Friday, Oct 30, 2020

Live Updates: Unlock 5- Day 30

Last Updated: Fri Oct 30 2020 03:35 PM

corona virus

Total Cases

8,089,593

Recovered

7,371,898

Deaths

595,151

  • INDIA8,089,593
  • MAHARASTRA1,666,668
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA816,809
  • TAMIL NADU719,403
  • UTTAR PRADESH477,895
  • KERALA418,485
  • NEW DELHI375,753
  • WEST BENGAL365,692
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA288,646
  • TELANGANA235,656
  • BIHAR214,946
  • ASSAM205,635
  • RAJASTHAN193,419
  • CHANDIGARH183,588
  • CHHATTISGARH183,588
  • GUJARAT171,040
  • MADHYA PRADESH169,999
  • HARYANA163,817
  • PUNJAB132,727
  • JHARKHAND100,964
  • JAMMU & KASHMIR92,677
  • UTTARAKHAND61,566
  • GOA42,747
  • PUDUCHERRY34,482
  • TRIPURA30,290
  • HIMACHAL PRADESH21,476
  • MANIPUR17,604
  • MEGHALAYA8,677
  • NAGALAND8,296
  • LADAKH5,840
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,305
  • SIKKIM3,863
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,238
  • MIZORAM2,656
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
du national testing agency ugc higher education institute

दिल्ली विश्वविद्यालय: अब बंद होगा कट ऑफ के आधार पर DU में प्रवेश, ये हैं नए नियम

  • Updated on 10/24/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली विश्वविद्यालय (DU) में प्रवेश पाने के लिए कटऑफ का अहम योगदान होता है। नई शिक्षा नीति के मुताबिक कटऑफ की होड़ अगले साल से रुक जाएगी। शिक्षा नीति के अनुसार स्नातक प्रोग्राम में एडमिशन संयुक्त प्रवेश परीक्षा से करने का प्रस्ताव दिया गया है। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (National Testing Agency) सभी विश्वविद्यालयों के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा कराएगी। इसकी मेरिट के आधार पर ही विवि और कॉलेज में एडमिशन लिया जा सकेगा।

Career Conclave 2019-20: दूसरे दिन पहुंचे 10 हजार छात्र, तलाशे नौकरी के विकल्प

परीक्षा या प्रवेश परीक्षा जैसे काम नेशनल टेस्टिंग एजेंसी से कराए जाएंगे
आजकल की शिक्षा में शोध कार्यों में कमी देखी गई है। सरकार ने नई शिक्षा नीति के अनुसार शोध कार्यों में बढ़ावा दिया जाने पर जोर दिया है। इसमें किए गए खास बदलाव के तहत परीक्षा या प्रवेश परीक्षा जैसे काम नेशनल टेस्टिंग एजेंसी से कराए जाएंगे। इससे शिक्षा में सुधार तो आएगा ही समय और धन की भी बचत होगी। अभी के हालात देखे जांए तो एक छात्र को एडमिशन के लिए 6 से 7 विवि का फॉर्म भरना पड़ता है। हर विवि के अपने अलग नियम है। जिसके आधार पर ही छात्रों को एडमिशन दिया जाता है। 

छात्रों ने जानी 12वीं के बाद की राह, दिल्ली सरकार ने आयोजित किया करियर कॉन्क्लेव 2019-20

विवि और कॉलेज में दूरस्थ माध्यम से पढ़ाई शुरू हो सकेगी
उच्च शिक्षा बीच में न छूटे इसे रोकने के लिए सभी विवि और कॉलेज में दूरस्थ माध्यम से पढ़ाई शुरू हो सकेगी। अगर दूरस्थ शिक्षा से पढ़ाई का पिछला रिकॉर्ड उठा कर देखा जाए, तो विवि अनुदान आयोग (UGC) नैक एक्रिडिटेशन में मिले स्कोर और अन्य मानकों को मुताबिक ही संस्थान इसकी मंजूरी देते थे। 

अगस्ता वेस्टलैंड केस: क्रिश्चियन मिशेल की जमानत याचिका पर CBI और ED से दिल्ली HC ने मांगा जवाब

उपयोग में न आने वाले कोर्स होंगे बंद 
हमारी शिक्षा प्रणाली में कई ऐसे विषय हैं जिनकी कोई उपयोगिता नहीं है। सरकार ऐसे विषय को खत्म करेगी। दरअसल उच्च शिक्षण संस्थानों को दो अलग-अलग हिस्सों में बांटा जाएगा। हायर एजुकेशन इंस्टीट्यूट में रिसर्च पर जोर दिया जाएगा। 

comments

.
.
.
.
.