Tuesday, Dec 07, 2021
-->
horrifying-atrocities-on-their-own-women-and-children-along-with-the-hoodlums

बेगानों के साथ-साथ अपने भी कर रहे महिलाओं और बच्चियों पर भयावह अत्याचार

  • Updated on 6/24/2018

आज देश में महिलाओं और बच्चों पर हो रहे अत्याचारों के कारण हाहाकार-सा मचा हुआ है और विडम्बना यह भी है कि इन अमानवीय अत्याचारों में बाहरी लोगों के साथ-साथ पिता, पति और भाई आदि व चंद धार्मिक लोग भी शामिल पाए जा रहे हैं जिसके मात्र लगभग एक मास के उदाहरण निम्न में दर्ज हैं :   

27 मई को ग्रेटर नोएडा के ‘कुलेसरा’ गांव में मुकेश कुमार नामक व्यक्ति नाश्ता मिलने में देर होने पर अपनी पत्नी से उलझ पड़ा और अपने बेटे तथा बेटी के सामने तौलिए से गला घोंट कर उसकी हत्या कर दी। 
04 जून को हिमाचल में सोलन जिले में एक नाबालिग लड़की ने अपने पिता पर उसके साथ अश्लील हरकतें करने का आरोप लगाया।

06 जून को अबोहर-जलालाबाद के बूरवाल गांव में मनजीत सिंह मन्नू नामक युवक ने पैसे देने से इंकार करने पर अपनी मां छिद्रपाल कौर और बहन सीमा रानी की बेलचे से वार करके हत्या कर दी। 

06 जून को उत्तर प्रदेश के जौनपुर में चोरी के आरोप में एक महिला को निर्वस्त्र कर पीटा गया और उसके गुप्तांग में लोहे की गर्म छड़ डाल दी गई। 

07 जून को राजस्थान के जोधपुर में एक अंधविश्वासी पिता ने पवित्र रमजान के महीने में अल्लाह की रहमत पाने के लिए कुर्बानी के नाम पर अपनी 4 साल की बेटी को गला रेत कर मार डाला। 

10 जून को भिवंडी में मोबाइल पर पोर्न देखने के आदी 14 वर्षीय पोर्न एडिक्ट को अपनी 16 वर्षीय बहन से बलात्कार करके उसे गर्भवती करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया।

12 जून की रात को मोगा में एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी के साथ मारपीट कर उसे पूरी रात बंधक बनाए रखा। अस्पताल में उपचाराधीन पीड़िता ने बाद में पुलिस को बयान दिया कि उसके पति ने सारी रात उसे नग्नावस्था में रखा और मारपीट करने के अलावा उसके गुप्तांग में पेचकस मारता रहा।  

14 जून को बंगाल के मालदा में ‘पुखुरिया’ के ‘छकरामेरी’ गांव में गेंदू शेख नामक व्यक्ति ने अपनी पत्नी मीनू के साथ मारपीट और उसके गुप्तांग में छड़ी डालकर बुरी तरह टॉर्चर करके उसकी हत्या कर दी। मीनू ने एक विधवा स्त्री के साथ गेंदू शेख के संबंधों पर एतराज किया था।

16 जून को असम के डिब्रूगढ़ में बेटी से बलात्कार के आरोपी एक व्यक्ति ने चाकू से गला रेत कर अपनी पत्नी की हत्या कर दी। 

19 जून को पिंजौर में एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी द्वारा उसके विवाहेतर संबंधों पर आपत्ति करने पर अपनी पत्नी तथा 12 वर्षीय बेटी की छाती पर चढ़ कर दोनों को बेरहमी से पीटा। 

20 जून को जबलपुर में अपनी बेटी पर बुरी नजर रखने वाले पति को उसकी पत्नी ने मरवा डाला।

20 जून को गुडग़ांव के नाहरपुर गांव में अपने पड़ोसी की 5 वर्षीय बेटी से बलात्कार करने के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया। 

20 जून को झारखंड में रांची के चौचांग गांव में मानव तस्करी के संबंध में जागरूकता फैलाने गई एक एन.जी.ओ. से जुड़ी 5 महिलाओं के अपहरण और बंदूक के दम पर सामूहिक बलात्कार के संबंध में एक ईसाई पादरी सहित 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया।

22 जून को बाड़मेर के गिराब थाना क्षेत्र के ऊनरोड़ में 8 वर्षीय एक मासूम की अपहरण और बलात्कार के बाद हत्या कर दी गई।
22 जून को ही तरनतारन के झंडेर महानपुर गांव में एक लड़के ने एक 12 वर्षीय लड़की को अपने घर बुला कर उससे बलात्कार कर डाला। 

22 जून को टांडा के गांव फत्ताकुला में एक विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। मृतका के पिता ने ससुरालियों पर लड़की से मारपीट करके उसे जबरदस्ती जहर देकर मारने का आरोप लगाया है। 

भारत जैसे देश में जहां महिलाओं को देवी का दर्जा प्राप्त है और सदियों से यह कहावत चली आ रही है कि ‘यत्र नार्यस्तू पूज्यंते रमंते तत्र देवता’ अर्थात जहां महिलाओं की पूजा होती है, वहां देवता निवास करते हैं, उसी भारत में आज नारी जाति पर इस प्रकार के अत्याचार घोर निंदनीय और समाज में आ रही गिरावट तथा पुरुष प्रधान समाज के दोहरे मापदंडों का मुंह बोलता प्रमाण हैं।     —विजय कुमार 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.