mathematics will now taught to primary school children through the story

कहानी के माध्यम से अब प्राइमरी स्कूल के बच्चों को सिखाया जाएगा गणित

  • Updated on 9/2/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। शिक्षा निदेशालय (Directorate of education) ने अकादमिक सत्र 2019-20 (Academic Session 2019-20) के लिए सरकारी स्कूलों (Government Schools) के कक्षा 1 से लेकर कक्षा 5 तक के  बच्चों को किस तरह गणित (Maths) पढ़ाया जाए इस बारे में स्कूलों को जानकारी भेजी है। निदेशालय द्वारा जो पाठ्यक्रम (syllabus) जारी किया है उसके अनुसार स्कूलों को गणित विषय (Maths Subject) को कक्षा में कुछ प्रायोगिक गतिविधियां आयोजित कराकर बच्चों को पढ़ाने को कहा गया है।

JEE Main 2020 के लिए ऐसे करें आवेदन, बरतें ये सावधानी

निदेशालय ने वेबसाइट (Website) पर पाठ्यक्रम को अपलोड करने के बाद सभी स्कूलों के प्रमुखों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि वह पाठ्यक्रम की एक प्रति और गतिविधियों के विवरण को शिक्षकों के साथ साझा करें। कक्षा 1 से लेकर कक्षा 5 तक के छात्रों में इन गतिविधियों का संचालन कर गणित के छात्रों में सीखने की क्षमता को बढ़ाने के उद्देश्य से संचालित किया जाएगा।

DU छात्रसंघ चुनाव: डूटा अध्यक्ष पद पर लेफ्ट राइट में कांटे की टक्कर

स्कूलों (Schools) को भेजी गई गतिविधियों के विवरण में बच्चों को एक कहानी का उदाहरण देकर गणित के जोड़-घटाना-गुणा-भाग सिखाने को कहा गया है। बच्चों को सभी गणितीय चिन्हों (Mathematical symbols) को भी अच्छी तरह पहचानने के लिए भी निदेशालय ने पाठ्यक्रम में रोचक तरीके सुझाए हैं।

‘शगुन’ पोर्टल से जुड़े देश के 15 लाख स्कूल, अब अभिभावको को मिलेगी सारी जानकारी

बच्चों को भिन्न संख्या, बराबर चिन्ह, झाड़ू की तीली द्वारा कोण बनाना, आकृतियों का परिचय, रेखाओं का परिचय, कटवा गिनती ताकि नंबरों को बच्चे ठीक से याद रखें, वाकू-वाकू, मुट्ठी वाला खेल, आधा करना, क्यारी गतिविधि, खिसकाने वाला कार्ड, उंगलियां मोडऩे से संख्या ज्ञान आदि तमाम पाठ्यक्रम को विभिन्न कहानियों आदि का उदाहरण देकर व बच्चों के सामने गतिविधियां कर पढ़ाया जाएगा। निदेशालय ने इसका विवरण भी अपलोड किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.