2/2021

गृह और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा 30 जुलाई की सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत में पिछले 24 घंटों में 44,230 नए कोविड -19 मामले दर्ज किए गए, जिससे देश में कुल कोरोना वायरस मामलों की संख्या 3,15,72,344 हो गई।
ऐसे में पांच राज्य जिन्होंने सबसे अधिक कोविड-19 मामले दर्ज किए हैं, वे हैं केरल (22,064 मामले), महाराष्ट्र (7,242), आंध्र प्रदेश (2,107), कर्नाटक (2,052) और तमिलनाडु (1,859) तथा अब मणिपुर और मिजोरम में भी मामलों में वृद्धि देखी जा रही है।
इन पांच राज्यों से 79.85 प्रतिशत नए मामले सामने आए हैं, जिनमें अकेले केरल 49.88 प्रतिशत नए मामलों के लिए जिम्मेदार है। 
देश में तीसरी लहर का खतरा गहराता जा रहा है। केरल में इस समय कोरोना के सबसे अधिक मामले सामने आ रहे हैं। इसके 2 कारण बताए जा रहे हैं, एक तो यहां पर टैस्टिंग ज्यादा हो रही है और दूसरा कारण शायद यह माना जा रहा है कि बकरीद के दौरान तीन दिनों की छूट दी गई थी। 
ऐसे में जहां सर्वोच्च न्यायालय के संज्ञान लेने के बावजूद 15 जुलाई तक उत्तर प्रदेश सरकार कांवड़ यात्रा रोकने को तैयार नहीं थी, वहीं उत्तराखंड में कुंभ के अनुभव के बाद कांवड़ यात्रा पर रोक लगा दी गई थी क्योंकि त्यौहारी सीजन आने वाला है इसलिए केंद्र तथा राज्य सरकारों को भी चाहिए कि मेलों तथा त्यौहारों पर ज्यादा भीड़ इकट्ठी न होने दें और इन्हें मनाने के लिए ज्यादा प्रोत्साहन न दिया जाए।
विश्व में कोरोना की तीसरी लहर आ गई है। अमरीकी राष्ट्रपति जो बाइडेन इसे ‘पैंडेमिक ऑफ द अनवैक्सिनेटिड’ यानी टीका न लगवाने वालों की महामारी कहते हैं। इसी बीच एक चिंताजनक घटनाक्रम भारत में शुरू हुआ और तेजी से अपना स्वरूप बदलने वाला कोरोना का डेल्टा वर्जन अब अमरीका, ऑस्ट्रेलिया, यू.के., मैक्सिको तथा यूरोप के कुछ  देशों में तेजी से फैल चुका है लेकिन सबसे खराब स्थिति इंडोनेशिया की है। 
चिकन पॉक्स की भांति ही डेल्टा वर्जन मूल वायरस की तुलना में दोगुनी तेजी से फैलता है। यही कारण है कि अधिक वैक्सीनेशन वाले क्षेत्रों में भी यह अधिक तेजी से लोगों को अपनी चपेट में लेने में सक्षम है। डेल्टा वर्जन खतरनाक हो रहा है मगर उसके लिए अस्पताल जाने की जरूरत नहीं है। 
यही कारण है कि अमरीका को एम.आर.एन.ए. टीकों की तीसरी खुराक की आवश्यकता पडऩे वाली है, जबकि देश की वृद्ध जनसंख्या को तीन टीके देने में पहले ही देरी हो चुकी है। 
वैक्सीनोलॉजी के गॉडफादर माने जाने वाले तथा पेनसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के वैक्सीन आविष्कारक और इम्युनोलॉजिस्ट स्टेनली प्लॉटकिन का इस विषय में कहना है कि,‘‘मुझे नहीं लगता कि अभी वायरस कहीं गायब होने वाला है।’’ 
वह बताते हैं कि अमेरिकन फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफ.डी.ए.) को इसराईल के उदाहरण का अनुसरण करते हुए फाइजर के आग्रह को स्वीकार करके 60 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्कों के लिए तीसरी खुराक के टीकाकरण को तुरंत स्वीकृति प्रदान करनी चाहिए। इसके साथ ही सभी अमरीकियों के लिए भी तीन टीकों की नीति का अनुसरण करना चाहिए। 
कुल मिलाकर इस समय कोरोना से बचाव का एक मात्र उपाय वैक्सीनेशन ही है परन्तु अभी भारत में 10 करोड़ लोगों को ही वैक्सीन की दोनों खुराकें दी जा चुकी हैं। टीकाकरण की इस रफ्तार से बहुत समय लग जाएगा। वैक्सीनेशन के अभाव में सामाजिक दूरी तथा मास्क पहनना जरूरी है। जहां तक हो सके स्वास्थ्य सहूलियतों को अपग्रेड किया जाए। 
अस्पतालों से प्राप्त साक्ष्यों के अनुसार वैक्सीनेशन अस्पतालों के इलाज की तुलना में 89 प्रतिशत ही प्रभावी है। अत: फिलहाल आवश्यकता है कि भले ही राज्यों में किसी सीमा तक लॉकडाऊन आदि में छूट दी जाए परन्तु मास्क पहनना, भीड़ से सुरक्षित दूरी बना कर रखना और सार्वजनिक समारोहों आदि में भीड़ पैदा होने से रोकना जैसे सुरक्षा नियमों की सख्ती से पालना भी जरूरी है। 
देश में आक्सीजन की कमी से मौतें होने से सरकार इंकार कर रही है, परंतु फिर भी अब जबकि कोरोना की तीसरी लहर दस्तक देने वाली है, इस बात की प्रबल आवश्यकता है कि देश में ऑक्सीजन सेवाओं को सक्षम बनाया जाए। 
ऐसे में जहां ‘वीकैंड लॉकडाऊन’ काम नहीं कर रहे, उन क्षेत्रों, जहां कोरोना तेजी से फैल रहा है, में 7 से 10 दिन का लॉकडाऊन सख्ती से लगाने की आवश्यकता है। ज्यादा मामलों को झेल रहे राज्यों में हैल्थ सिस्टम को सुधारने तथा उसे और अधिक सशक्त करने की आवश्यकता है। ऑक्सीजन प्लांट लगाने, उन्हें बढ़ाने तथा दवाइयों आदि की उपलब्धता की ओर ध्यान देने की भी आवश्यकता है। जीनोमिक निगरानी भी अनिवार्य है ताकि ध्यान दिया जा सके कि कोविड की नई किस्में तो नहीं आ रहीं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.