Sunday, Mar 07, 2021
-->
cbi will send summon to eye witness claiming sushant and rhea met on 13th june aljwnt

सामने आएगा सुशांत-रिया की 13 जून की मुलाकात का सच, चश्मदीद को समन भेजेगी CBI

  • Updated on 10/8/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) केस में एम्स मेडिकल बोर्ड अपनी रिपोर्ट सीबीआई को सौंप चुका है। इस रिपोर्ट में एम्स मेडिकल बोर्ड ने मर्डर की थ्योरी को खारिज करते हुए सीबीआई को आत्महत्या के एंगल से आगे की जांच करने की सलाह दी है। इसी दौरान, एक चश्मदीद ने ये दावा किया था कि उसने सुशांत और रिया को 13 जून को एक-साथ देखा था। चश्मदीद द्वारा किए गए इस दावे ने रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) द्वारा दिए गए अब तक बयानों पर कई सारे सवाल खड़े कर दिए थे।

वहीं अब खबर आ रही है कि सीबीआई सुशांत केस में जांच के तहत इस चश्मदीद को जल्द ही पूछताछ के लिए समन भेज सकती है। माना जा रहा है कि इस चश्मदीद का बयान पूरे केस के लिए बहुत ही अहम साबित हो सकता है।

7 जून को एकता कपूर की पार्टी में दिशा के साथ गए थे सुशांत, रिया पर कस सकता है CBI का शिकंजा!

13 जून को सुशांत से मिली थी रिया
मुंबई बीजेपी के नेता विवेकानंद गुप्ता ने एक बयान जारी करते हुए कहा था कि उन्हें एक चश्मदीद गवाह ने बताया कि 13 जून को देर रात सुशांत रिया को छोड़ने उनके अपार्टमेंट में आए थे। इतना ही नहीं उन्होंने मुंबई पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि मुंबई पुलिस दवाब में काम कर रही है जिसके कारण दो-तीन दिन की जांच को 55 दिन खींच दिया गया।ये हत्या का मामला है जिसे बिना जांच के ही पुलिस ने आत्महत्या करार दिया था।

SSR: इन 5 बड़ी शर्तों पर मिली रिया चक्रवर्ती को जमानत

CBI को देंगे सारी जानकारी
विवेकानंद गुप्ता ने  ने आगे कहा कि वो सीबीआई के संपर्क में हैं, वो आगे का सारा सच सीबीआई को ही बताएंगे। जिससे सुशांत केस में अपराधी को कड़ी सजा मिल सके। आपको बता दें कि रिया ने अपने दिए बयान में कहा है कि उनकी सुशांत से 8 जून को आखिरी बार बात हुई थी उसके बाद उनका सुशांत के साथ कोई संपर्क नहीं था लेकिन अब इस आईविटनेस के बाद रिया का झूठ सबके सामने आ गया है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.