Thursday, Sep 23, 2021
-->
bombay hc upholds murder rap on convicted sharpshooter in gulshan kumar death sosnnt

गुलशन कुमार मर्डर केस: HC ने सुनाया फैसला, मंदिर के बाहर दागी गई थीं 16 गोलियां

  • Updated on 7/1/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गुलशन कुमार केस (Gulshan Kumar murder case) पर आज बॉम्‍बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) ने अपना फैसला सुना दिया है। इस मर्डर केस के एक दोषी अब्दुल रऊफ उर्फ दाऊद मर्चेंट को दोषी करार (Bombay HC Convicted Abdul Rashid Dawood Merchant) देते हुए उसकी उम्रकैद की सजा को बरकरार रखा है।

बता दें कि अब्दुल रऊफ को साल 2002 में उम्र कैद की सजा सुनाई गई थी। वहीं 2009 में बीमार मां से मिलने के लिए उसे पैरोल मिली थी। जिसके बाद वह बांगलादेश भाग गया। हालांकि, बाद में वहां की पुलिस ने उसे फर्जी पासपोर्ट मामले में अरेस्ट कर लिया था जिसके बाद उसे गाजीपुर के काशिमपुर जेल में रखा गया। ऐसे में अब हाई कोर्ट ने अब्दुल रऊफ किसी तरह की उदारता का हकदार नहीं है क्योंकि वह पहले भी पैरोल के बहाने बांग्लादेश भाग गया था।

वहीं बता दें कि साल 1997 में 12 अगस्त को मुंबई के जूहू इलाके में गुलशन कुमार की सरेआम हत्‍या (Gulshan Kumar Murder) कर दी गई थी। घटना वाले दिन गुलशन कुमार हर रोज की तरह सुबह 8 बजे पश्चिमी मुंबई केअंधेरी इलाके में जीतनगर स्थित जीतेश्वर महादेव मंदिर में पूजा करने पहुंचे थे। वहीं जैसे हीं वह पूजा कर मंदिर से बाहर आ रहे थे, तभी अचानक गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई थी। गुलशन कुमार के सीने में 16 गोलियां मारी गईं और मौके पर उनकी हत्या हो गई। वहीं हत्यारे बाइक पर सवार होकर आए थे। 

 

comments

.
.
.
.
.