Thursday, Sep 23, 2021
-->

B’day Special : प्रकाश झा की फिल्में दिखाती हैं समाज की सच्चाई

  • Updated on 2/27/2017

Navodayatimesनई दिल्ली/टीम डिजिटल। बॉलीवुड के मल्टीटेलेंटेड प्रकाश झा फ‍िल्म प्रोड्यूसर, डायरेक्टर और स्क्रीनराइटर व अभिनेता हैं। प्रकाश झा का जन्म 27 फरवरी, 1952 में हुआ। आज प्रकाश झा अपना 64 वां जन्मदिन मनाएंगे।कई राष्ट्रीय फ‍िल्म पुरस्कार विजेता डॉक्युमेंट्रीज के निर्माता भी रहे हैं। प्रकाश झा राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों पर फिल्में बनाने के महारथी हैं।

#Oscar: एमा स्टोन को बेस्ट एक्ट्रेस और 'मूनलाइट' को बेस्ट मूवी का अवॉर्ड

Navodayatimesइस साल प्रकाश की फिल्‍म 'लिपस्टिक अंडर माई बुर्क़ा' भी रिलीज होगी। यह फिल्म भी सामाजिक मुद्दे पर आधारित है। इस फिल्म को सेंसर बोर्ड ने बैन कर दिया है। जिस वजह से मनोरंजन जगत की कई हस्तियां नाराज हैं। फिल्‍म के निर्माता प्रकाश झा का कहना है कि वह बैन के खिलाफ ट्रिब्‍यूनल में अपील करेंगे। अलंकृता श्रीवास्तव के निर्देशन में बनी इस फिल्म को प्रकाश झा ने प्रोड्यूस किया है, फिल्म में कोंकणा सेन, रत्ना पाठक शाह, विक्रांत मैसी, अहाना कुमरा, प्लाबिता बोरठाकुर और शशांक अरोड़ा ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। 

ऑस्कर में चला 'ला ला लैंड' का जादू, 6 अवार्ड किए अपने नाम

आइए उनके जन्मदिन पर आपको ऐसी ही कुछ फिल्मों से परिचित कराते हैं, जो राजनीतिक और सामाजिक मुद्दो पर आधारित हैं। प्रकाश की ऐसी फ‍िल्मों में दामुल, मृत्युदंड, गंगाजल, अपहरण, राजनीति, आरक्षण, चक्रव्यूह और सत्याग्रह प्रमुख रहीं हैं ।

Navodayatimesदामुल
फिल्म ‘दामुल’ साल 1984 में आई थी। फ‍िल्म बिहार के गरीब ग्रामीणों के प्रवास के मुद्दे को उजागर करती है। अनु कपूर, श्रीला मजुमदार, मनोहर सिंह, दिप्ती नवल और रंजन कामथ स्टारर फ‍िल्म दामुल एक ऐसे मजदूर की कहानी है, जिसको अपने भू-स्वामी के लिए चोरी करने के लिए मजबूर किया जाता है।

Navodayatimesमृत्युदंड
साल 1997 की फ‍िल्म ‘मृत्युदंड’ माधुरी दीक्षित, शबाना आजमी, अयूब खान, मोहन आगशे और ओम पुरी स्टारर फ‍िल्म मृत्युदंड की सच्ची घटना पर ही आधारित है। फ‍िल्म पूरी तरह से सामाजिक और लैंगिक अन्याय पर टिकी है। फ‍िल्म में अर्द्ध शास्त्रीय (semi-classical) संगीत का बेहतरीन तालमेल देखने को मिलता है। ये संगीत आनंद मिलिंद और रघुनाथ सेठ का है।

Navodayatimesगंगाजल
2003 में आई सुपरहिट फिल्म ‘गंगाजल’ अजय देवगन, ग्रेसी सिंह और मुकेश तिवारी स्टारर फ‍िल्म है। फ‍िल्म का साइड ट्रैक भागलपुर की घटना पर आधारित है। फ‍िल्म में तेजाब को गंगाजल के नाम से संबोधित किया गया है।

Navodayatimesअपहरण
साल 2005 की फिल्म ‘अपहरण’ अजय देवगन, बिपाशा बासु, नाना पाटेकर जैसे कलाकारो की है। यह एक भारतीय हिंदी ड्रामा है, जो अपराध पर आधारित है। फ‍िल्म की कहानी पिता और बेटे के बीच जटिल रिश्तों और उनके बीच विचारधाराओं के टकराव की है।

Navodayatimesराजनीति
2010 की फिल्म ‘राजनीति’ अजय देवगन, नाना पाटेकर, रणवीर कपूर, कैटरीना कैफ, अर्जुन रामपाल, मनोज बाजपेयी और नसीरुद्दीन शाह की है और राजनीति पर ही आधारित है। फ‍िल्म की पटकथा बहुत कुछ भारतीय महाकाव्य ‘महाभारत’ पर आधारित है।

Navodayatimesआरक्षण (2011)
साल 2011 की ‘आरक्षण’ अमिताभ बच्चन, सैफ अली खान और दीपिका पादुकोण स्टारर भारतीय हिंदी ड्रामा फ‍िल्म है। फ‍िल्म भारत सरकार की ओर से सरकारी नौकरी और शिक्षण संस्थान में जाति आधारित आरक्षण की विवादास्पद नीति पर आधारित है।

Navodayatimesचक्रव्यूह
अर्जुन रामपाल, मनोज बाजपेयी, कबीर बेदी, अंजली पाटिल और अभय देओल स्टारर यह फ‍िल्म नक्सलियों के मुद्दों पर आधारित है और 2012 में आई थी। वैसे यह फिल्म अमिताभ बच्चन और राजेश खन्ना स्टारर फ‍िल्म ‘नमक हराम’ से प्रेरित है।

Navodayatimesसत्याग्रह (2013)

साल 2013 की सफल फिल्म अमिताभ बच्चन, अजय देवगन, करीना कपूर, अर्जुन रामपाल, मनोज बाजपेयी मिताली जगताप, अमृता राव और विपिन शर्मा स्टारर फ‍िल्म है।

Navodayatimesजय गंगाजल (2016)

फिल्म "जय गंगाजल" में प्रियंका चोप़डा पुलिस अधिकारी आभा माथुर की भूमिका में थी। फिल्म में नारीशक्ति जैसे मुद्दे को दिखाया गया था।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.