now parents will get complete information from ''''shagun'''' portal

‘शगुन’ पोर्टल से जुड़े देश के 15 लाख स्कूल, अब अभिभावको को मिलेगी सारी जानकारी

  • Updated on 8/29/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश के स्कूलों, शिक्षकों, गुणवत्ता, योजनाओं की जानकारी अब एक क्लिक पर उपलब्ध होगी। केंद्र सरकार ने देश के स्कूलों की निगरानी के कार्य को आगे बढ़ाते हुए 15 लाख स्कूलों, उनके शिक्षकों एवं कई करोड़ छात्रों को शगुन पोर्टल (Shagun Portal) से जोड़ा है। मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक (Ramesh Pokhariyal Nishank) ने स्कूली शिक्षा पर समन्वित आनलाइन जंक्शन शगुन के तहत इस व्यवस्था की बुधवार को नई दिल्ली में शुरुआत की। 

शगुन पोर्टल के माध्यम से इस योजना के लिए 15 लाख स्कूलों, 90 लाख शिक्षकों और 25 करोड़ छात्रों को जोड़ा गया है। इसके जरिये अभिभावक, शिक्षक, विद्यार्थी या आम लोग कमियों पर अपनी शिकायत दर्ज करा सकेंगे। इस पर जानकारी प्रतिदिन अपडेट करनी अनिवार्य होगी। इस अवसर पर निशंक ने कहा कि आज स्कूल शिक्षा शगुन एकीकृत ऑनलाइन जंक्शन का शुभारंभ किया गया।

आज आ सकता है महाराष्ट्र SSC Supplementary 2019 का रिजल्ट

नए भारत के निर्माण में ज्ञान आधारित समाज की स्थापना हमारी प्राथमिकता रही है। ज्ञान आधारित समाज सूचना प्रौद्योगिकी पर निर्भर है। मानव संसाधन विकास मंत्री (Human Resource Development Minister) ने कहा कि स्कूल शिक्षा एवं साक्षरता विभाग द्वारा निर्मित एवं विकसित एकीकृत ऑनलाइन जंक्शन से सूचना- संकलन की प्रक्रिया अत्यधिक लाभप्रद, सरल एवं सुलभ होगी। 

उन्होंने कहा कि इससे सभी हितधारकों को अत्यधिक लाभ होगा क्योंकि इससे सूचनाओं का एकीकरण होगा और इसमें विद्यालयी शिक्षा क्षेत्र की सभी सूचनाएं उपलब्ध होंगी। मंत्री ने कहा कि परिकल्पित एकीकृत राष्ट्रीय स्कूल शिक्षा कोष न केवल निर्बाध, अत्याधुनिक सूचना प्रसारण तंत्र होगा वरन यह आधुनिक तकनीकों का भंडार-गृह भी होगा ताकि अधिगम एवं शिक्षण में सुधार के लिए उच्च गुणवत्तापूर्ण ई-अध्ययन सामग्री को सृजित किया जा सके।

डीयू ने जारी की आठवी कटऑफ लिस्ट, सभी वर्गों के लिए दाखिले का सुनेहरा अवसर

विभिन्न कार्यक्रमों की भी मिलेगी जानकारी 

सर्व शिक्षा अभियान (Education for all campaign) के तहत शगुन पोर्टल के माध्यम से देशभर के सरकारी स्कूलों (Government Schools) में पढ़ाई से लेकर विभिन्न कार्यक्रमों की जानकारी मिल सकेगी। इससे एक-दूसरे की अच्छी योजनाएं छात्रों समेत शिक्षकों को साझा करने का मौका मिलेगा। इससे राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेश के स्तर पर स्कूलों की ग्रेङ्क्षडग 70 मानकों पर की जाएगी। शगुन पर स्कूल या छात्र वीडियो यूट्यूब चैनल (Youtube Channel) पर अपलोड भी कर सकेंगे। उल्लेखनीय है कि शगुन को दो अलग-अलग शब्दों से गढ़ा गया है-शाला जिसका अर्थ है स्कूल और गुण जिसका अर्थ है गुणवत्ता। 

मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार, इस पोर्टल से देश के सभी स्कूलों और विद्याॢथयों को यूनिफाइड डिस्ट्रिक इन्फारमेशन ऑफ स्कूल एजुकेशन (यूडीआईएसई) से एक विशिष्ठ नंबर के माध्यम से जोड़ा गया है। पोर्टल से मानव संसाधन विकास मंत्रालय राज्यों, सीबीएसई, केवी, जेएनवी, एनसीईआरटी, एनसीटीई, एनओआईएस, एनबीबी, सीटीएसए के कार्य प्रदर्शन की निगरानी कर सकेगा।

AICTE-इंटर्नशाला ने इंटर्नशिप डे का किया आयोजन, छात्रों के भविष्य में आएगा सुधार

पोर्टल से जिला स्कूल एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) भी जुड़ेंगे। मंत्रालय के अनुसार, स्कूलों द्वारा उपलब्ध कराई जानकारी की प्रमाणिकता की पुष्टि तीसरे पक्ष से कराई जाएगी। इसके लिए तीसरा पक्ष मोबाइल ऐप बनाया गया है। इस ऐप से विद्यार्थी, शिक्षक, अभिभावक या अन्य कोई सीधे शिकायत भेज सकेगा। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.