Tuesday, Jan 25, 2022
-->
dil bechara movie review sosnnt

DIL BECHARA REVIEW: आंखों में आंसू छोड़कर सदाबहार फिल्म दे गए सुशांत सिंह राजपूत

  • Updated on 7/25/2020

फिल्म: दिल बेचारा 
स्टारकास्ट: सुशांत सिंह राजपूत, संजना संघी
डायरेक्टरः मुकेश छाबरा
रेटिंग: 4.5 स्टार/5*

नई दिल्ली/सोनाली सिन्हा। सुशांत सिंह राजपूत के चाहने वालों का अब इतंजार खत्म हो चुका है। सुशांत की आखिरी फिल्म 'दिल बेचरा' रिलीज हो चुकि है। फिल्म को आज 24 जुलाई Disney+ Hotstar पर रिलीज किया गया है। फिल्म में सुशांत के अपोजिट संजना संघी नजर आ रही हैं जिन्होंने इस फिल्म के जरिए अपना बॉलीवुड डेब्यू किया है। वहीं फिल्म को मुकेश छाबरा ने डायरेक्ट किया है। बता दें कि यह फिल्म हॉलीवुड फिल्म fault in our stars का रीमेक है। तो आइए आपको बताते हैं कैसी है सुशांत की आखिरी फिल्म दिल बेचारा...

दिल को छू लेगी कहानी
एक था राजा एक थी रानी, दोनों मर गए खत्म कहानी...  जी हां, फिल्म की शुरुआत होती है इस खूबसूरत और अजीब डायलॉग से....

फिल्म की कहानी जमशेदपुर में रहने वाले एक लड़का और लड़की की होती है जहां दोनों को जिंदगी कभी भी धोका दे सकती है। जी हां, किजी और मैनी, दोनों को कैंसर होता है और दोनों एक ही कैंसर संस्थान में अपने इलाज के लिए जया करते हैं। वहीं एक तरफ जहां किजी को अपनी जिंदगी सबसे बोरिंग लगती है क्यूंकि कैंसर की वजह से उसका पूरा समय दवाईयां खाने में गुजर जाता था। वहीं दूसरी तरह मैनी, एक ऐसा इंसान जो हर पल को खुलकर जीने में विश्वास रखता है। वहीं जब दोनों एक दूसरे से टकराते हैं तो, किजी को मैनी एक वाहियाद इंसान लगता है क्यूंकि मैनी अक्सर किजी के साथ मजाक मस्ती कर उसे परेशान करता है। लेकिन धीरे-धीरे किजी को उसकी यही हरकतें पसंद आने लगती है। मैनी के साथ रह कर किजी जिंदगी जीना सीख जाती है, मैनी को अपने लाइफ में पाकर किजी को यह यकीन हो जाता है कि सुपरहीरो सिर्फ रील लाइफ में नहीं, रीयल लाइफ में भी होते हैं।

दोनों एक दूसरे के साथ वक्त गुजाने लगते हैं और देखते ही देखते दोनों एक दूसरे से प्यार करने लगते हैं। लेकिन किजी को हर पल यह बात सताती है कि क्या होगा जब दोनों में से किसी एक की मौत हो जाएगी...??? ऐसे में वो मैनी से अलग होने के लिए कहती है। लेकिन मस्तमौला मैनी किजी को समझता है कि जिन्दगी बस एक ही मिली, इसे खुलकर जीते हैं।

इस दौरान किजी का एक सपना होता है और बस एक ही होता है, वो ये कि किजी अपने फेवरेट सिंगर अभिमन्यु से मरने से पहले बस एक बार मिलना चाहती है और इसके लिए उसे पेरिस जाना पड़ेगा। वहीं मैनी हर हाल में उसके इस सपने को पूरा करना चाहता है। लेकिन अचानक किजी की तबीयत खराब होने की वजह से किजी के पैरेंट्स उसे ट्रैवल करने से मना कर देते हैं। वहीं किजी और मैनी के जिद और प्यार के आगे यह सब फिका पड़ जाता है दोनों किजी के सपने को पूरा करने के लिए निकल जाते हैं। 

अब एंट्री होती है सैफ अली खान की जो किजी का फेवरेट सिंगर अभिमन्यु होता है। जब किजी उससे मिलती है तो वह काफी एक्साइटेड होती है, वो उनसे जानना चाहती है कि आखिर क्यूं उनेहोंने अपना गाना अधूरा छोड़ दिया है। लेकिन अभिमन्यु के अजीब से व्यवहार को देखकर वो हैरान रह जाती है। अभिमन्यु उनसे कहता है कि तुम दोनों में से भी कोई एक मरेगा और दूसरा हंसकर जिएगा। ऐसी बातें सुनकर दोनों वहां से गुस्से में चले जाते हैं। लेकिन किजी को अभिमन्यु की ये सारी बातें दिल पर लग जाती है और वो मैनी से कहती है कि हमारे साथ भी ऐसा ही होगा....।

वहीं अब आता है कहानी में ट्विस्ट। हमेशा खुश रहने वाला मैनी किजी को उस कड़वे सच के बारे में बताता है जिसे सुनकर किजी फिरसे टूट जाती है। मैनी बताता है कि उसके पास अब जीने के लिए कम समय बचा है और फिर धीरे-धीरे मैनी की हालत बद से बत्तर हो जाती है। फिर एक दिन वो सबको आंखों में नमी देकर इस दुनिया से हमेशा के लिए चला जाता है। लेकिन उसके जाने के बाद वो अपनी भोजपुरी मूवी पूरी बनकर जाता है जो उसका और उसके दोस्त का सपना था। वहीं उसके जाने के बाद उसकी फिल्म को देखकर किजी हैरान रह जाती है क्यूंकि उस फिल्म में मैनी किजी का सपना पूरा करके जाता है। जी हां, मैनी अभिमन्यु का वो गाना पूरा करके जाता है जिसके पूरा सुनने के लिए किजी बेचीन थी। मूवी के अंत में सुशांत एक बेहतरीन डायलॉग बोल जाते हैं जो आपक दिल को छू लेना। 

डायरेक्शन
अपनी पहली ही फिल्म में मुकेश छाबरा ने बेहतरीन काम किया है। उन्होंने जिन्दगी और मौत के बीच की लड़ाई को पड़े पर्दे पर दर्शाने की अच्छी कोशिश की है। मूवी के डायलॉग्स काफी रीयल और दिल को छू लेने वाले है। फिल्म आपको बांधे रखेगी। 

एक्टिंग
सुशांत सिंह राजपूत की जितनी तारीफ की जाए, उतनी कम है। हमेशा की तरह, एक आखिरी बार भी सुशांत ने अपने बेहतरीन एक्टिंग से यह साबित कर दिया कि वो एक लाजवाब एक्टर थे और हमेशा रहेंगे। वहीं इस फिल्म से डेब्यू कर रही संजना संघी ने भी अपनी मासूम चेहरे से इस फिल्म में जान डाल दी है। वहीं एक बात तो तय है इस फिल्म को देखने के बाद सुशांत आपको रोने पर मजबूर कर देंगे।

म्यूजिक
हिंदी सिनेमा के ए आर रहमान ने इस बार भी अपनी बेमिसाल म्यूजिक से कमाल कर दिया। फिल्म के सभी गाने बेहतरीन हैं जिसे आप बार-बार सुनना पसंद करेंगे।

comments

.
.
.
.
.