today-is-the-last-day-of-admission-in-delhi-university

DU में दाखिले का आज अंतिम दिन

  • Updated on 7/23/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। डीयू (Delhi University) के शैक्षणिक सत्र 2019-20 (Academic session 2019-20) में स्नातक पाठ्यक्रमों के दाखिले (Admission) के लिए जारी 5वीं कटऑफ (5th Cutoff) पर मंगलवार (Tuesday) को दाखिले का अंतिम दिन है। 5वीं कटऑफ में कई पाठ्यक्रमों में सीटें खाली हैं। ऐसे में अंतिम दिन कटऑफ में शामिल छात्रों के बढ़ी संख्या में दाखिला लेने की उम्मीद है। उम्मीद की जा रही है कि विवि प्रशासन छठी कटऑफ भी जारी कर सकता है।

सरकारी स्कूलों में जल्द होगी नए प्रिंसिपल की नियुक्ती

डीयू प्रशासन (DU Administration) ने इसबार दाखिला कार्यक्रम जारी करते हुए घोषणा की थी कि इसबार 6 कटऑफ निकाली जाएंगी और सभी सीटें इन कटऑफ (Cutoff) में ही भर ली जाएंगी। मगर जिस तरह से 5वीं कटऑफ में भी सभी वर्गों के लिए दाखिले खुले हुए हैं उसे देख लगता है कि 5वीं कटऑफ के बाद भी सीटें खाली रह जाएंगी।

अनूठी पहल : साइबर सुरक्षा के लिए शिक्षकों को मिलेगा प्रशिक्षण

5वीं कटऑफ में बी.कॉम ऑनर्स में 30 कॉलेजों में सामान्य वर्ग के लिए दाखिले खुले थे, तो वहीं बीए अंग्रेजी ऑनर्स (B.A English Hons) में 24 कॉलेजों में दाखिले हुए। इसके अलावा 10 कॉलेजों में बी.कॉम ऑनर्स (B.com Hons) में सभी वर्गों के लिए दाखिले की खिड़की खुली थी।

पैरामेडिकल के लिए भर्ती परीक्षा आज

विज्ञान वर्ग (Science Category) में भी कई पाठ्यक्रमों में सामान्य के साथ ही आरक्षित वर्ग (Reservation Category) के लिए दाखिले खुले थे। इस लिस्ट में सभी कॉलेजों में सभी वर्गों की सीटें भरना बहुत मुश्किल है। ऐसे में डीयू प्रशासन को छठी कटऑफ लिस्ट निकालनी पड़ सकती है।

DUET Entrace Result 2019 : प्रवेश परीक्षा के नतीजे हुए जारी, इस लिंक से चेक करें रिजल्ट

डीयू दाखिला (DU Admission) एकेडमिक काउंसिल सदस्य डॉ. रसाल सिंह का कहना है कि कोई सीट खाली नहीं रहनी चाहिए। प्रशासन को आरक्षित वर्ग की सीटों को भरने के लिए स्पेशल ड्राइव चलानी चाहिए। साथ ही सामान्य वर्ग के छात्रों के लिए सीट भरने को कटऑफ (Cutoff) निकालनी चाहिए। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.