Tuesday, May 26, 2020

Live Updates: 63rd day of lockdown

Last Updated: Tue May 26 2020 03:15 PM

corona virus

Total Cases

146,208

Recovered

61,052

Deaths

4,187

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA52,667
  • TAMIL NADU17,082
  • GUJARAT14,468
  • NEW DELHI14,465
  • RAJASTHAN7,376
  • MADHYA PRADESH6,859
  • UTTAR PRADESH6,497
  • WEST BENGAL3,816
  • ANDHRA PRADESH2,886
  • BIHAR2,737
  • KARNATAKA2,182
  • PUNJAB2,081
  • TELANGANA1,920
  • JAMMU & KASHMIR1,668
  • ODISHA1,438
  • HARYANA1,213
  • KERALA897
  • ASSAM549
  • JHARKHAND405
  • UTTARAKHAND349
  • CHHATTISGARH292
  • CHANDIGARH266
  • HIMACHAL PRADESH223
  • TRIPURA198
  • GOA67
  • PUDUCHERRY49
  • MANIPUR36
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA15
  • NAGALAND3
  • ARUNACHAL PRADESH2
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2
  • DAMAN AND DIU2
  • MIZORAM1
  • SIKKIM1
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
effects-of-coronavirus-on-human-relationships-aljwnt

कोरोना के महासंकट में यह सब कुछ भी हो रहा है

  • Updated on 4/28/2020

लॉकडाउन के कारण पिछले लगभग एक महीने से लोग घरों में कैद हैं और इस दौरान अच्छी-बुरी दोनों तरह की खबरें सामने आ रही हैं। पुरुषों ने पहली बार इतने लम्बे समय तक घरों में रहने के बाद अपने परिवार की महिलाओं का महत्व महसूस किया है और देखा है कि अपने पतियों की जरूरतें पूरी करने के अलावा वे और कितने काम करती हैं।

इनमें खाना पकाने के अलावा बच्चे संभालना, कपड़े धोना, घर की सफाई तथा घर के आॢथक मामलों की देख-रेख करना आदि शामिल है। पहली बार पति-पत्नियों के लगातार लम्बे समय तक इकट्ठे रहने से उनके आपसी छोटे-छोटे मन-मुटाव और गिले-शिकवे भी दूर हुए हैं और वे एक-दूसरे को पहले से अच्छी तरह जानने-समझने लगे हैं।

पुरुषों को अपने बच्चों के गुण-अवगुण का पता चलने के अलावा इस बात का भी एहसास हुआ है कि उन्हें किस प्रकार की शिक्षा दिलाई जानी चाहिए जिससे उनका भविष्य उज्ज्वल बनाया जा सके। ‘कोरोना’ संकट के चलते प्रसारित हो रहे प्रसिद्ध धारावाहिक ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ भी लोगों का ध्यान ‘कोरोना’ से हटानेे में योगदान डाल रहे हैं और इनके अलावा पुरानी फिल्में आदि देख कर भी समय बिता रहे हैं।

चूंकि इस आपदाकाल में बुजुर्गों की अधिक मौतों के समाचार आ रहे हैं अत: संतानें बुजुर्ग माता-पिता की ओर पहले से अधिक ध्यान देने लगी हैं जिससे अब तक उपेक्षित रहे बुजुर्गों को अच्छा महसूस हो रहा है। इस लॉकडाऊन के दौरान कुछ दिलचस्प घटनाक्रम भी देखने में आ रहे हैं। घरों में बंद लोगों ने ‘पोर्न’ देखना शुरू कर दिया है। खबरों के अनुसार इस मामले में भारत दुनिया भर के देशों में लीड कर रहा है।

अगर विदेशों की बात करें तो ‘कोरोना’ संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित देशों में से एक इटली की एक प्रमुख पोर्नोग्राफी की साइट ने एक महीने के लिए अपनी साइट का शुल्क भी माफ कर दिया है। लॉकडाऊन के लगभग एक महीने में भारत में एडल्ट पोर्न साइट पर जाने वालों का ट्रैफिक 95 प्रतिशत बढ़ा है। हाल ही के एक सर्वे के अनुसार भारत में पोर्न देखने वालों में 90 प्रतिशत पुरुष तथा 1 प्रतिशत महिलाएं हैं।

इतने लम्बे समय तक नौकरी-पेशा दम्पतियों को घरों में एक साथ इकट्ठे रहने का पहली बार मौका मिलने से कहीं-कहीं घरेलू हिंसा तथा तलाक के मामले भी सामने आ रहे हैं। पंजाब में पुलिस के पास पीड़ित महिलाओं की ओर से घरेलू ङ्क्षहसा की रोज 133 शिकायतें पहुंच रही हैं तीन महीने पहले की तुलना में 34 प्रतिशत अधिक हैं जबकि राष्ट्रीय महिला आयोग के पास भी पिछले 30 दिनों में 1000 से अधिक शिकायतें पहुंची हैं।

अनेक परिवारों में पुरुषों द्वारा  शराब के नशे में अपनी पत्नियों को टार्चर करने की शिकायतें आ रही हैं। यहां तक कि सब्जी में नमक कम होने जैसी छोटी-छोटी बातों पर महिलाओं को उत्पीड़ित किया जा रहा है।

* 16 अप्रैल को हिसार में शराब पी कर घर आए एक पुलिस कांस्टेबल ने अपनी पत्नी से कलह के बाद उसकी हत्या कर दी।

* इसी दिन राजपुरा में कफ्र्यू के कारण 15 दिनों से घर में बैठ कर शराब पी रहे व्यक्ति ने पत्नी द्वारा रोकने पर जबरदस्ती उसके मुंह से तेजाब की बोतल लगा कर उसे पिलाने की कोशिश की जिससे उसका चेहरा झुलस गया।

राष्ट्रीय महिला आयोग की चेयरपर्सन रेखा शर्मा के अनुसार, 'घरेलू ङ्क्षहसा से संबंधित विभिन्न प्रकार की शिकायतें मिल रही हैं जिनमें कुछ पतियों द्वारा  अपनी पत्नियों के साथ मारपीट करने के अलावा उन्हें गालियां देना और उनको ‘कोरोना’ वायरस कह कर बुलाना भी शामिल है।'

लॉकडाऊन के दौरान घरों में बंद रहने की मजबूरी के चलते कुछ संतानें अपने बुजुर्गों से दुव्र्यवहार भी करने लगी हैं और कुछ मामलों में अपने बीमार माता-पिता को ‘कोरोना’ के शक में घर से ही निकाल दिया है।

* 29 मार्च को उत्तर प्रदेश में प्रतापगढ़ के पुरवा गांव में एक युवक ने कफ्र्यू के दौरान किसी विवाद के चलते घर में बंद माता-पिता सहित परिवार के चार लोगों को मारपीट कर घायल करने के अलावा घर में आग लगा दी।

* 02 अप्रैल को औरैया जिले में एक बेटी ने मिलने आए अपने बुजुर्ग माता-पिता, भाई और भाभी को जबरदस्ती घर से निकाल दिया।

* 17 अप्रैल को उत्तराखंड के कोटद्वार में एक युवक ने अपनी 85 वर्षीय मां से पीछा छुड़ाने के लिए न सिर्फ मारपीट कर घर से निकाल दिया बल्कि उसके बैंक की पासबुक, पैंशन और दूसरे जरूरी कागजात भी छीन लिए।

* 17 अप्रैल को रतलाम में कफ्र्यू के दौरान शराब पीकर माता-पिता के साथ मारपीट कर रहे बड़े भाई की छोटे भाई ने हत्या कर दी।

* 21 अप्रैल को बलियांवाली के गांव मंडी कलां में एक युवक ने किसी विवाद पर चाचा के साथ मिल कर अपनी मां को मार डाला।

* 22 अप्रैल को टीकमगढ़ में चार बेटों के साथ रहने वाली 90 वर्षीय वृद्धा को उसके बेटों ने घर से निकाल दिया कि वे उसका खर्च नहीं उठा सकते।

* 25 अप्रैल को खन्ना में रहने वाले बुजुर्ग माता-पिता को उनके बेटे ने घर से बाहर निकाल दिया और उनका सामान भी बाहर फैंक दिया।

ऐसी नौबत न आए इसके लिए हम बुजुर्गों को अक्सर सलाह देते रहते हैं कि अपने परिवारों में रहते हुए वे अपनी जुबान बंद ही रखें और छोटी-मोटी बातों को ले कर बेटे-बहुओं की अनावश्यक नुक्ताचीनी न करें। कुल मिलाकर देश-विदेश में लॉकडाऊन के दौरान कुछ ऐसे दृश्य देखने को मिल रहे हैं जो हमें कुछ और समय तक देखने पड़ सकते हैं।

—विजय कुमार

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.