Saturday, Aug 13, 2022
-->
richa chadha in film madam ji

आमिर की 'मोगुल' से पहले सुभाष कपूर ऋचा चड्ढा को करेंगे डायरेक्ट, जानें क्या होगी फिल्म में खास

  • Updated on 9/16/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पिछले लंबे समय से गुलशन कुमार (Gulshan Kumar) की बायोपिक को लेकर बॉलीवुड एक्टर आमिर खान (aamir khan) खूब चर्चा में बने हुए हैं। कुछ दिन पहले सुभाष कपूर (subhash kapoor) पर 'मीटू कैेपन' (#meetoo) के तहत आरोप लगने की वजह से आमिर खान ने इस फिल्म में काम करने से मना कर दिया था। लेकिन अब उन्होंने अपना फैसला बदलकर इस फिल्म में वापसी कर ली है जिसमें वो गुलशन कुमार के किरदार में नजर आएंगे। 

सुभाष कपूर की फिल्म करने पर तनुश्री ने आमिर पर कसा तंज, कहा- मेरी मदद तो नहीं की..

सुभाष कपूर शुरू करने जा रहे हैं 'मैडम जी' की शूटिंग
वहीं इस फिल्म की शूटिंग शुरू करने से पहले सुभाष कपूर फिल्म 'मैडम जी' की शूटिंग शुरु करने वाले हैं जिसमें ऋचा चड्ढा (richa chadha) लीड रोल में नजर आएंगी। वहीं फिल्म में उनके अलावा सौरभ शुक्ला (saurabh shukla) और अक्षय ओबरॉय (akshay oberoi) भी अहम किरदार में होंगे। 

सूत्रों के मुताबिक सुभाष कपूर ने फिल्म की तैयारी शुरू कर दी है। हाल ही में वो फिल्म के लोकेशन को फाइनल करने के लिए लखनऊ गए हैं। बताया जा रहा है कि अक्टूबर से फिल्म फ्लोर पर आ जाएगी। 

आमिर खान की बेटी इरा द्वारा निर्देशित नाटक को प्रड्यूस करेंगी ऐक्ट्रेस सारिका

सुभाष कपूर को लेकर आमिर ने दी सफाई
वहीं ’मोगुल’ में वापसी पर लिए गए इस अचानक बदलाव पर बात करते हुए आमिर खान ने शेयर किया था कि 'किरण और मैं मोगुल का निर्माण कर रहे थे और मैं इसमें अभिनय कर रहा था। जब हम फिल्म कर रहे थे तो हमें नहीं पता था कि माननीय सुभाष कपूर के खिलाफ एक मामला चल रहा है। मेरा मानना है कि यह पांच या छह साल पुराना मामला है। हम मीडिया स्पेस में बहुत ज्यादा नहीं हैं, इसलिए मुझे लगता है कि इस पर हमारा ध्यान नहीं गया। 

आमिर खान ने बदला अपना फैसला, सुभाष कपूर के साथ 'मोगुल' में करेंगे काम!

आमिर ने मी-टू को लेकर कही ये बड़ी बात 
आमिर ने कहा कि 'पिछले साल, मी-टू मूवमेंट के दौरान, यह मामला सामने आया था और जब हमें इसके बारे में पता चला, हम बेहद परेशान हो गए थे। किरण और मैंने इसके बारे में विस्तार से बात की थी। हम एक सप्ताह से अधिक समय से बड़ी दुविधा में थे।'

आमिर ने आगे ये भी कहा कि 'कानून किसी व्यक्ति को तब तक निर्दोष मानता हैं जब तक कि वह दोषी साबित न हो जाए। लेकिन जब तक अदालत किसी नतीजे पर नहीं पहुंचती तब तक क्या उन्हें काम करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए?  क्या उन्हें सिर्फ घर पर बैठना चाहिए ? क्या वे खुद के लिए आमदनी नहीं कमा सकते?'

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.