Monday, Sep 26, 2022
-->
chandan roy sanyal is a great artist also a very good cook anjsnt

एक बेहतरीन कलाकार होने के साथ-साथ एक बहुत ही अच्छे कुक भी हैं चंदन रॉय सान्याल

  • Updated on 11/7/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। प्रकाश झा (prakash jha) की बहुचर्चित और सफल श्रृंखला आश्रम (Aashram) के पहले अध्याय में बाबा निराला और गोपा स्वामी के बीच की घनिष्ठ मित्रता को तो लोगों ने पसंद किया ही पर असल जिंदगी में भी इन दोनों के बीच काफी अच्छी मित्रता हैं। यू कहे कि कोरोना काल के वक्त भी ये एक दूसरे से लगातार फोन पर जुड़े रहते थे। बॉबी के काम से चंदन काफी प्रभावित भी हैं।

कलाकाल के साथ कुक भी हैं चंदन
आपको बता दे कि चंदन एक बेहतरीन कलाकार होने के साथ-साथ एक बहुत ही अच्छे कुक भी हैं। चंदन बताते हैं कि बॉबी को उनके हाथ का खाना काफी पसंद हैं। सेट की बातों को याद करते हुए चंदन सन्याल रॉय कहते हैं। बॉबी मुझे अक्सर कहते थे कि चंदन आज खाना पका। तो मैं फिर दिन में शूटिंग करता था और शाम को इन लोगो के लिये खाना पकाता था। मेरा ज्यादातर यही काम रहता था'। 

Photographers से परेशान हुई दीपिका पादुकोण, दी लीगल Action की धमकी

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Hum samjhe ki aap kuch nahi samjhe, par aap agar samajh gaye, toh hum samjhe woh galat samjhe! #AashramChapter2

नव॰ 3, 2020 को 8:27पूर्वाह्न PST बजे को MX Player (@mxplayer) द्वारा साझा की गई पोस्ट

नहीं थम रहा Baba ka Dhaba का विवाद, कांता प्रसाद ने Youtuber गौरव के खिलाफ दर्ज कराई FIR

चंदन ने कहा ये
 इसके अलावा चंदन कहते हैं कि मैं खाने में सब कुछ बना लेता हूं। हर किस्म की दाल पका लेता हूं। मुझे बाहर का खाना ज्यादा पसंद नही हैं क्योंकि उसमे बहुत मसाले इस्तेमाल करते हैं। लेकिन मैं बहुत ही सादा और स्वादिष्ट खाना पकाता हूं जो सबको पसंद आता हैं ।वैसे आश्रम में चंदन और बॉबी के बीच जबरदस्त केमिस्ट्री दिख रही हैं। बाबा निराला की हर बात को फरमान मानकर गोपा स्वामी आश्रम के साम्राज्य को चला रहे हैं । MX Player की प्रसिद्ध श्रृंखला आश्रम : दूसरा अध्याय - गहराते रहस्य 11 नवम्बर से स्ट्रीम की जाएगी, जिसे लोग मुफ्त में देख सकेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.