Friday, May 14, 2021
-->
raise the dignity of lord ram holy name send donations only to the trust aljwnt

भगवान राम के पावन नाम की गरिमा बढ़ाएं, चंदा केवल ट्रस्ट को भेजें

  • Updated on 1/20/2021

श्री राम जन्मभूमि विवाद पर लम्बी अदालती लड़ाई के बाद अंतत: 9 नवम्बर, 2019 को सुप्रीमकोर्ट के प्रधान न्यायाधीश श्री रंजन गोगोई (Ranjan Gogoi) के नेतृत्व में अदालत ने सर्वसम्मति से ‘निर्मोही अखाड़े’ और ‘सुन्नी वक्फ’ बोर्ड दोनों के दावों को खारिज करके  ‘राम लला विराजमान’ के पक्ष में सशर्त फैसला सुनाते हुए कहा था कि ‘‘विवादित भूमि पर ही मंदिर बनेगा।’’ इसके साथ ही मान्य अदालत ने इस भूमि का स्वामित्व ‘रामलला विराजमान’ को देने और वहां मंदिर के निर्माण की रूपरेखा तय करने के लिए 3 महीने में एक ट्रस्ट बनाने का सरकार को आदेश दिया था। 

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुरूप 5 अगस्त, 2020 को वह सौभाग्यशाली क्षण आया जब पवित्र नगरी अयोध्या में जिस स्थान पर प्रभु श्री राम प्रकट हुए थे, वहां भव्य मंदिर के निर्माण के संकल्प की पूर्ति की शुरूआत करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन किया।

इस बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघ चालक ‘मोहन भागवत’ (Mohan Bhagwat) ने ब्रज प्रांत कार्यकारिणी की बैठक में अपने सेवकों से दल, धर्म और विचारधारा से ऊपर उठ कर हर परिवार तक पहुंचने को कहा ‘‘क्योंकि हर व्यक्ति भगवान राम का है और रामकाज में सहयोग करना चाहता है।’’

इमरान के हाथ से निकलता पाकिस्तान सिंध, पाक अधिकृत कश्मीर आदि में बढ़ा असंतोष 

इसी प्रकार बाबरी मस्जिद प्रकरण में पक्षकार रहे ‘हाशिम अंसारी’ के पुत्र ‘इकबाल अंसारी’ ने मंदिर निर्माण में योगदान देने की घोषणा करते हुए कहा है कि क्योंकि ‘‘राम मंदिर का निर्माण वस्तुत: ‘राष्ट्र मंदिर’ का निर्माण है, अत: लोग किसी धार्मिक विवाद में पड़े बगैर मंदिर के निर्माण में योगदान दें।’’

बंगलादेश मूल की लेखिका ‘तस्लीमा नसरीन’ ने भी  मंदिर निर्माण हेतु धन जुटाने के लिए मुसलमानों को आगे आने का आह्वान करते हुए कहा है कि ‘‘अगर मुसलमान दान करते हैं तो इससे निश्चित रूप से हिंदू-मुस्लिम सद्भाव बढ़ेगा और हिंदुओं के साथ उनके संबंध मजबूत होंगे। मुसलमानों को मंदिर के लिए धन जुटाने को आगे आना चाहिए।’’

एक ओर प्रभु श्री राम के मंदिर निर्माण के लिए क्या अमीर और क्या गरीब सभी आय वर्ग और सभी धर्मों के लोग अपनी-अपनी सामथ्र्य के अनुसार दिल खोल कर योगदान दे रहे हैं तो दूसरी ओर कुछ असामाजिक तत्वों ने राम मंदिर के नाम पर धर्म प्रेमियों से अवैध चंदा वसूली करके लोगों से छल करना शुरू कर दिया है।

अब हमारे नेताओं पर लग रहे बलात्कार और यौन शोषण के आरोप

हाल ही में उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में ‘राष्ट्रीय बजरंग दल’ के नाम से नकली बजरंग दल की रसीदें छपवा कर राम भक्तों से  ठगी करने के आरोप में 4 लोगों के विरुद्ध केस दर्ज करवाया गया है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तथा पंचायती राज कैबिनेट मंत्री चौधरी भूपेन्द्र सिंह की फोटो लगी नकली रसीद देकर लोगों से चंदा वसूली की धोखाधड़ी करने का मामला भी सामने आया।

इससे पूर्व पिछले वर्ष सितम्बर मास में भी उत्तर प्रदेश के मेरठ में विश्व हिंदू परिषद कार्यकत्र्ताओं की शिकायत पर श्री राम मंदिर निर्माण के नाम पर ठगी कर रहे एन.जी.ओ. संचालक को गिरफ्तार किया गया था जो स्वयं को ‘विश्व ङ्क्षहदू परिषद’ का नेता बताकर लोगों से चंदा ले रहा था। 

ये हैं हमारे आज के नेतागण और पढि़ए इनके बयानात

यही नहीं राम मंदिर हेतु चंदा जुटाने के लिए गुजरात के कच्छ जिले के ‘किडना’ गांव में निकाली गई रैली के दौरान 2 समुदायों में मारामारी हो गई। उपद्रवी भीड़ ने एक-दूसरे पर पत्थर बरसाए बल्कि कुछ वाहनों को आग लगा दी। एक समूह के लोगों ने एक आटो रिक्शा पर हमला कर दिया जिसमें एक व्यक्ति की मृत्यु और 3 घायल हो गए।

करोड़ों धर्म प्रेमियों के हृदय सम्राट प्रभु श्री राम के पावन पुनीत भव्य मंदिर के निर्माण के नाम पर प्रभु प्रेमियों से ठगी और हिंसा घोर निंदनीय है। आस्था से खिलवाड़ करने वाले ऐसे धर्म द्रोहियों के विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई की जानी चाहिए ताकि दूसरों को भी नसीहत मिले और वे ऐसा करने से पूर्व दो बार सोचें ताकि इस पावन कर्म की गरिमा पर आंच न आए। 
इसके साथ ही हम प्रभु भक्त सज्जनों को परामर्श देंगे कि दान की राशि केवल ‘श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र, अयोध्या’ के नाम बैंक ड्राफ्ट द्वारा ही भेजें ताकि आपकी सहयोग राशि सही जगह पहुंचे।

—विजय कुमार

comments

.
.
.
.
.