Saturday, Dec 07, 2019
Richa chaddha statement on Metoo

MeToo पर ऋचा चड्ढा ने कहा- आरोपियों को काम करने से नहीं रोका जा सकता..

  • Updated on 9/24/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बॉलीवुड एक्ट्रेल ऋचा चड्ढा (Richa chaddha) की हालिया रिलीज फिल्म 'सेक्शन 375' (Section 375) ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छा खासा कलेक्शन किया है। इस फिल्म में ऋचा ने वकील की भूमिका निभाई है जो कि रेप पीड़ीतोओं को उनका हक दिलाती नजर आएंगी। वहीं हाल ही में अपने दिए एख इंटरव्यू में ऋचा ने बताया कि मीटू के आरोपियों को काम करने से कभी नहीं रोका जा सकता, क्योंकि उनके लिए कोई ब्लैंकेट रूल नहीं है।

'सेक्शन 375' को मिल रहे शानदार Reviews, अक्षय और ऋचा के काम की जमकर हो रही तारीफ

ऋचा ने बताया मीटू के आरोपी को काम करने दाना चाहिए या नहीं
अपने इंटरव्यू में ऋचा ने बताया कि किस तरह से मीटू के आरोपी का केस कोर्ट तक पहुंचता है लेकिन फिर भी उन्हें उस पीरियड के दौरान काम करने से नहीं रोका जा सकता। ऋचा से जब पूछा गया कि और देशों की तरह क्या यहां भी मीटू आरोपियों को काम का हक देना जाना चाहिए? 

अक्षय खन्ना और ऋचा चड्ढा की फिल्म 'Section 375' का पहला पोस्टर हुआ रिलीज

लीगल केस होना चाहिए
इस पर ऋचा ने कहा, "इस कंडीशन में केस को कोर्ट तक पहुंचना चाहिए। अगर इसे लेकर लीगली कुछ होता है तो काफई बड़ा बदलाव आ सकता है। प्रॉपर पुलिस केस भी बनना चाहिए। वहीं रहा सवाल अदालती फैसले आने तक मीटू आरोपियों को काम का हक देने की तो इश पर ऐसा कोई रूल नहीं बना सकते कि उन्हें काम न करने दिया जाए"।

सामने आया 'शकीला' का नया पोस्टर, बोल्ड लुक में दिखीं रिचा चड्ढा

झूठे आरोप भी लगाए जा चुके हैं
"इससे आरोपी और पीड़ित दोनों का नुक्सान हो सकता है। इसी के साथ हर केस की पड़ताल के बाद ही पता लगता है कि कौन आरोपी है और कौन नहीं। वरुण ग्रोवर और करण ओबरॉय पर झूठे आरोप लगाए गए थे। करण को तो जेल में भी रहना पड़ा था। जबकी सबूत उनके पक्ष में थे"।

Review: समाज के गंभीर मुद्दे वेश्यावृत्ति की अंधेरी दुनिया को दिखाती है 'लव सोनिया'

आगे ऋचा ने कहा, "इंडस्ट्री में औरतें लंबे समय से परेशान हैं। इसके लिए एक गाइडलाइन तो होनी ही चाहिए। वहीं जिसने यौन शोषण से रिलेटेड जोक्स क्रैक किए हैं उन्हें अलग सजा होनी चाहिए, साथ ही जिसने 
गलत तरीके से छुआ है उसके लिए अलग सजा"।
 

comments

.
.
.
.
.