Monday, Jan 24, 2022
-->

Review: मेडिकल विभाग के करप्शन को उजागर करती है 'लाल रंग'

  • Updated on 4/22/2016

Navodayatimes

नई दिल्ली (ज्योत्सना रावत)। रणदीप हुडा स्टारर फिल्म 'लाल रंग' रिलीज हो चुकी है। फिल्म ‘लाल रंग' ब्लड स्मगलिंग को उजागर करती है। आजकल हर विभाग में भ्रष्टाचार है और 'लाल रंग' मेडिकल विभाग में फैले करप्शन को उजागर करती है। इस करप्शन से जुड़ा है एक ब्लड माफिया शंकर जो कितने लोगों को एचआईवी या ऐसी ही बीमारीयों का शिकार बना चुका है।

Review: मां बेटी के मासूम रिश्ते से सजी है 'नील बट्टे सन्नाटा'

निर्देशक सैयद अहमद अफजल ने फिल्म 'यंगिस्तान' के साथ बॉलीवुड में डायरेक्टर के तौर पर कदम रख था और अब उनकी दूसरी फिल्म 'लाल रंग' है। 

Navodayatimes

रणदीप हुडा फिल्म की अहम कड़ी हैं और उन्होनें  बेहतरीन प्रदर्शन किया है। पिया बाजपेयी ने 'पूनम' के किरदार में अंग्रेजी बोलने का एक अलग फ्लेवर दिया है, जो बेहद फनी लगता है। अक्षय ओबेरॉय ,रजनीश दुग्गल, मीनाक्षी दीक्षित और राजेंदर सेठी के किरदार भी काफी अच्छे है।

फिल्म का बेहतरीन पार्ट है इसके डायलॉग्स। वहीं फिल्म की एडिटिंग काफी कमजोर है और फिल्म थोड़ी स्लो है।

कहानी 

यह कहानी हरियाणा के करनाल की है जहां ब्लड बैंक से खून की स्मगलिंग एक धंधा है जिसका सरगना है शंकर (रणदीप हुड्डा) है, जो खुद मेडिकल कॉलेज से डिप्लोमा करता है साथ ही वहां के ब्लड बैंक से धांधले बाजी करके खून का अवैध धंधा करता है। 

Navodayatimes

इसी कॉलेज में राजेश (अक्षय ओबेरॉय) और पूनम शर्मा (पिया बाजपेयी) भी न्यू एडमिशन लेते हैं। और एक दूसरे के प्यार में पड़ जाते हैं। राजेश की शंकर से बहुत अच्छी दोस्ती हो जाती है और राजेश भी इस ब्लड स्मगलिंग का हिस्सा बनकर पैसे कमाने लगता है। जब इस इलाके के पुलिस इंस्पेक्टर गजराज सिंह (रजनीश दुग्गल) की नजर इन सभी बातों पर पड़ती है तो वो इस रैकेट से जुड़े लोगों की तलाश में जुट जाता है अब क्या गजराज सिंह के हाथ शंकर का गिरोह पकड़ा जाएगा और क्या इस रैकेट का खुलासा हो पाएगा। ये जानने के लिए आपको सिनेमाघरों का ऱुख करना पड़ेगा।

बता दें कि अगर आपको एक अच्छे विषय की समझ चाहिए और आप उम्दा एक्टिंग देखना पसंद करते हैं। तो ये फिल्म देखी जा सकती है

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें…एंड्रॉएड ऐप के लिए यहांक्लिक करें.

comments

.
.
.
.
.