Sunday, Mar 07, 2021
-->
dev anand indira gandhi emergency 1975 sosnnt

देव आनंद ने Emergency के खिलाफ उठाई थी आवाज, जब प्रधानमंत्री को कहा- हिम्मत है तो जेल...

  • Updated on 12/2/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बॉलीवुड के सदाबहार कलाकार देवानंद (dev anand) किसी पहचान के मुहताज नहीं हैं, एक्टिंग के अलावा उन्होंने अपने स्टाइल और स्टारडम से इंडस्ट्री में खास जगह बनाई थी। देवानंद खुद ही एक ब्रैंड थे। उनके नाम से फिल्में चलती थीं। वे एक ऐसे अभिनेता थे जिन्‍होंने अपने अलावा बहुत सी अभिनेत्रियों का करियर संवारा है। वहीं देवानंद 50-60 के सबसे लोकप्रीय कलाकार थे जिसके लिए लड़कियां दीवानी थी।

Dev Anand's 96th birth anniversary: Some lesser-known facts about the  legend | Celebrities News – India TV

Birthday Spl. : सदाबहार अभिनेता थे देवानंद, ये हैं उनसे जुड़े अनसुने किस्से

देव आनंद ने Emergency के खिलाफ उठाई थी आवाज
वहीं देव साहब ने लगभग साठ साल लंबे करियर में सौ से ज्यादा फिल्मों में अभिनय का जादू बिखेरा। बता दें कि 26 सिंतबर साल 1923 में जन्में देवानंद को दिल का दौरा पड़ने की वजह से साल 2011, 3 दिसंबर को उनका निधन हो गया था। 88 की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह गए थे। वैसे तो देवानंद के बारें में कई सारी कहानियां मशहूर हैं लेकिन ये काफी कम लोगों को पता है कि वे इंदिरा गांधी की इमरजेंसी के खिलाफ खड़े हुए थे। तो चलिए आज उनके पुण्यतीथि के मौके पर जानते हैं उनके जुड़े कुछ दिलचस्प बातें। 

Dev Anand: The Most Charismatic Actor Of The Indian Cinema

हमारे देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (indira gandhi) ने साल 1975, 25 जून को अचानक आपातकाल (emergency) लगाने का निर्णय लिया था। इंदिरा गांधी द्वारा लगए गए इस इमरजेंसी को आज भी लोकतंत्र में काले अध्याय के तौर पर याद किया जाता है।  

इमरजेंसी को लेकर शेखर कपूर ने पीएम मोदी से कहा 'अंकल देव आनंद ने भी किया था विरोध'

जब प्रधानमंत्री को कहा- हिम्मत है तो जेल...
इंदिरा गांधी के इस फैसले पर बड़े राजनेता के अलावा फिल्मी सितारों ने भी जमकर विरोध किया था। वहीं फिल्म जगत से देवानंद एकलौते अभिनेता थे जिन्होंने सबसे पहले इसका विरोध किया था। उन्होंने रैलियां निकालीं और इंदिरा गांधी को चुनौती भी दी कि वो उन्हें जेल भेजकर दिखाएं। उन्होंने अपना करियर और अपनी रोजी रोटी को खतरे में डालकर वो करने की जिद की जिसमें वह यकीन रखते थे। यह हौसले का एक ऐसा कदम था जिसने एक आज्ञा की अवहेलना की जिद की।' 

वहीं इमरजेंसी के बाद राजनीति में काफी बदलाव देखने को मिला। उस दौड़ की जितनी नई पार्टियां थीं, उनके लिए देश की जनता का दिल जीतने का यह सुनहरा मौका था। एक तरफ जहां फिल्म जगत के कई सितारें राजनीति में उतरने का मन बना रहे थे तो वहीं दूसरी तरफ जनसंघ, जनता पार्टी का रूप लेकर कांग्रेस को टक्कर देने की कोशिश में जुटा हुआ था। वहीं साल 1997 में कांग्रेस को लोकसभा चुनाव हरा कर जनता पार्टी की सरकार आई जिसे फिल्मी सितारों का समर्थन मिला।

पुण्यतिथि: इस वजह से देव साहब को काले कपड़े पहनने पर थी पाबंदी

देव आनंद के इन सुपरहिट गानों को सुनकर आज भी दिल हो उठता है जवां

B'day Spl: इस अभिनेत्री को दिलों जान से चाहते थे देव साहब, उस जमाने में दी थी हीरे की अंगूठी

देव आनंद ने शूटिंग के लंच ब्रेक में ही कर ली थी शादी, उनके जन्मदिन पर पढ़ें कुछ ऐसे ही किस्से

लड़कियों के तकिये के नीचे होती थी देवानंद की तस्वीर

 

 

comments

.
.
.
.
.