Friday, Dec 03, 2021
-->
chunky-pandey-birthday-special-unknown-facts

B'day Spl: मजबूरी में चंकी पांडे को करना पड़ा था पड़ोसी मुल्क में काम

  • Updated on 9/25/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बॉलीवुड के जिस अभिनेता को आप चंकी पांडे (chunky pandey) के नाम से जानते हैं असल में उनका नाम सुयश शरद पांडे है। आज चंकी अपना 57वां जन्मदिन मना रहे हैं। चंकी ने पहलाज निहलानी की फिल्म 'आग ही आग' से साल 1987 में करियर की शुरुआत की थी। ये तो सभी जानते है कि किसी भी एक्टर की कोई फिल्म हिट हो जाए तो उसके पास काम की लाइन लग जाती है। लेकिन हैरानी की बात ये रही कि चंकी के साथ इसका उल्टा हुआ। आइए आज हम आपको चंकी पांडे के फिल्मी करियर और निजी जीवन से जुड़ी कुछ खास बातें बताते हैं। 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Smoke on the water Fire in the sky😎 World Premiere @prassthanamfilm in Doha 💃🕺

A post shared by Chunky Panday (@chunkypanday) on Sep 19, 2019 at 4:18am PDT

- चंकी पांडे की फिल्म 'आंखें' ब्लॉकबस्टर साबित हुई थी लेकिन इसके बाद भी वे काफी समय तक खाली बैठे रहे। उन्हें कोई काम नहीं मिल रहा था। करीब एक साल घर बैठने के बाद उनके पास सिर्फ एक फिल्म थी जिसका नाम 'तीसरा कौन' था। इसके बाद उन्हें बांग्लादेश में काम करने का मौका मिला और इनकी पहली ही फिल्म वहां सुपरहिट रही। उन्होंने वहां तीन से चार साल तक काम किया था। स्थानीय भाषा न आने के बावजूद भी उन्होंने बांग्लादेश में कई सुपरहिट फिल्म दी और वहां अपना स्टारडम हासिल किया। चंकी ने बांग्लादेशी सिनेमा में बतौर मुख्य नायक 'स्वामी केनो असामी', 'बेश कोरेची प्रेम कोरेची', 'मेयेरा ए मानुष' में सुपरहिट फिल्में दी।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Catwalking 33 years later 🥂🍾💙

A post shared by Chunky Panday (@chunkypanday) on Apr 29, 2018 at 6:51am PDT

- जब चंकी की शादी हुई तो उनकी पत्नी ने उनसे कहा कि उनकी पहचान बॉलीवुड से ही है। जिसके बाद चंकी ने फिर से संघर्ष करना शुरू किया और काम मांगने के सिलसिले में लोगों से मिलने लगे। जिसके बाद उन्हें काम मिलने भी लगे।चंकी खुद बता चुकें हैं कि इन संघर्ष के दिनों में हैरी बावेजा, सुभाष घई और साजिद नाडियाडवाला जैसे फिल्ममेकर्स ने उनकी बॉलीवुड में वापसी के लिए काफी मदद की थी।

- एक इंटरव्यू में चंकी ये भी बता चुकें हैं कि जब आप टॉप पर हों और काम न मिले तो आप डिप्रशन का शिकार हो जाते हैं। लेकिन इससे बचने के लिए सबसे सही तरीका खुद को व्यस्त रखना है। चंकी ने बताया कि उन्होंने खुद इससे बाहर आने के लिए छोटी भूमिकाओं को अपनाना, फिल्म से जुड़े काम करना (इवेंट मैनेजमेंट कंपनी और एक रेस्टोरेंट से शुरुआत करना) ।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Jaaapaaan love in tokiyo🎵🎶🤩❤

A post shared by Chunky Panday (@chunkypanday) on Mar 20, 2019 at 8:03am PDT

- चंकी की पत्नी का नाम भावना है। उनकी दो बेटियों हैं- अनन्या और रयासा। अनन्या ने कुछ समय पहले ही स्टुडेंट ऑफ द ईयर-2 से डेब्यू किया था। फिलहाल फिल्मों में कभी-कभी दिखने के साथ-साथ चंकी अपनी पत्नी भावना के साथ मुंबई में हेल्थ फूड रेस्त्रां भी चलाते हैं। 'द एल्बो रूम' नाम का उनका रेस्त्रां खार वेस्ट मुंबई में स्थित है। साथ ही उनकी बॉलीवुड इलेक्ट्रिक नाम से एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी है, जो स्टेज शोज के लिए जानी जाती है।

फिल्मी करियर-
चंकी ने 1988 में 'पाप की दुनिया', 'खतरों के खिलाड़ी', 1990 में 'जहरीले' और 1992 में 'आंखें' जैसी सुपरहिट फिल्में दी। इससे फिल्मी जगत में उनकी चर्चा होने लगी। उन्होंने 1988 की सुपरहिट फिल्म 'तेजाब' में अनिल कपूर के दोस्त का किरदार भी निभाया था। इस किरदार के लिए उन्हें बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर के फिल्मफेयर अवॉर्ड से नवाजा गया था।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

The Talented Mr Ripley 😉🤩🥂

A post shared by Chunky Panday (@chunkypanday) on Jul 12, 2018 at 6:45am PDT

हालांकि एक बार फिर चंकी ने बॉलीवुड में वापस आने की कोशिश की। वो 2003 में आई मल्टीस्टारर फिल्म 'कयामत' से फिर बॉलीवुड में उतरे। इसमें उन्होंने एक वैज्ञानिक का नेगेटिव किरदार निभाया। फिर वो बॉलीवुड में एक बार फिर एंट्री मारकर कई फिल्मों में दिखे। उन्होंने 'पेइंग गेस्ट', 'हाउसफुल', 'हाउसफुल 2', 'बुलेट राजा',  'बेगमजान' जैसी फिल्में की। यहां से उन्होंने अपने करियर के लिए नेगेटिव और कॉमेडी किरदार चुने। 

फिलहाल चंकी पांडे अपनी फिल्म 'प्रस्थानम' को लेकर चर्चा में हैं। इस फिल्म में संजय दत्त,मनीषा कोइराला, जैकी श्रॉफ, अली फजल, अमायरा दस्तूर और सत्यजीत दुबे जैसे कलाकार मुख्य भूमिका में हैं

comments

.
.
.
.
.