Monday, Jun 21, 2021
-->
cbi-said-sushant-death-case-investigation-is-still-going-on-jsrwnt

सीबीआई ने कहा- सुशांत की मौत की जांच जारी, झूठी है केस बंद होने की खबरें

  • Updated on 10/16/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। हाल ही में खबरें आईं रही थी कि लंबे समय से सुशांत सिंह राजपूत (sushant singh rajput) मौत मामले की जांच कर रही सीबीआई के हाथ कोई सबूत ना लग पाने पर अब इस केस को बंद करने का फैसला लिया गया था। लेकिन अब इस मामले पर सीबीआई का बयान आया है जिसमें कहा गया है ये बातें महज अटकलें हैं। इस मामले में सीबीआई की जांच अभी भी जारी है।

दरअसल, सीबीआई के प्रवक्ता आरके गौर ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि ये केवल अटकलें हैं। इस मामले में सीबीआई की जांच अभी भी जारी है।

विकास सिंह ने कहा ये

सुशांत के परिवार के वकील विकास सिंह ने कहा था कि जब मैंने डॉक्टर गुप्ता को सुशांत की बॉडी की तस्वीरें दिखाई थीं, तो उन्होंने कहा था कि यह 200 फीसदी दम घोंटकर जान लेने का मामला है। विकास सिंह ने अपने आरोप पत्र में एम्स की फॉरेंसिक टीम पर सवाल खड़े करते हुए कहा था कि इस केस की जांच को सीबीआई की दूसरी फॉरेंसिक टीम को भेज देना चाहिए। आपको बता दें कि सीबीआई ने भी एम्स रिपोर्ट पर अपनी मुहर लगा दी है और उन्होंने भी ये मान लिया है कि सुशांत की मौत आत्महत्या थी।

सुशांत केस में आया नया मोड़! करण जौहर के खिलाफ जारी हुआ नोटिस

वहीं  पूरे 1 महीने जेल में गुजारने के बाद बॉलीवुड एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती (rhea chakraborty) को बॉम्बे हाई कोर्ट (mumbai high court) ने कुछ दिन पहले जमानत दी है। रिया के वकील सतीश मानशिंदे (satish mashinde) ने अपने हालिया इंटरव्यू में ये जेल के अंदर रिया की रूटीन को लेकर खुलासे किए हैं। उन्होंने बताया कि पिछले 1 महीने रिया ने जेल में क्या करती थीं और कैसे अपना पूरा दिन काटती थीं। 

जेल से निकले के बाद रिया की हुई ऐसी हालात, यहां देखें एक्ट्रेस की Exclusive तस्वीरें

जेल में खुद को शांत रखने के लिए रिया करती थी ये काम
सतीश मानशिंदे कहते हैं कि मैं सालों बाद अपने किसी क्लांइट से मिलने जेल के अंदर गया। यहां मेरा जाना इसलिए भी जरूरी था क्योंकि मैं देखना चाहता था कि आखिर रिया कैसे अपना पूरा समय बिता रही हैं, क्योंकि मुझे पता था कि जांच एजेंसियां उनके पीछे पड़ी थी और उन्हें परेशान भी किया जा रहा था। वहीं जब मैं रिया से देल के अंदर मिला तो मुझे उन्हें देखकर राहत मिली। वह देल के अंदर खुद का ध्यान रख रही थी और इसके साथ ही वह जेल में कैदियों को योगा सिखाया करती थीं। रिया ने खुद को जेल के मुताबिक एडजस्ट कर लिया था, क्योंकि कोरोना महामारी के कारण उन्हें घर का खाना नहीं मिल सकता था। 

सतीश मानशिंदे ने आगे कहा कि 'जेल में रिया एक समान्य महिला की तरह ही कैदियों के साथ रहती थीं। एक आर्मी जवान की लड़की होने के नाते उन्होंने युद्ध जैसी परिस्थितियों का सामना किया और अब वह किसी भी व्यक्ति का सामना करने के लिए तैयार हैं, जो उन पर आरोप लगाने और उनके हितों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहा है।'

comments

.
.
.
.
.