Monday, Jun 27, 2022
-->
alia bhatt said gangubai is the most challenging role of my career sosnnt

आलिया भट्ट ने कहा Gangubai मेरे करियर का अब तक का सबसे Challenging रोल है

  • Updated on 2/13/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अभिनेत्री आलिया भट्ट की बहुत प्रतीक्षित फिल्म गंगूबाई काठियावाड़ी इस फरवरी की 25 तारीख को रिलीज हो रही है। इसमें आलिया लेडी डॉन की भूमिका में नजर आएंगी। संजय लीला भंसाली के निर्देशन में बनी इस फिल्म में उनके अलावा शांतनु महेश्वरी, विजय राज, इंदिरा तिवारी, सीमा पाहवा, वरुण कपूर और जिम सरब भी मुख्य भूमिका में हैं। अजय देवगन फिल्म में करीम लाला के किरदार में नजर आएंगे। फिल्म की कहानी मुंबई ‘माफिया क्वीन’ गंगूबाई कोठेवाली की असल कहानी पर आधारित है। गंगूबाई उस दुनिया पर राज करती थी, जिसमें औरतों के खड़े होने पर ही उसे बदचलन कह दिया जाता है लेकिन गंगूबाई का सब सम्मान करते थे। कहा जाता है कि गंगूबाई किसी लडक़ी को उसकी मर्जी के बिना कोठे में नहीं रखती थीं। गंगूबाई ने सैक्स वर्कर्स और अनाथ बच्चों की बहुत मदद की थी, इसलिए उन्हें गंगूबाई काठियावाड़ी कहते थे। आलिया भट्ट ने फिल्म से जुड़े अपने अनुभव को लेकर पंजाब केसरी/ नवोदय टाइम्स/ जगबाणी/ हिंद समाचार से खास बातचीत की...। पेश हैं मुख्य अंश-


मैं पूरी तरह डायरैक्टर की एक्टर हूं 
मुझे लगता है कि मैं खुशनसीब रही हूं कि अभी तक मैंने जितनी भी फिल्में की हैं, उनकी स्क्रिप्ट और डायरैक्टर बहुत शानदार रहे हैं। ये दोनों ही चीजें बहुत अहम हैं। इन दोनों के बिना मुझे नहीं लगता कि एक एक्टर बेहतर काम कर सकता है। अपनी बात करूं तो मैं पूरी तरह से एक डायरैक्टर की एक्टर हूं, उन्हें पता होता है कि अपने एक्टर से आपको कैसा काम लेना है। इससे एक्टर का काम आसान हो जाता है। खासकर तब चीजें और निखर कर आती हैं, जब अनुभवी डायरैक्टर्स के साथ आपको काम करने का मौका मिलता है। संजय लीला भंसाली के साथ काम करना सपना सच होने जैसा है। वह टिपिकल बनाई गई बाऊंड्री से बाहर जाकर काम करते हैं। उनकी फिल्मों में एक्टर्स को एक अलग तरीके से पेश किया जाता है, जो सबकी सोच से अलग होता है। आज जब ट्रेलर को इतना अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है, यह सब उन्हीं का है। मैंने वही किया जो मेरे डायरैक्टर ने मुझसे करवाया। संजय के साथ करना एक लाइफ चेंङ्क्षजग एक्सपीरियंस है। गंगूबाई जैसा कैरेक्टर मैंने पहले नहीं निभाया है। मेरे लिए भी बड़ा चैलेंज था। अगर मैं एक ही तरह के रोल और स्क्रिप्ट चुनती रहूंगी तो कैसे कुछ अलग कर पाऊंगी।


करियर का सबसे चैलेंङ्क्षजग रोल
मैंने ऐसा गंगूबाई जैसा रोल पहले नहीं किया। ऐसा कैरेक्टर, जिससे मैं रिलेट नहीं करती। उसकी दुनिया के बारे में मुझे कुछ नहीं पता। ऐसे में फ्रंट फुट पर आकर इतना बोल्ड रोल मैंने नहीं किया था कभी। इस रोल में इतने शेड्स हैं, कुछ तो कुछ सैकेंड्स के लिए हैं। डांस हो, डायलॉग डिलवरी, बॉडी लैंग्वेज हर चीज पर काम किया है। ऐसे में उन्हें शिद्दत के साथ दिखाना, मैं कभी नहीं सोच सकती थी कि इस तरह का काम मैं कभी कर सकूंगी लेकिन संजय का इससे एक अहम रोल रहा है। हर फिल्म हर कैरेक्टर एक नया चैलेंज लेकर आता है लेकिन सच कहूं तो यह मेरे करियर में अभी तक सबसे बड़ा और चैलेंङ्क्षजग रोल रहा है।  


अब मैं अपने काम को एन्जवॉय करने लगी हूं
कभी-कभी वक्त कैसे निकल जाता है, पता नहीं चलता। फिल्म इंडस्ट्री में 10 साल हो गए हैं, अभी भी कई बार लगता है कि कुछ साल पहले ही डैब्यू हुआ था। खासकर तब, जब पिछले दो साल कोविड के साथ निकले हैं। एक एक्टर के तौर पर मैंने बहुत ग्रो किया है। मुझे लगता है कि अब मैं शांत हो गई हूं। अपने काम को एन्ज्वॉय करने लगी हूं बिना किसी स्ट्रैस के। इसका क्या होगा फिल्म चलेगी या नहीं। इसका असर आपके काम कर दिखता है। स्टूडैंट ऑफ द ईयर के अपने पहले दिन का शूट अभी याद है मैं इतनी नर्वस थी हम फिल्म के गाने राधा तेरी चुनरी की शूटिंग कर रहे थे मैं किसी से बात तक नहीं करती थी। मैं ऐसा बिहेव कर रही कि जैसे मैं स्कूल में हूं। हालांकि मैं आज भी किसी नए प्रोजैक्ट को लेकर नर्वस होती हूं जोकि नार्मल है मेरे पिता ने मुझसे कई साल पहले कहा था कि जब तुम एक्टर बनोगी। हर बड़े शॉट पर, फिल्म पर आप नर्वस होंगे क्योंकि आप स्पॉट लाइट पर हो। सबकी नजरे आप पर हैं। 

मेरा कोई ड्रीम प्रोजैक्ट नहीं है
लोग अक्सर मुझसे पूछते हैं कि आलिया, आपका कोई ऐसा किरदार जो आप निभाना चाहती हैं। कोई ड्रीम प्रोजैक्ट? लेकिन सच कहूं तो मेरा कोई ऐसा ड्रीम प्रोजैक्ट नहीं है। मेरा हर किरदार मेरे दिल के बहुत करीब है। उसके लिए मैंने बहुत मेहनत की है। जिन किरदारों को मैंने अभी तक निभाया है, वह भी मेरे दिमाग में नहीं थे। फिलहाल कि मैं कह सकती हूं कि मेरा ऐसा कोई ड्रीम रोल या प्रोजैक्ट नहीं है, जो मैं करना चाहती हूं।


जब भी शादी करूंगी सबको पता होगा
मैं बहुत ट्रांसपेरैंट इंसान हूं। काम करने के बाद मेरे दोस्त, मेरी फैमिली, मेरे पेट्स के साथ वक्त गुजरना मुझे पसंद है और जब भी वक्त मिले मुझे सोना 
अच्छा लगता है। हालांकि मैं अपनी प्राइवेट लाइफ को लेकर ज्यादा बात नहीं 
करती लेकिन फिलहाल शादी को लेकर यही कह सकती हूं कि जब भी मेरी 
शादी होगी, दुनिया को, मेरे फैंस को पता होगा लेकिन यह कब होगा, यह अभी 
तय नहीं है।

यह थिएटर वाली फिल्म है
कोविड में जहां कई बड़ी फिल्में ओ.टी.टी. पर रिलीज हुई हैं, वहीं आलिया का कहना है कि यह फिल्म थिएटर के लिए बनी है। कुछ फिल्में देखने का मजा बड़ी स्क्रीन पर ही आता है, यह उनमें से है। मेरा विश्वास है कि लोगों की उम्मीदों पर यह फिल्म खरा उतरेगी। इसे देख कर कोई निराश नहीं होगा, यह मैं जरूर कह सकती हूं। इस तरह की फिल्में हर रोज 
नहीं बनती।

 
 मेरा हर किरदार लर्निंग प्रोसैस है
मेरी हर फिल्म मेरे लिए लर्निंग प्रोसैस रही है। हर फिल्म से सीख रही हूं। एक एक्टर, एक इंसान के तौर पर मैं अपने आप को बहुत अलग महसूस करती हूं। वक्त के साथ बदलाव जरूरी है। जब आप अच्छा काम करते हैं तो अंदर से खुशी मिलती है कि आप अलग कर रहे हैं। ऑडियंस जब उस काम को पसंद करती है तो आपको और अच्छा काम करने की प्रेरणा मिलती है। मैं वो काम नहीं करना चाहती, जो सब कर रहे हैं। 


घर पर काम लेकर नहीं जाती 
मेरी फैमिली का फिल्मी बैकग्राऊंड है लेकिन मैंने आज तक कभी पापा-मम्मी से एडवाइज नहीं ली और न ही वह मुझे गाइड करते हैं। कई बार तो ऐसा होता है कि मेरे फिल्म साइन करने के बाद उन्हें पता चलता है कि मैं यह फिल्म कर रही हूं। मैं काम को घर लाने वालों में नहीं हूं। महेश भट्ट बेशक मेरे पिता हैं लेकिन वह काम को लेकर बहुत प्रोफैशनल हैं। अगर उन्हें कुछ ठीक नहीं लगता तो आपके मुंह पर इसे बोल देंगे। उन्होंने गंगूबाई देखी है, मुझे खुशी है कि उन्हें फिल्म अच्छी लगी है।

comments

.
.
.
.
.