Friday, Apr 19, 2019

हमारे नेता और चुनावों से संबंधित छोटी-मोटी दिलचस्प बातें

  • Updated on 3/28/2019

चुनावी महापर्व दिन-प्रतिदिन दिलचस्प होता जा रहा है और हर बीतने वाले दिन के साथ चुनावी रंगमंच पर नए-नए दृश्य देखने को मिल रहे हैं जिसकी कुछ झलकियां निम्र में दर्ज हैं :

लोकसभा चुनावों के लिए पार्टी का टिकट न मिलने से नाराज औरंगाबाद से कांग्रेसी विधायक अब्दुल सत्तार ने न सिर्फ पार्टी छोड़ दी बल्कि पार्टी कार्यालय में पड़ी 300 कुर्सियां भी उठवा कर साथ ले गया।

चुनाव आयोग ने लोगों को अपने हथियार पुलिस के पास जमा करवाने के आदेश दिए हैं परंतु उसके पास जगह की कमी होने के कारण अनेक लोग अपने हथियार गन हाऊसों में जमा करवा रहे हैं जो इसके लिए 2000 से 2500 रुपए तक किराया वसूल कर रहे हैं।

सिने सितारे भी राजनीतिक दलों की ओर ङ्क्षखचे चले आ रहे हैं। इसी कड़ी में 27 मार्च को भोजपुरी फिल्मों के 2 सुपरस्टारों रवि किशन और ‘निरहुआ’ ने भाजपा का दामन थाम लिया है जो इन्हें गोरखपुर और आजमगढ़ से चुनाव लड़वा सकती है।

इससे पूर्व प्रख्यात अभिनेत्री जयाप्रदा सपा छोड़ कर भाजपा में शामिल हो गईं जिन्हें पार्टी में शामिल होने के 5 घंटे के भीतर ही रामपुर से सपा के आजम खान के विरुद्ध चुनाव लडऩे के लिए टिकट दे दिया गया।

इन दोनों में पुरानी अदावत है, अत: रामपुर में मुकाबला बेहद दिलचस्प होने की आशा है। आजम खान ने कहा है कि ‘‘कौन आ रहा है और कौन आ रही है, इससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता।’’

उत्तरी मुम्बई की लोकसभा सीट से 2014 में कांग्रेस के संजय निरुपम साढ़े चार लाख से अधिक वोटों के अंतर से हारे थे। इसे देखते हुए यहां से चुनाव लडऩे के लिए कोई भी कांग्रेसी तैयार नहीं है लिहाजा इस बार कांग्रेस यहां से फिल्म अभिनेत्री और छम्मा-छम्मा गर्ल उर्मिला मातोंडकर को खड़ा करने जा रही है जो 27 मार्च को कांग्रेस में शामिल हो गईं।

गत दिनों हरियाणवी नर्तकी व गायिका सपना चौधरी के कथित रूप से कांग्रेस में शामिल होने, फिर खंडन करने और भाजपा में शामिल होने की अटकलें सुनाई दी थीं पर बाद में इस पर भी विराम लग गया। केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने कहा है कि ‘‘सपना हरियाणवी कल्चर की आर्टिस्ट हैं व उन्हें इसी में पनपना चाहिए। राजनीति में हम जैसे बहुत बैठे हैं।’’

पिछले दिनों वरिष्ठï भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी की ओर से कथित रूप से जारी किया गया एक SMS सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। कानपुर के मतदाताओं को संबोधित बिना हस्ताक्षरों वाले इस SMS में कथित रूप से कहा गया था कि ‘‘भाजपा के संगठन महासचिव श्री राम लाल ने मुझसे कहा है कि मुझे कानपुर से या किसी भी अन्य स्थान से लोकसभा का आगामी चुनाव नहीं लडऩा चाहिए।’’

अगले ही दिन समाचार आ गया कि भाजपा ने श्री अडवानी का टिकट काटने के बाद अब श्री मुरली मनोहर जोशी का टिकट भी काट दिया है।

भाजपा ने उत्तर प्रदेश से अपने एक नेता आई.पी. सिंह को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया। श्री सिंह ने आश्चर्य व्यक्त किया था कि क्या देश ने सही प्रधानमंत्री चुना है या प्रचार मंत्री?

उन्होंने यह भी कहा ‘‘मैं सिद्धांतवादी क्षत्रिय परिवार से संबंध रखता हूं। दो गुजराती ठग देश पर कब्जा करने के बाद 5 वर्षों से ङ्क्षहदी भाषियों को मूर्ख बनाते आ रहे हैं।’’

22 मार्च को कर्नाटक में जद (एस) के विधायक K M शिवलिंगे गौड़ा ने कहा, ‘‘जब भी आपको कोई मोदी-मोदी कह कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए वोट मांगने वाला मिले तो उसे कस कर एक थप्पड़ लगाएं।’’

चुनाव लड़ रहे उम्मीदवार मतदाताओं को तरह-तरह के प्रलोभन दे रहे हैं। तमिलनाडु में तिरुपुर से चुनाव लड़ रहे निर्दलीय उम्मीदवार A M शेख दाऊद ने हर परिवार को प्रति माह 10 लीटर शराब देने तथा प्रत्येक गृहिणी को 25,000 रुपए मासिक सहायता देने की बात कही है।

चुनावी मौसम में प्राइवेट जासूसों की भी खूब चांदी हो रही है तथा चुनाव लडऩे के इच्छुक बड़े पैमाने पर अपने प्रतिद्वंद्वियों की निजी बातों, उनके फोन काल रिकार्ड, बैंक स्टेटमैंट, लव अफेयर, कमजोरियों व दैनिक गतिविधियों आदि का पता लगाने के लिए उनकी सेवाएं ले रहे हैं। इसके लिए वे भारी रकम वसूल करने के साथ ही प्राप्त जानकारी का वीडियो उपलब्ध करवाने के लिए अतिरिक्त रकम वसूल कर रहे हैं।  —विजय कुमार

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख (ब्लाग) में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इसमें सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इसमें दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार पंजाब केसरी समूह के नहीं हैं, तथा नवोदय टाइम्स (पंजाब केसरी समूह) उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.