Sunday, Nov 28, 2021
-->

Review: 'हाउसफुल 3' कॉमेडी अच्छी, कहानी गुल

  • Updated on 6/3/2016

Navodayatimesनई दिल्ली (टीम डिजिटल)। साजिद-फरहाद की जोड़ी ने बॉलीवुड को अच्छी कॉमेडी फिल्में दी हैं। दिलवाले, रेडी और सिंघम जैसी फिल्में उन्होंने लिखी हैं। साजिद-फरहाद ने 'हाउसफुल 3' का डायरेक्शन भी अच्छा किया है और लोकशन्स कमाल की हैं।

Navodayatimesफिल्म में अभिषेक बच्चन के करियर से लेकर लड़कियों की आदतों पर चुटकुले हैं। कॉमेडी के मामले में अक्षय कुमार को एक बार खड़े होकर सलामी देनी चाहिए। फिल्म में रितेश देशमुख की कॉमिक टाइमिंग वाकई जबरदस्त है वहीं अभिषेक बच्चन का काम भी ठीक- ठीक हैं। वहीं जैकलीन, लीजा और नरगिस का भी अहम किरदार है, जो कहानी को और भी दिलचस्प बनाता है। बोमन ईरानी, जैकी श्रॉफ, जॉनी लीवर, चंकी पंडे भी अपने रोल में फिट हैं।

Navodayatimesकहानी
हमेशा की तरह फिल्म में कोई कहानी नहीं है। एक बाप है उसकी तीन बेटियां हैं और तीनों के तीन बॉयफ्रेंड। लेकिन बाप को बेटियों की शादी नहीं करनी।

यह कहानी मशहूर बिजनेसमैन बटुक पटेल (बोमन ईरानी) की है, जिसकी 3 बेटियां गंगा पटेल उर्फ ग्रेसी (जैकलीन फर्नांडीज), जमुना पटेल उर्फ जैनी (लीजा हेडन) और सरस्वती पटेल उर्फ सारा (नरगिस फखरी) हैं।

Navodayatimesबटुक को गलतफहमी है कि उसकी बेटियां बहुत संस्कारी हैं। फिर कहानी में सैंडी (अक्षय कुमार), टेडी (रितेश देशमुख) और बंटी (अभिषेक बच्चन) की एंट्री होती है। बटुक अपनी बेटियां की शादी इन तीनों से नहीं कराना चाहता। लेकिन ये एक-दूसरे से शादी करना चाहते हैं। अब इनकी शादी होती है या नहीं... यह देखने के लिए आपको सिनेमाघर का रूख करना पडेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें…एंड्रॉएड ऐप के लिए यहांक्लिक करें.

comments

.
.
.
.
.