Tuesday, Jan 19, 2021

Live Updates: Unlock 8- Day 19

Last Updated: Tue Jan 19 2021 03:44 PM

corona virus

Total Cases

10,582,662

Recovered

10,227,863

Deaths

152,593

  • INDIA10,582,662
  • MAHARASTRA1,992,683
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA931,997
  • KERALA911,382
  • TAMIL NADU831,323
  • NEW DELHI632,590
  • UTTAR PRADESH596,904
  • WEST BENGAL565,661
  • ODISHA333,444
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • RAJASTHAN314,920
  • JHARKHAND310,675
  • CHHATTISGARH293,501
  • TELANGANA290,008
  • HARYANA266,309
  • BIHAR258,739
  • GUJARAT252,559
  • MADHYA PRADESH247,436
  • ASSAM216,831
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB170,605
  • JAMMU & KASHMIR122,651
  • UTTARAKHAND94,803
  • HIMACHAL PRADESH56,943
  • GOA49,362
  • PUDUCHERRY38,646
  • TRIPURA33,035
  • MANIPUR27,155
  • MEGHALAYA12,866
  • NAGALAND11,709
  • LADAKH9,155
  • SIKKIM5,338
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,983
  • MIZORAM4,322
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,374
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
kidnapping-of-a-sikh-in-afghanistan-after-the-march-25-gurdwara-massacre-aljwnt

25 मार्च के गुरुद्वारा नरसंहार कांड के बाद अफगानिस्तान में एक सिख का अपहरण

  • Updated on 6/24/2020

अफगानिस्तान में हिंदूशाही का पुराना इतिहास है। इतिहासकारों के अनुसार जयपाल देव काबुल का अंतिम बड़ा हिंदू सम्राट माना जाता है। वह 964 से 1001 ईस्वी तक काबुल का राजा रहा। उसके बाद अगले 200 वर्षों में धीरे-धीरे वहां से हिंदू शासन का लगभग अंत हो गया।  

इसके बाद भी लम्बे समय तक अफगानिस्तान में विभिन्न संस्कृतियां  फलती-फूलती रहीं परन्तु कुछ दशक पूर्व जब यह तालिबान, अल कायदा और अन्य कट्टïरवादी इस्लामी संगठनों का गढ़ बन गया तो अफगानिस्तान में न सिर्फ दूसरे धर्मों की महान धरोहरों को नष्ट कर दिया गया बल्कि वहां रहने वाले धार्मिक अल्पसंख्यकों पर अत्याचार भी शुरू हो गए। 

1980 के दशक में धार्मिक कट्टरवादियों द्वारा अफगानिस्तान में जड़ें जमाने से पूर्व वहां लगभग 2 लाख 20 हजार हिंदू और सिख रहते थे परन्तु इनके भय से पिछले 3 दशक के दौरान वहां से लगभग 99 प्रतिशत हिंदू और सिख पलायन करके दूसरे देशों को चले गए हैं।

इसी वर्ष 25 मार्च को आतंकवादी संगठन आई.एस. के बंदूकधारियों द्वारा काबुल स्थित गुरुद्वारा हर राय साहिब पर हमला करके कम से कम 25 सिखों की हत्या कर देने के बाद वहां बचे हुए 700 सिख दहशत में हैं। और अब 18 जून को अफगानिस्तान के चमकनी शहर के पख्तिया इलाके के गुरुद्वारा साहिब में सेवा कर रहे अफगान मूल के एक सहजधारी सिख निधान सिंह सचदेवा का पाकिस्तान की खुफिया एजैंसी आई.एस.आई. के इशारे पर तालिबानी आतंकवादियों के एक गिरोह ने अपहरण कर लिया।  

निधान सिंह सचदेवा के रिश्ते के भाई चरण सिंह के अनुसार निधान सिंह सचदेवा को फोन करने पर दूसरी ओर से कोई व्यक्ति यह कहता सुनाई दिया, ‘‘तुम्हारा भाई भारत का जासूस है।’’ हालांकि अफगानिस्तान में फंसे सिख समुदाय के सदस्यों ने काबुल स्थित भारतीय दूतावास से इन्हें यहां से निकालने की गुहार की है परन्तु अभी तक उन्हें कोई उत्तर नहीं मिला। 

प्रेक्षकों के अनुसार अफगानिस्तान से अमरीकी सेनाओं के निकलने के निर्णय के बाद वहां आतंकवादी गिरोहों, आई.एस.आई. और तालिबान के हौसले बहुत बढ़ गए हैं और उन्होंने भारतीयों पर हमले करके उनकी नस्लकुशी का सिलसिला शुरू कर रखा है। 

हालांकि भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने अफगानिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों के उत्पीड़न पर कड़ी चिंता व्यक्त की है परन्तु इतना ही काफी नहीं है। भारत सरकार को वहां रहने वाले अपने अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों की सुरक्षा यकीनी बनाने और उनकी वहां से सकुशल वापसी में तेजी लाने की जरूरत है।

—विजय कुमार

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.