Tuesday, Dec 07, 2021
-->
neena-gupta-syas-women-has-equal-rigth-to-dart-and-burp sosnnt

सेक्शुअल इक्वलिटी पर नीना गुप्ता ने फिर दिया बेबाक़ बयान

  • Updated on 4/28/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बॉलीवुड एक्ट्रेस नीना गुप्ता (neena gupta) सोशल मीडिया पर अपनी बेबाक राय रखने के लिए जानी जाती हैं। एक बार फिर नीना गुप्ता ने महिलाओं के लैंगिक समानता पर बयान देकर सोशल मीडिया पर सनसनी मचा दिया है। 

'थप्पड़' के बाद अब लोगों को हंसाएंगीं तापसी, मशहूर जर्मन फिल्म के हिन्दी रीमेक में आएंगी नजर

नीना ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो साझा किया, जिसमें वह समाज में महिलाओं से जुड़ी कुछ रूढ़िगत विचारधाराओं पर भी प्रहार किया हैं। 

  • नीना ने वीडियो में कहा कि ‘औरतों को गैस और बदहजमी नहीं होती, उनको बर्प्स नहीं आते? तो आजकल लॉकडाउन है, और इसमें ज्यादा खाना खाया जाता है।  बच्चों के लिए कुछ स्पेशल बनाया, वह भी खा लिया, इसके अलावा कुछ और करने को है नहीं, खाना-पीना। ऐसे में आप फार्ट भी करते हैं, हिंदी में बोलूं तो सबको बुरा लगेगा, महिलाएं फार्ट क्यों नहीं कर सकती? क्यों वे डकारें नहीं ले सकती?

नीना ने महिलाओं से खुलकर जिंदगी जीने का अनुरोध किया। उन्होंने आगे कहा कि, ‘हम महिलाओं को भी पूरा अधिकार है। अगर आप गैस को बाहर करना चाहते हो तो, इसमें कौन सी बड़ी बात है। आदमी तो इस काम को खुलकर करते हैं। वहीं महिलाएं इसे काबू करने की कोशिश करते हैं, अथवा साइड में जाकर इस काम को करती हैं।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Chikni kaee ke bavjood manju devi ke kadam ruke nahin #panchayat

A post shared by Neena Gupta (@neena_gupta) on Apr 24, 2020 at 8:05am PDT

नीना ने महिलाओं से जिंदगी को खुलकर व अपनी शर्तों पर जीने को कहा। नीना ने यह भी कहा, "हम महिलाओं को भी अधिकार है। अगर आप गैस को बाहर करना चाहिए। 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Video taken by my staff, Rajendar . . . . #quarantine

A post shared by Neena Gupta (@neena_gupta) on Apr 24, 2020 at 11:39pm PDT

 

नीना की इस बात को काफी पॉजिटिव रिस्पॉन्स मिल रहा है। लोग सहमति जता रहे हैं और ‘प्राउड ऑफ यू’ लिख रहे हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.