Wednesday, Sep 18, 2019
aamir khan changed his decision will work with subhash kapoor in mogul

आमिर खान ने बदला अपना फैसला, सुभाष कपूर के साथ 'मोगुल' में करेंगे काम!

  • Updated on 9/9/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। सुभाष कपूर द्वारा निर्देशित (director Subhash Kapoor) गुलशन कुमार (Gulshan Kumar) की बायोपिक में आमिर खान (Aamir Khan) मुख्य भूमिका निभाएंगे। आज एक प्रमुख विकास में, आमिर खान ने गुलशन कुमार की बायोपिक से अलग हटने के अपने फैसले को बदल दिया है।

हिमेश के बाद राखी सावंत हुई रानू मंडल की आवाज की मुरीद, करना चाहती हैं ये काम

Navodayatimes

'ड्रीम गर्ल' की टीम ने एक अनोखी 'म्यूजिकल नाईट' के साथ जीता सबका दिल

इस बारे में बात करते हुए, आमिर ने निश्चित रूप से निर्देशक के साथ काम करके एक नई मिसाल कायम की है और शेयर किया है कि उनका निडर कदम इस तथ्य से है कि एक व्यक्ति दोषी साबित होने तक निर्दोष है और अदालत न्याय का साथ देगी। पिछले साल अक्टूबर में, आमिर खान ने ट्वीट किया था कि वह 'मोगुल' (Mogul) का हिस्सा नहीं होंगे, लेकिन अब उन्होंने अपना फैसला बदल दिया है।

Navodayatimes

फिल्म निर्माता साजिद नाडियाडवाला अपने बचपन के 'छिछोरे' दोस्तों से करेंगे मुलाकात

’मोगुल’ में वापसी पर लिए गए इस अचानक बदलाव पर बात करते हुए आमिर खान ने शेयर किया, “खैर, किरण और मैं मोगुल का निर्माण कर रहे थे और मैं इसमें अभिनय कर रहा था। जब हम फिल्म कर रहे थे तो हमें नहीं पता था कि माननीय सुभाष कपूर के खिलाफ एक मामला चल रहा है। मेरा मानना है कि यह पांच या छह साल पुराना मामला है। हम मीडिया स्पेस में बहुत ज्यादा नहीं हैं, इसलिए मुझे लगता है कि इस पर हमारा ध्यान नहीं गया।

Navodayatimes

पिछले साल, मी-टू मूवमेंट के दौरान, यह मामला सामने आया था और जब हमें इसके बारे में पता चला, हम बेहद परेशान हो गए थे। किरण और मैंने इसके बारे में विस्तार से बात की थी। हम एक सप्ताह से अधिक समय से बड़ी दुविधा में थे। ”

Navodayatimes

सुभाष कपूर के जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में बात करते हुए अभिनेता ने कहा, "यह वास्तव में हमें परेशान कर रहा था क्योंकि हमें लगा कि हमारी कार्रवाई ने अनजाने में एक व्यक्ति को परेशानी में डाल दिया जो इस मामले में अपनी आजीविका खोने की कगार पर है, और कब तक? क्या यह एक वर्ष के लिए है? या दस साल? हम नहीं जानते। अगर वह निर्दोष हुए तो क्या होगा? हम बहुत परेशान थे।

Navodayatimes

कानून किसी व्यक्ति को तब तक निर्दोष मानता हैं जब तक कि वह दोषी साबित न हो जाए। लेकिन जब तक अदालत किसी नतीजे पर नहीं पहुँचतीं, तब तक क्या उन्हें काम करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए?  क्या उन्हें सिर्फ घर पर बैठना चाहिए ? क्या वे खुद के लिए आमदनी नहीं कमा सकते? ”

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.