delhi government giving gift to poor and backward caste children

प्रतिभा विकास योजना के तहत अब गरीब बच्चों को मिलेगी मुफ्त कोचिंग

  • Updated on 9/4/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जय भीम मुख्यमंत्री प्रतिभा विकास योजना (Jai Bhim Chief Minister Pratibha Vikas Yojana) के तहत अब सभी जाति और वर्गों के गरीब बच्चे दिल्ली सरकार (Delhi Government) की मुफ्त कोचिंग सुविधा (Free Coaching Facility) का लाभ ले सकेंगे। इसी के साथ विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की कोचिंग के लिए आर्थिक सहायता को 40 हजार रुपए से बढ़ाकर एक लाख रुपए कर दिया गया है।

AAP छात्र इकाई करेगी DUSU चुनाव का बहिष्कार, जानें क्या है कारण

दिल्ली से 10वीं और 12वीं पास करने वाले बच्चे जिनके परिवार की सालाना आय 8 लाख रुपए से कम है, उन्हें इस योजना का लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) की अध्यक्षता में हुई दिल्ली कैबिनेट की बैठक में इस आशय के निर्णय लिए गए। यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है जब दिल्ली में अगले साल के शुरू में होने वाले विधानसभा चुनाव (Vidhansabha Election) में कुछ ही महीने बचे हैं।       

8 लाख रुपए से कम आय के लोग इस योजना का उठा सकते हैं लाभ

मुख्यमंत्री ने कैबिनेट निर्णय के बारे में बताया कि पहले यह योजना सिर्फ अनुसूचित जाति (Backward Caste) के छात्रों के लिए थी, जिसके तहत 40,000 रुपए तक की सहायता दी जाती थी। उन्होंने कहा कि जिस आवेदक की वार्षिक आय 8 लाख रुपए से कम है, वे इस योजना का फायदा उठा सकते हैं।

रोमिला थापर के बाद अब JNU ने मांगा 12 एमेरिटस प्रोफेसर से बायोडाटा

मुख्यमंत्री ने कहा कि मौजूदा दिल्ली सरकार सबसे ज्यादा जोर शिक्षा पर दे रही है और हमारा लक्ष्य है कि दिल्ली में पैदा होने वाला कोई भी बच्चा पैसे की कमी की वजह से या गरीबी की वजह से आज के इस प्रतिस्पर्धा के दौर में अच्छी शिक्षा पाने से वंचित नहीं रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि 12वीं के बाद जब बच्चा कॉलेज में जाता है तो उसे पढ़ाई के लिए भी सरकार 10 लाख रुपए तक लोन देती है।

अब तक मिलती थी 40 हजार रुपए की सहायता

मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसे सभी बच्चों का ख्याल रखने के लिए एक साल पहले हमने जय भीम मुख्यमंत्री प्रतिभा विकास योजना शुरू की थी। अभी तक यह योजना केवल एससी कैटेगिरी के बच्चों के लिए थी। इस योजना में अब तक कोचिंग के लिए अधिकतम 40 हजार रुपए की आर्थिक सहायता दी जाती थी। लेकिन योजना के क्रियान्वयन के दौरान देखा गया कि अच्छे कोचिंग इंस्टीट्यूट के लिए 40 हजार रुपए कम पड़ते हैं।

कहानी के माध्यम से अब प्राइमरी स्कूल के बच्चों को सिखाया जाएगा गणित

इसके अलावा एससी कैटेगिरी (SC Category) के अलावा बहुत सारे अन्य गरीब बच्चे हैं जिनको इसका लाभ नहीं मिल पाता। ऐसे में कैबिनेट में इस राशि को 40 हजार रुपए से बढ़ाकर 1 लाख रुपए तक करने का फैसला लिया गया है। इसके साथ ही यह योजना सबके लिए लागू होगी। अब इस योजना का लाभ एससी स्टूडेंट्स,ओबीसी स्टूडेंट्स और आर्थिक दृष्टि से कमजोर सामान्य श्रेणी के स्टूडेंट्स को मिलेगा। 

JEE Main 2020 के लिए ऐसे करें आवेदन, बरतें ये सावधानी

ऐसे मिलेगी कोचिंग की सुविधा

  • सिविल सेवा परीक्षा, 12 महीना, मिलेगा 1 लाख रुपए।
  • न्यायिक सेवा परीक्षा, 12 महीना, 1 लाख रुपए।
  • विभिन्न पेशेवर कोर्स की प्रवेश परीक्षा, 11 महीना, 1 लाख रुपए। 
  • अन्य पेशेवर कोर्स की प्रवेश परीक्षा, 6 महीना, 50 हजार रुपए। 
  • राज्य लोक सेवा आयोग व एसएससी आदि की प्रवेश परीक्षा, 5 महीना, 30 हजार रुपए। 
  • इंटरव्यू की तैयारी, एक महीना, 5 से 10 हजार रुपए मिलेगा। 
  • सरकार ने जिन कोचिंग इंस्टीट्यूट्स के साथ एग्रीमेंट किया है उनका एक पैनल बना दिया गया है। 
  • इन कोचिंग इंस्टीट्यूट्स में किसी बच्चे का एडमिशन होता है तो सरकार कोचिंग इंस्टीट्यूट्स को पैसा दे देगी। 
  • अगर इसके अलावा अन्य इंस्टीट्यूट्स में किसी बच्चे एडमिशन होता है तो सहायता राशि सीधे बच्चे को मुहैया करा देंगे। 
  • पिछले साल 4961 बच्चों ने इस स्कीम का फायदा लिया था। 
  • 3280 बच्चों ने एसएससी की कोचिंग ली। 
  • 944 बच्चों ने यूपीएससी की कोचिंग ली। 
  • 729 बच्चों ने अन्य प्रोफेशनल कोर्सेस के लिए कोचिंग ली।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.