Thursday, Aug 11, 2022
-->

सलमान-शाहरुख जैसा हीरो नहीं बन पाऊंगा : नवाजुद्दीन सिद्दीकी

  • Updated on 8/16/2016

Navodayatimesनई दिल्ली (असीम चक्रवर्ती)। उनकी पिछली फिल्म ‘रमन राघव’ नहीं चली। पर वह अपनी हर फिल्म में नित नई चमक के साथ नजर आ रहे हैं।  

जल्द रिलीज होने वाली फिल्म ‘फ्रीकी अली’ के प्रमोशन के दौरान वह काफी अच्छे मूड में दिखाई पड़े। नवाजुद्दीन इन दिनों इंडस्ट्री के किंग मिडास के तौर पर मशहूर हो रहे हैं। ताजा हुई मुलाकात में उनसे इसी जिज्ञासा के साथ बातचीत की शुरुआत होती है-

आपकी स्थिति तो किंग मिडास जैसी हो गई, सभी यह समझ रहे हैं कि आप जिस फिल्म में काम करेंगे, हिट हो जाएगी ?

लगता है, आप कुछ पेचीदा सवाल पूछने वाले हैं। इसलिए, कुछ ज्यादा चढ़ा रहे हैं। आप जैसा कह रहे हैं, वैसा कुछ भी नहीं है। यह तो ऊपर वाले की मेहरबानी और दर्शकों का प्यार है। 

इसका मतलब इसमें आपको कोई योगदान नहीं है ?

मैं इससे भी इंकार नहीं कर सकता हूं। वैसे भी मैं शुरू से यह मानता था कि बॉलीवुड में अभिनेता का मतलब सिर्फ गुड लुक्स और फिजिक ही नहीं होता है। साथ में एक्टिंग जानना भी जरूरी है। और मैं जानता था कि ये मेरे अंदर है। लेकिन दर्शकों ने जिस खुलेमन से मेरा काम कबूल किया है, उसके लिए मैं दर्शकों को फिर शुक्रिया कहना चाहता हूं। 

अच्छा, अभिनेत्री चित्रागंदा सिंह के साथ हुआ आपका असल विवाद क्या था ?

विवाद तो कुछ भी नहीं था। मुझे किसी के साथ कोई भी सीन करने में कोई आपत्ति नहीं है। आपत्ति तो उनकी ओर से थी। बेहतर होता कि आप यह सवाल सीधे उनसे पूछते।

शायद आपके कहने का उद्देश्य यह था कि बड़े हीरो के साथ ऐसे दृश्य करने में तो आपको कोई आपत्ति नहीं होती है?

भाई, मैं पहले ही साफ कर दूं, मैं सलमान-शाहरुख जैसा हीरो नहीं बन पाऊंगा। इसलिए मैं अभिनेता बनकर ही बेहद खुश हूं। मेरे साथ कोई बेडरुम सीन करे या न करे इससे मेरा कुछ आता-जाता नहीं है। लेकिन इस फिल्म ‘बाबूमोशाय बंदूकबाज’ के निर्माता को चित्रांगदा को लेकर जरूर कुछ प्रॉब्लम हुई थी। मुझे लेकर उसे कोई प्रॉब्लम नहीं था। इस विषय में इसके अलावा कुछ नहीं जानता हूं। 

क्या बात है कि इन दिनों सारे बड़े नाम आपको अपनी फिल्म में लेना चाहते हैं?

यह तो मेरे लिए अच्छी बात है। कभी ‘सरफरोश’ देखने के बाद आमिर ने कहा था कि वह मेरा परफॉर्मेंस देखकर मुग्ध हुए थे। मैं तब चकित था कि मेरे पांच मिनट के रोल की इतनी तारीफ  हुई थी। तब मैं यह यकीन ही नहीं कर पा रहा था कि ‘सरफरोश’ के लिए लोगों ने मुझे याद रखा है। 

‘किक’ करने के दौरान सलमान भाई ने कहा था कि मेरे साथ काम करने से पहले वह तीन-से चार बार रिहर्सल कर लेते हैं। और रईस करने से पहले शाहरुख ने मुझे बुलाकर मेरा ऑटोग्राफ  लिया था। मुझे याद है, कई लोगों ने मुझे चेतावनी दी थी कि सलमान, शाहरुख और आमिर के साथ काम करने पर कोई मुझे नहीं देखेगा।

मैंने इस बात को गलत साबित किया है। मैं जानता हूं, वह बड़े स्टार हो सकते हैं। पर मैं भी एक अभिनेता हूं। इतनी आसानी से मेरी उपेक्षा नहीं की जा सकती। 

इरफान कहते हैं कि उन्होंने सिर्फ  आपकी एक फिल्म ‘लंच बॉक्स’ देखी है?

इसमें आश्चर्य वाली बात क्या है। मेरी फिल्म हर कोई देखेगा, यह सोच ही गलत है। फिर मैं इतना बड़ा स्टार भी नहीं हो गया हूं कि भारत का हर शख्स नियम से मेरी हर फिल्म देखेगा। 

लेकिन इरफान थोड़ा अलग हैं। वह हर भाषा की फिल्म देखते हैं?

आप मुझे कितना भी विवाद में घसीटने की कोशिश करें, मैं आपके झांसे में नहीं आऊंगा। मैं उस तरफ  कदम ही नहीं बढाऊंगा। 

आप आज भी स्टारडम से दूर पहले के नवाज लगते हैं?

भाई, इस इंडस्ट्री में किसी का भी भविष्य सुरक्षित नहीं है। और मेरा तो और ज्यादा...क्योंकि, मेरे पास हीरो टाइप का चेहरा नहीं है। न जाने कब यहां काम समाप्त हो जाए, फिर से गांव में जाकर खेती-बाड़ी करनी पड़े, इसका कोई ठीक नहीं है। इसलिए, सूट-बूट पहनकर घूमने की बजाय पैरो में चप्पल ही ठीक है। 
                               

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें…

comments

.
.
.
.
.