Sunday, Nov 28, 2021
-->
saif ali khan and arjun kapoors film bhoot police review

REVIEW: सैफ अली खान के फैंस और हॉरर मूवी देखने के शौकीनों के लिए है 'भूत पुलिस'

  • Updated on 9/10/2021

फिल्म: भूत पुलिस
एक्टर: सैफ अली खान, अर्जुन कपूर, यामी गौतम, जैकलीन फर्नांडीज, राजपाल यादव, जावेद जाफरी, गिरीश कुलकर्णी और जेमी लीवर
डायरेक्टर: पवन कृपलानी
ओटीटी: डिज्नी प्लस हॉटस्टार

ज्योत्सना रावत। अभिनेता सैफ अली खान के फैंस और हॉरर मूवी देखने के शौकीनों के लिए है 'भूत पुलिस'। डराएगी भी और हंसाएगी भी! यदि आप सैफ अली खान के फैन हैं तो भूत पुलिस आपके लिए बिल्कुल सही फिल्म है। डिज्नी हॉटस्टार पर रिलीज हुई भूत पुलिस लगभग दो घंटे की है।

कहानी

फिल्म में दो भाई और दो बहनें हैं। सगे भाइयों  विभूति  वैद्य (सैफ अली खान) और चिरौंजी वैद्य (अर्जुन कपूर) के पिता तांत्रिक थे। भाइयों के पास विरासत में मिली पांच हजार साल पुरानी किताब है। जिसमें भूतों को वश में करने, पराजित करने और इस संसार से मुक्त करने के सूत्र हैं। किताब की पुरानी भाषा पढ़ी नहीं जा सकती। विभूति ने उम्र में अपने से कहीं छोटे चिरौंजी को पाल-पोस कर बड़ा किया और दोनों भूत भगाने के लिए यहां-वहां बुलाए जाते हैं। यहां से शुरू होता है डर और कॉमेडी से भरपूर एक्शन। 

मजा तब आता है जब दोनों फीस के साथ जीएसटी भी मांगते हैं। विभूती मानता है कि भूत-प्रेत नहीं होते और दुनिया वहम में जीती है। जबकि चिरौंजी का पारलौकिक संसार और किताब में पूरा विश्वास है। दोनों सदा प्यार भरी नोंक-झोंक में उलझे रहते हैं कि उन्हें ढूंढते हुए एक दिन भूत-मेले में धर्मशाला के नजदीक सिलावट इस्टेट के चाय बागानों की मालकिन माया (यामी गौतम) पहुंचती है। विभूति-चिरौंजी के पिता ने 27 साल पहले उनके इस्टेट को एक प्रेतनी, जिसे स्थानीय भाषा में कचकंडी कहते हैं, से मुक्त किया था। वह वापस आ गई है।

दोनों भाई जाते हैं तो पता चलता है कि माया की बहन कनिका (जैकलीन फर्नांडिस) भी है। वह माया से ठीक विपरीत इन बातों को नहीं मानती और गुजर चुके पिता की जायदाद में अपना हिस्सा लेकर मॉडर्न जिंदगी जीना चाहती है।

क्या है पूरा मामला? क्या सचमुच कचकंडी है? क्या ड्रामा चल रहा है? क्या सचमुच भूत हैं? भूत झूठ हैं तो क्या है पूरा मामला? भूत सच हैं तो विभूती-चिरौंजी कुछ कर पाते हैं या नहीं? यह तो आपको फिल्म देखने के बाद ही पता चलेगा।

एक्टिंग

सैफ अली खान ने अपने किरदार के साथ न्याय किया है। वहीं अर्जुन कपूर की एक्टिंग का भी डिसेंट तड़का देखने को मिलेगा, जो आपको पसंद आएगा। बाकि के सभी कलाकारों ने अपने -अपने हिसाब से ठीक-ठाक काम किया है।

डायरेक्शन

इस फिल्म में कॉमेडी, डर और सस्पेंस का तड़का अच्छे से दिया गया है। कुल मिलकर फिल्म देखने लायक है। रेटिंग के हिसाब से इस फिल्म को 3.5 से 4 स्टार तक रेटिंग दी जा सकती है।

 

comments

.
.
.
.
.